Editorial Archives (published on FB+ page earlier)

You are at / EDITORIAL ARCHIVES page

Note - Because of some personal reasons writing  Editorial of this  blog has been  stopped after 22.10.2020.

यह मुख्य पेज नहीं है। उस पर जाने के लिए, please type in the address bar or Google search- bejodindia.in

You are at Editorial Archives page of bejodindia.in
EDITORIAL 22.10.2020: "हमने  मंज़िल  बना  ली है  अपनी, / अब  फ़कत  रास्ता  बनाना  है" -Mr. Kundan Anand, the highly talented young poet of Bihar, says that the primary task is to fix your goal. Once you do it then you can decide how to achieve it. Each 'sher' of this ghazal depicts a different philosophical proposition.The typical Kundan Anand ghazal will talk about the ultimate point of life that is death, will contain some terms from dialect like "alaanaa-falaana' as used in the present case and will show a forceful grit or resistance. Now we talk about a legendary ghazalkar named 'Adam'. The renowned national poet Mr. Swapnil Shrivastava has posted his memoirs with the poet 'Adam' - "इस हुजूम में अदम जी का चेहरा अलग था । वे शायर से ज्यादा किसान लग रहे थे ।"  "शायद आज मनुष्य भी इन्हीं पेड़ों की तरह / अपनी चेतना से जड़ होता जा रहा है।"- Mrs. Lata Prasar since last year or so, has taken to writing issues based poems. Here she is warning the people not to let their consciousness doze off.   "जाने किधर होगा / रहबर का ठिकाना /परती उस मैदान में / फकीर हवा तन्हा ही / एकमन तिनके जुटा रही" - Rani Sumita has experiment with a different sort of rhyme with some melancholic flavour. 

You are at Editorial Archives page of bejodindia.in
EDITORIAL 21.10.2020:  "'कुन्दन'  ख़त्म कहाँ होती है कोई ग़ज़ल /अब तक  लिक्खे शेर यही  समझाते  हैं" - Mr. Sanjay Kumar Kundan, the famous Indian poet introduces the readers to the ultimate truth of incompleteness. The beauty of muse is that it always remains limitless and you can never express anything completely. The vividness of life is defined only by it's incompleteness. A life which is complete is dead.   "'इस प आपने है क्यों दिमाग रख दिया / दिल है ये, हटाइए! हटाइए दिमाग।" - Mr. Kundan Anand, the icon of young poets of Bihar vociferously reestablishes the supremacy of feelings over the intellect.   "'संकट में है  मनवीणा के तार सनम / संकट  में  सन्तूर   दिखाई  देता  है"- Mr. Sagar Anand, the evergreen romantic poet of Bihar is pensive as he points out the distractions and difficulties to the peace loving community of artists in the modern era.  "जितनी देर में मैं तुम्हारे भीतर / बनाता हूं अपने लिए थोड़ी जगह / तैयार हो चुके होते हैं उतनी देर में / जाने कितने परमाणु बम / छूट चुके होते हैं कई प्रक्षेपास्त्र" - Mr. Dhruv Gupt, a celebrated national poet says that the present age of the world is full of turmoil. Mass devastation is the new normal and you don't know that even the little time you take in showing your love to your beloved might be enough for many atom bombs to explode.

You are at Editorial Archives page of bejodindia.in
EDITORIAL 20.10.2020: "इसलिए सुन ए औरत  / अपने दुखों को कठोर बना और बन जा बुत / हमेशा के लिए तू / कि पत्थर प्रजनन नहीं करते" -  Mrs. Uma Jhunjhunwala is a famous dramatist, actor and writer based in Kolakata. In the backdrop of increasing crime on the females, she says that it was better that a woman turns into a stone like Ahilya  so that even though losing all pleasure of a vibrant life she could be saved from rape and murder. "राजनीति है, इसमें सबकुछ ठीके है /इधर आइए,  उधर जाइए   नीके है" - The poem presented in typical Bihari language is a big satire on the dubious actions of crossing over by the leaders over before or after the elections. This happens for the purpose of securing the cosy chair.

You are at Editorial Archives page of bejodindia.in
EDITORIAL 19.10.2020:"और सबसे बड़ी बात तो यह कि  / यह जानते हुए भी कि प्रेम से  / जन्म होता दुख का  / मैं मृत्युपर्यंत चाहता हूँ  / पड़े रहना प्रेम में" - Mr. Raj Kishore Rajan is a well-kown serious poet in Bihar whose collection of poems "Kushinara se gujarate hue" has drawn the attention of many reputed critics. He states categorically that even though it's only pain and gloom that are the destiny of love still he loves to remain in love. The essence here is that life is meaningless without love. "तुम  उडो तो तुम्हारा ये आकाश है / वरना सपनों को कोई मसल जाएगा" - Mr. Arjun Prabhat is also a superb 'ghazalkar' who is exhorting to show courage otherwise your dreams will be crushed by the circumstances. "बात नहीं पहुँचेगी उस तक ये सच है पर क्यूँ ये लगे / बात ज़रूर सुनेगा एक दिन इसके हैं इमकान बहुत"  - Mr. Sanjay Kumar Kundan, the veteran national poet whose each of 'sher's takes you to a different facade of neglect, says that his love to his beloved is so deep that he cherishes an euphoria of getting heard though it is technically impossible that his feelings reach her. Though this has been said in a romantic context it's exposition in a socio-political context can also not be denied.     "कटती   गिरती  रहतीं   हर सू / नफ़रत  की   हैं   मारी   शाख़ें"- Mr. Prem Kiran is also a veteran poet in Patna who says that the hate cuts down the branches of a tree that otherwise would otherwise have been intact with it/

You are at Editorial Archives page of bejodindia.in
EDITORIAL 18.10.2020: ."शक्ति के साथ सकारात्मक होते हुए क्षमाशील होना मनुष्य की संपूर्णता की अनुरक्ति का अंतहीन महाकाव्य है। अंतःमन और व्यवस्था की आसुरी नकारात्मकताएं हमें दु:ख-दैन्य के साँकल में बांधे रखती हैं। उनको तोड़ देना वास्तविक नवरात्र है।"  - Mr. Parichay Das is a renowned national writer residing in Delhi. Mr. Das who is also a topmost current authority in Bhojpuri has posted an article describing the importance of worship of power-goddess Durga. He does not limit himself to religious allocution rather dives also into the nitty-grity of current state of affairs. "मौज में बनाता हूँ जिस्म जिस परिंदे का, / रूह काँप उठती है उसके पर बनाने में।" -  Mr. Aks Samastipuri is an unparalleled romantic young poet . The whole body of a bird might be beautiful but it is actually represented by its wings, the symbol of aspirations. And since it is almost impossible to fulfill all that one wishes the feelings of the poet attached with the plumes are really too high.   "आदमी तक न था जो किसी के लिए, / मर गया है तो अब  देवता  हो गया।" - Mr. Kundan Anand is a wonderful young poet who says that it is more meaningful to treat a person well when he is alive. After his death any praise to him is futile. "मौन ने फिर कहा कि संभालो मुझे / थक गया हूं बहुत, लिख भी डालो मुझे..!" - Mrs. Ruchi Uniyal Bahuguna is a good poet in Dehradoon. Recenty she was live on Akhil Bhartiya Sarvabhasha Sanskriti Samanvay Samiti's digital platform. She stresses on the expression of internal feelings as a measure to keep oneself emotionally normal  and fit.

You are at Editorial Archives page of bejodindia.in
EDITORIAL 17.10.2020: Mr. Dhruv Gupt, a celebrated writer of India is  very sad on the state of affairs of fair sex in general. The male gender of human being have never respected the woman the way it should have been. So on this auspicious occasion of Durga Puja which is in fact a worship of women power he urges that only women and women have a right to participate in it in true sense since the whole of men community is guilty of not treating with the women class well enough as a whole.  सभी इल्ज़ाम हैं मुझपर सभी इल्ज़ाम हैं जायज़ / शिकायत में छुपी उसकी इनायत देख ली मैंने" - Mr. Naveen Neer is completely in a romantic mood. But there is absolutely a different sombre note in the voice of Mr. Sanjay Kumar Kundan, the veteran poet of India - "कोई तो शाना  तेरे आँसुओं से  नम  हो जाए / ज़ब्त का  ये फ़रेब  मौत तलक  खाएगा क्या".Mr. Arjun Prabhat is a responsible poet who calls a spade a spade - "नेह कूप में ज़हर घोल कर क्यों हंसते हो / कहते दिन को रात तुम्हारी ऐसी की तैसी." 

You are at Editorial Archives page of bejodindia.in
DITORIAL 16.10.2020: "मैं समुंदर की लहरों को तोड़ता हूँ / मेरे ऐसा करने से तुम्हारी कश्तियाँ  / बाआसानी किनारे लग सकेंगी" _ Mr. Shahanshah Alam the epitome of contemporary Hindi poetry in terms of craft, is breaking (and not cutting across) the waves of the sea of problems. "To break" gives you a sense of fighting back which could not be connoted by "to cut across". It is befitting to an experienced poet like Mr. Alam to get the hang of nowadays problems but a talented young poet Mr. Kundan Anand is learning it a hard way - "जो किसी का हुआ ही नहीं आज तक, / ये भरम है ते'रा वो ते'रा हो गया। // ज़िंदगी जिस जगह पे लगी थी उसे, /वो पहुंचके  वहां अधमरा हो गया। // इस ज़माने से हमको मिला जो ज़हर, / वो ज़हर अब ज़हर की दवा हो गया।" Somewhat in line with the same temperament is the stanza of the 'navageet' by  Mr. Ravindra Upadhyaya - "जिन्हें प्यार आदर्शों से है / गर्दिश में हैं उनके  तारे / सच की राह चला जो राही / उसके सम्मुख संकट सारे / झूठ प्रगल्भ हुआ है इतना /दारुण सच का हकलाना है !" Still the hope is not going to diminish and so Mr. Sunil Kumar, a poet of noticeable flair in Urdu romance says - "गुल तो खिलना है बाद पतझड़ के / मौसमों में बहार शामिल है."

You are at Editorial Archives page of bejodindia.in
EDITORIAL 15.10.2020: "प्रसवकक्ष में चीख़ती औरतें  /किसी वर्ग में नहीं गिनी जाती हैं  / न इनका कोई वाद होता है  /ये बस औरतें होती हैं / और शिशु बस शिशु होता है / वर्गविहीन, जातिविहीन / इस दुनिया का सबसे पवित्र कक्ष / प्रसवकक्ष है।" Seema Sangsar is a well-known poet in Bihar who writes forcefully about the deprived classes. Lately she is seen to be writing about female issues. She has rightly highlighted that a woman has unique ability to give birth to another unit of human being and while doing so she faces the  same amount of unbearable pain and still she fosters the same amount of unqualified and never-ending love to her newborn progeny notwithstanding caste, creed or ideology of herself. "जन्म लेने दिया / अपने अंदर / एक स्त्री को / और बन गया सखी / अपनी प्रिया का / करने लगी है अब / वह साझा – / हर्ष विषाद / उपलब्धियाँ कमजोरियाँ / यहाँ तक कि छोटी- छोटी बातें / रसोई से सेज तक की" - Mr. Rajya Bardhan, Kolkata has recently retired from Railways deptt but much before it he has established himself as a dedicated Hindi poet of India worthy to be noted. In this poem he has raised a very important point in family life scenario. Usually what happens is that a husband expects his wife to see his problems through a masculine eye and himself forgets without fail that he too needs to see the problems of his wife through a feminine eye. "माना अँधेरों ने शहरे-दिल पे क़ब्ज़ा कर लिया / चोर  दरवाज़े   से   आई   रोशनी  बचती  हुई" - Mr. Sanjay Kumar Kundan, is a classy  'ghazalkar' of India who always speaks straight from his heart. He always talks about the infirmities and discomfiture but the way he puts them engenders sort of glory in the minds of the reader. // Mrs. Neha Mishra posts time to time the "Anahiata Chronicles" about the pranks of her infant child authored many a time by Ashish. This is so interesting to go through it. Just look at a part of it - Whoa, where did my nails go? Till today morning I had them, in fact Dadi's nose and Mumma's cheeks still have the marks! Where did it go? And then I see a shiny finger type thing and all my nails cut lying with it. Later on I got to know that it's called "nail-cutter".  I tell you these grown ups are frauds. They put me to sleep and then stealthily cut my nails. How do put that shiny red paint now?

You are at Editorial Archives page of bejodindia.in
EDITORIAL 14.10.2020: "हुस्न ही हुस्न से घिरा हूँ मैं ! / फिर भी तेरा बना हुआ हूँ मैं!" - Mr. Aks Samastipuri the renowned young ghazalgo of India concentrates basically on romantic themes. Though the communication with the surroundings is also significant time to time in his ghazals. Mr. Devendra Kr. Devesh, a Regional Director at Sahitya Academy is himself a good poet. His poem on the plight of 'Shudras' in the Indian caste system raises the vital question of why those who do each and every bit of job necessary for the preparation of holy 'puja' (worship) and without support of whom no Puja can be performed are themselves deprived of joining the puja ceremony of God ? Mr. Anupam Kumar has translated Mr. Devesh's Hindi poem and a shred is here - "Every day you get the offerings / of our blood-sweat-toiled  food grains ... / But hey! Feeder! / Despite all these /We have been deprived to receive your blessings."."बात में किस वे बड़े हैं तुम जिन्हें कहते बड़े /मानकर लघुतर स्वयं को संकुचित क्यों हो खड़े" - Dr. Ravindra K Das has this time experimented with the old style of verse as used by Hariaudh or Maithili Sharan Gupt. "है अंधेरी रात कोहरा भी घना है / और उजालों की तरफ़ जाना मना है..!" - Mr. Purushottam N Singh is pioneering a new genre of prose in Hindi literature propounded as "Live Review" in line with Film Review or Drama Review.  His live reviews come in handy with the modern trend of online live literary or musical event. In the present instance he is writing about a solo presentation by the lyricist Mr. Gyanchand Marmagya from Bengaluru. "दैवयोग से ढाबे पे उनके, आ पहुंचा एक नेक फूड ब्लॉगर. /देख स्वाभिमानी बुजुर्गों की दुर्दशा, दिल ने कहा कुछ कर." - Mr. Sanjay Verma, in his poem has depicted the real story recently in news. The matter was so that an old couple who have been running an eatery was facing financial crisis because nobody was turning at their 'dhaaba' to get foods in the Covid scenareo. When a blogger visited there by chance he wrote about them and from the next day his eatery was consistently thronged by the large number of clients.

EDITORIAL 13.10.202 : "मत डालो गले मे रस्सियाँ /इनके सहारे चढ़ते हैं/ कुछ लोग पहाड़ों पर/ मत डूबो तालाबों या कुओं में / यहाँ आकर पानी पीते हैं मेहनत से थके प्यासे लोग"- the composer of these lines is Mr. Bhanupratap Singh Meda from Bhopal who has successfully demoralised the intent for committing suicide. A person who commits suicide does not only waste his invaluable life but also creates greater hindrances to other's normal course of life. Here we should also bear in mind that though the attempt to kill oneself should never be glorified why it should happen in the first place? "ग़रीब मारा गया कि जिसने किया नहीं था गुनाह कोई, /बरी हुआ है बड़ा वो मुज़रिम शहर का महंगा वकील करके।" - Mr. Kundan Anand is a poet who has made a quantum jump in terms of quality of ghanzals in recent years. He is undoubtedly a rising star whose ghazals are now addressing variegated nuances of modern day complexities caused by callousness of the society and system. This is the mainstream poem and in the same a virtuoso senior artist is Mr. Bhagwat Sharan Jha 'Animesh" who is a renowned dramatist, actor, director and poet in Bihar. He exhorts the  poets nowadays to get out of the illusions and delusions of literary glitters - "ओ कवि ! / अब नहीं तो कब तोड़ोगे दुविधाओं का भ्रमजाल ? / गलतफहमियों की दुनिया में कब तक जीते रहोगे ? / तुम्हें सीधे प्रतियोगिता क्षेत्र में घूमती मछली की आँखों पर / लक्ष्यवेध करना है". Mr. Kumar Pankajesh, a good poet has posted comparatively a simpler ghazal in this instance. One 'sher' has created beautifully an imagery of somewhat a novel design - ""ज़ख़्म मुझको मिले हैं फूलों से /ख़ुशबुओं से बदन है तर मेरा". Mr. Sagar Anand wields a magic wand and just by rotating it through fingers this evergreen poet  comes up always with absolutely a fresh air of romance -  "मनमौसम मयख़ाना होने वाला है/ फिर   कोई  दीवाना  होने वाला है / आँखों ने ही पहले पहले देखा था / आँखों  पर  जुर्माना  होने वाला है".

You are at Editorial Archives page of bejodindia.in
EDITORIAL 12.10.202 : "मैं हूँ सहरा की एक बंजारन / इन सराबों में ही मेरा घर है"- Mrs. Sadaf Iqbal knows well that the quest for love is just a mirage though love sans makes the life inanimate. She is a poet of high clibre and well-known in India.. Mr. Avinash Aman has posted two of her ghazals and one nazm that are peace loving and romantic in nature. Let us cite one of -  "मुझे बिछाता है मुझ पर हाई सजदे करता है  / मुझी से मेरा वो ईमान माँग लेता है." And also Mr. Shahanshah Alam took no time to post the poems of Mr. Avinash Aman who was presenter of other poet as is seen above. Mr. Avinash Aman is a known authority in Urdu and has authored several books and translation in that language. His romanticism and worldliness go hand in hand. And you know nowadays the hours a person spend off the mobile or computer is just like the roughage part of the day."आपको देखा जो अरसे बाद अपने पोस्ट पर  /यूँ लगा के हाथ दुनिया के ख़ज़ाने  लग गए"  He also have the guts to resist - "घिसी पिटी सी रिवायत में ढल नहीं सकता  /  तुम्हारे साथ मैं अब और चल नहीं सकता". Mrs. Kiran Singh is a prolific writer in Patna who has posted nice dohe (two-liners). Her 'dohe' are primarily teachings related to day-to-day life - "बेइमान दुनिया हुई , बेगैरत इन्सान। / ऐसे में है मूर्खता, बनना किरण महान।।" Mr. Meraj Raza is a good painter of portraits and also a writer of child literature. His child poem is interesting. About a kind of sweets called "Budhiya ke baal"  or  "Hawa-hawai" he aptly writes  - "गली-मुहल्ले में जब जाऊँ,/ सब बच्चों को मैं ललचाऊँ। / हल्की हूँ मैं रुई सरीखी, / रेशा-रेशा जाल।" Mr. Purushottam N Singh, a retired ADG of Doordarshan has posted very interesting account of a live program presented by the poet Sarv Mangala Som - "अपने हालात का ख़ुद एहसास नहीं मुझको / औरों से सुना है कि परेशान हूं मैं....!"

You are at Editorial Archives page of bejodindia.in
EDITORIAL 11.10.2020: "जिस गति से भागते हो मुश्किलों से,/ उस गति से तुमको टकराना पड़ेगा।" Mr. Kundan Anand, the renowned young poet of Bihar puts his thought to the broader public. Each sher of his ghazal is disseminating vital learning of life in a roaring tone. His another two-liner of this poem somewhat milder and with a tinge of romance is - "तुम मे'रे चेहरे को पढ़कर जान लोगे, /या तुम्हें भी कहके बतलाना पड़ेगा।"And here is another senior poet - "पता तो करो  / कहीं उसे बिच्छू ने डंक तो नहीं मारा है / बेवजह चीख़ता- चिल्लाता है / रह- रहकर उछलता- कूदता है / बदहवासी में अगड़म-बगड़म बकता है /  कौन है यह श्रीमान / लोग कहते हैं /  वह न्यूज़ एंकर है / जनतंत्र के चौथे स्तम्भ का ठेकेदार है / यानी पत्रकार है" -  Mr. Nilanshu Ranjan erstwhile himself  been a TV journalist is grossly irked over the nonsense sensational journalism.The observations made by him are worthy to pay attention. Not only of the journalists but also the disposition of corporate world has gone awry- "देश की त्रासदी का हर्जाना कम वेतनभोगी के दो महीने के वेतन देशहित में दान करने का फरमान जारी कर चुकाना चाहती है कंपनी। पर सभी कर्मी अपनी बेबशी के आगे घुटने टेक देते हैं और इस फरमान को सिरे खारिज कर देते हैं।" - Mrs. Lata Prasar, the most active online female writer since quite half a dozen of years or so has posted a riveting review of the 35th issue of the literary Hindi magazine "Doaba' edited by the renowned litterateur of India and ex-chairman of Bihar Vidhan Parishad Mr. Jabir Hussain. And here is another book -"पुस्तक में उत्सव के रंग हैं, परम्पराओं की खुशबू है, जंगलों की महक है, झरनों के सुर हैं, तो स्वाद का जादू भी" - Md. Nasim Akhtar is a ghazalkar and writer of Bihar and enjoys a considerable amount of fan-following. He has made a brief review of a collection of travelogue authored by Dr. Qayanat Qazi.

You are at Editorial Archives page of bejodindia.in
EDITORIAL 10.10.2020: "अगर “न” ने घटा लिया और समाचार के घोड़े की लगाम “हाथ” में चली गयी तो जिन्हें गुल खिलाना है वे क्या करेंगे? ठीक इसी तरह अगर “ज़” ने घटा लिया और समाचार एक ख़ास रंग के फूल में बदल गया तो वे जो हाथ मल रहे हैं उनकी हथेलियों के फफोलों का क्या होगा ?  समझ रहे हैं न आप घटाने का माहात्म्य!" - Dr. Vinay Kumar has posted a satire par excellence and I am stating in full of my consciousness that I have not come across earlier a satire of such a high class that should be comprehensible too for a common man. He has given full account of today's 'madaari' a full-scale spectacle in the name of journalism. Keeping apart a couple of exceptions The TV journalism of India has lately reached an abysmally low level of sycophant and chauvinistic journalism. The poorness of quality is though inexplicable but a maestro like Dr. Vinay Kumar has explained it in all it's visible ramifications. The Nobel Prize 2020 for literature has been given to the US poet Louise Gluck and Ms. Pankhuri Sinha, a bi-lingual prolific poet in English and Hindi has presented a lively translation of it - "आज पहली बार मैंने तुम्हें  / सचमुच याद किया है  / उस लम्हा, जबकि उठाये अपना कांटा, छुरी  / मैं दरअसल, ये कह रही थी  / कि कितना प्यार है मुझे  न्यू यॉर्क से!". Another female poet is Rashmi Saxena whose craft  is precise and focused. There is a pristine flow in her poetic dispensation and it is yet free from babbles. - "बहुत कुछ / पार कर जाते हैं हम /संवेदनाओं की शून्यता / दंभ के दुर्गम पहाड़ / मर्यादाओं की हदें / रक्तरंजित श्मशान की चौखटें / चाँद को छूए जाने के क़ानून / नहीं पार कर पाते हैं हम / रिश्तों के चारों ओर खिंचे घेरे / अहं की मज़बूत दीवारें / बेबस आँखों की गहराई  / हॄदय के बीच खुदी खाई / गालों पर ठहरे खारे समुंदर / मन की सूनी देहरी / चेहरों पर तजुर्बों की खिंची रेखाएँ / मज़हब की सरहदें / और शुष्क ठोस बर्फ़ सी /प्रेम की चट्टानें।" The accomplished veteran 'poet of India Mr. Sanjay Kumar Kundan has posted a Nazm and a part of it is - "और दिल के शिकस्ता शीशे की / इक इक किरची को छू-छूकर / उन सारी कड़ियों को जोड़े / और नमआलूदा आँखों से / कुछ जादुई रंगों को चुन ले / और जोड़ी हुई उन कड़ियों को / अपना वो बनाए कैनवस इक / तस्वीर कोई तामीर करे / और इक दिल की तस्वीर बने" He says that the mundane affairs of life have no significance in true sense as the essence of life lies actually in the experiences felt by the heart of a person and the whole of such experiences are locked in the personal history of a man.


You are at Editorial Archives page of bejodindia.in
EDITORIAL 9.10.2020: "डगर डगर भटकाती है / दिल के अंदर है तो क्या"- The towering pillar of contemporary Hindi poetry Mr. Dhruv Gupt describes beautifully the role of burning desires consistently aflame within one's heart. Mr.Suresh Kantak has made a factual review of the collection of poem "Lal chonch wale pankshi".  "द्रोपदी जैसी कविता रो पड़ी दरबार में, और दुशासन हर कवि की दृष्टि थी बस दाम पर।" - A highly talented young poet Mr. Kundan Anand comments on the behaviour of those who write with venal ambitions.  Mr. Kumar Pankajesh, a talented poet writes the adherence to the higher principles is the another name of religion - "अपने ज़मीरों* से बातें करें हम / दिल इसको रब की सदा मानता है". One article on the status of third gender has been posted by Mr. Raj Mohan Raj who is a social activist and writer. It will lead you to think forward to those who has not made any fault and are still discriminated widely.

You are at Editorial Archives page of bejodindia.in
EDITORIAL 8.10.2020: "जाओ / किसी क्यारी के पास / कि खिला है एक गुलाब / प्रतीक्षा में,/ तुम्हारे स्पर्श की" -Rashmi Saxena,  Shahazahanpur possesses a craft which is well-knit and effective in forceful expression. Sheer unblemished sensitivity is her USP (unique selling point). But life in modern era has also an alternate face which is quite fatal -  "लेकिन जो प्रहारक होता है / यह बिलकुल नहीं जान रहा होता / कि किसी हत्यारे के गिरोह का / सदस्य हो जाता है वह इस तरह।" (-Shahanshah Alam) And still the irony is that one who is contributing to the menace thinks that his little bit is just a game or joke and would not lead to the ultimate damage to some living beings. The senior national poet Mr. Shahajahan Alam has unearthed this sickening trick used by sly people. "मौत के सामने थी खड़ी जिंदगी।  /लड़ के ताकत स्वयं का दिखाती रही।" - Mrs. Kiran Singh is a very active and deserving poet has expressed thre psychological state of affairs just before the major heart surgery.  A renowned national poet Mr. Swapnil Shrivastava writes in his poem that the time itself has been cremated -  "ये जो चिता आपको दिखाई जा रही है / वह मामूली सा अग्निकांड है / जिसमें लोग समय की अस्थियां /ढूंढ रहे हैं". 

You are at Editorial Archives page of bejodindia.in
EDITORIAL 7.10.2020: Dr. Ravindra K. Das, the renowned contemporary Hindi poet of India has given a quintessential statement - "जब जो जैसे भी गलत लगे / हम कहते रहें गलत है, /गलत है / यही धर्म है, यही न्याय है, यही नीति है / यहीं तक हमारी हद है". A creative person can't close his eyes. He will and he must say what is wrong notwithstanding whether it is heard or not. "विकट है पितृसत्ता की दीवारें / नामंजूरी है माहौल / दिवंगत प्रस्तावनाएं /अभद्र है चाहत / अमाप्य ललक /अदम्य ताप /अक्ष्म्य है दखल / अक्षुण मर्यादाएं विपन्न सब तैयारियां"- Ms. Pankhuri Sinha, the poet of these lines is a well-known feminist poet  of India who has equal authority over Hindi and English. She is a lady who has interacted with her life very closely. A woman faces the iron wall of patriarchy much more harshly in her post-marital singlehood than a common woman does. The contention put forth by her is an undeniable truth that at one hand, a single woman is supposed to abide by innumerable limits but on the other hand the society pokes into her privacy and behaves in a very callous manner. "साँस लेना मुहाल है मेरा / ज़िंदा रहना कमाल है मेरा" - Mr. Kumar Pankajesh is a good poet who ruminates over the life in pandemic backdrop. The editorial of the day includes the interesting a report by Mr. Purushottam N Singh, a poem by Mrs. Lata Prasar and a Maithili poem over mobile addiction by Mrs. Kanchan Kanth.

EDITORIAL 6.10.2020: "एक रचना  / जितनी सच लगती है कला मेें / संभव है  उतनी ही झूठी हो कथ्य में"- The dichotomy does not lie only in our written piece  but in our personality too. Moreover everyone is living in his own cocoon of isolation so the apparent communication is only virtual and not real in a  true sense, These lines have been taken from the creation of the talented poet Mr. Sanjay Shandilya whose four precipitating poems have been posted by him. "आग के अवशेष / अतिरंजित रहे जो / विषबुझे संबंध लेकर युद्धरत हैं / जो पढे जाते नहीं  / न्यायालयों में / साक्ष्य में प्रस्तुत हुए अनमोल खत हैं" - Mr. Jagadish Jaind Pankaj, the highly perspicacious poet gives his take on the prevailing scenario which is unfortunately a highly fabricated one and toxic. Mr. Kundan Anand is a young poet but knows well what he is dealing with - "अपने बच्चों को सीखाना उड़ना / अपने बच्चों के पर कटाना मत।" Sure, the eternal quest for openness begins well within early childhood.

EDITORIAL 5.10.2020:  "मुझे संरक्षण नहीं चाहिए /न पिता का न भाई का न माँ का /जो संरक्षण देते हुए मुझे / कुएँ में धकेलते हैं और /मेरे रोने पर तसल्ली देने आते हैं /हवाला देते हैं अपने प्रेम का" - Dr. Mamata Shubha (shared by Mr. Arun Sheetansh)  raises the voice of a female of this country who does not seek any patronage from her father or brother in her adulthood rather she wants to resist on her own, the unreasonable bondage specially tilted against her gender.  The highly talented young poet Mr. Rohit Thakur laments the present day condition against women and says that - "हमारी क्रूरता से / खत्म हो जाएंगी लड़कियाँ". The well-known veteran poet Mr. Prem Kiran says the self-explanatory 'sher' in his ghazal - "अच्छी भली रफ़ाक़त बदली है दुश्मनी में / हक़ बात इस जबां से निकली जो बेख़ुदी में"

EDITORIAL 4.10.2020: "अब या तो पुरुषों का जन्म बन्द हो / या स्त्रियाँ वजूद में ही न आए / जहाँ दोनों होंगे / बलात्कार होना ही है / बलात्कार करके पुरुष आज़ाद ही रहेगा / मरेगी तो स्त्री / ज़लील होगी तो स्त्री" - Mrs. Uma Jhunjhunwala, a theatre director, actor and poet has written these. I sometimes think like any other rational person that perhaps God also had some gender bias that is why the most excruciating experience to a person called rape is meant only for female human beings. The female discourse has been epitomised in the poems of Indu Singh (U.P.) that have been shared by the renowned national poet Mr. Shahazahan Alam. She says - "नदी का गंतव्य समुद्र नहीं होता / समुद्र तो आख़िरी पड़ाव भर है / उस तक पहुँचते-पहुँचते / नदी सिर्फ़ एक नदी भर नहीं रह जाती / वहाँ तक की यात्रा को पूरा जीवन-चक्र समझकर  / नदी ख़ुद को अप्रकट कर लेती है।" Rightly put. The marriage of a girl is not the final goal of her life,  it is just the final destination or you can say a final launching pad from where she  may take off  to social-national sky and leave her impression with her great deeds."अगर तुम्हारे पोस्ट पर मिलें सिर्फ एक-दो 'लाइक'  / अगर तुम्हारी बात अनसुनी सी रह जाती हो/तो इसकी सम्भावना बहुत अधिक है / कि तुम अब तक बचे हो पवित्र, /वैचारिक संक्रमण से दूर I"-Hemant Das 'Him' insinuates the herd type online promotion of ideas and suggests that one should stick to his ideals notwithstanding where he is supported by the crowd or not. A  senior poet Mr. Ashok Pratimani unmasks the hypocrisy of people nowadays who conduct all wrongdoings in the name of high principles and morality - "भस्म हो रही नैतिकता  /किन्तु शीर्ष पर भौतिकता / खोखले सिद्धांत हो रहे".


EDITORIAL 3.10.2020: "सबसे हरा-भरा दिन वह होता है /जब दर्द घाव का मुंह /खोलने लगता है /और घायल आदमी /जुल्मों के खिलाफ बोलने लगता है।" - the poet of these lines Mr. Vidya Bhooshan is a veteran signature of contemporary Hindi poetry and you can rarely find at present. He is a renowned poets in national arena since last five decades.or so. He needs no introduction to people interested in Hindi literature. His narration is straight but exemplarily impactful. Subject is almost fixed - betterment of suffering innocent masses. His dream is - "बहेलिए जेलों में रखे जायेंगे / और चिड़ियों का हक बहाल होगा।"3 Oct is also the birthday of VVS (Vividh Bharti Seva) the most popular Radio channel in radio history and Mr. Asmurari Nandan Mishra, a high-calibre young writer has posted an article on it. A prolific senior writer Mr. Harinarayan Singh Hari has posted a book-review on the book  "Alok Bharti - Sahitya, Sadhna aur Vyaktitwa" in which he has enumerated a large number of 'laghukatha' and other creative pieces of the writer. Mr. Suraj Thakur Bihari is a young blooming poet with a melodious throat. He basically writes on love themes and has posted a full ghazal in this instance. One 'sher' is - 'ग़ौर  से  देख  कर  बताना  तो / पहले जैसा ही दिख रहा है क्या' This sher aptly expresses the nature of ever changing people. It is often seen that a big tree does not allow other trees to grow under its shadow. The same is  true with the birthday of Mahatwa Gandhi (2 Oct). This is also the birthday of Mr. Lal Bahadur Shastri but people identify this day only with Mahatma Gandhi. Mrs. Kanchan Kanth comes forward to treat both the leaders with their due regards and in her poem talks about the valuable contribution of both the stalwarts of Indian nation. A few lines from her poem - "देश अपना स्वतन्त्र हो मनमे ठाना / भगाया जनता संग  राज ब्रिटिश / झूम रहे सब होकर हर्षित / दूजे हमारे बने प्रधानमंत्री /दिखाया जगत को शक्ति निर्बल की /पाक ने जब लड़ाई ठानी  गिरा औंधे मुंह".

EDITORIAL 2.10.2020: The article "Gandhi-raag" by Dr. Vinay Kumar, the reputed poet of India and practitioner Psychiatrist presents a deep-rooted ideological discourse over the philosophy of Mahatma Gandhi. He rightly says, that the national culture is like a platter. The better idea is to scrub and cleanse it rather than purchasing it each time afresh after each dining. The whole article deals with the way Gandhi looked and the way people now look upon his different beliefs for the betterment of humankind. Though the most vital issue of the purity of means and ends has not been dealt with as categorically as it could show you some way. Whatever it may be but the whole article is undoubtedly a priceless exposition and analysis of Gandhian philosophy. "सिखा दो न  /इस देश की तमाम साक्षियों को  /कि कैसे पटकते है  / जिंदगी की कुश्ती में  /रंगे सियारों को" - the talented poet Mr. Rajesh Kamal in the garb of praising Sakshi Mallick the Olympic medalist, is in fact advising the women of this country to not  depend on others and make themselves so strong that they could take on the perverts themselves.  ""अब मुझसे पीछा नहीं छुड़ा सकते / धरती का लाल भले तुम्हें बचा ले / पर मेरी परछाई  तुम्हारे कदमों तले की जमीं छीन लेगी" - the most active and a feminist poet in Patna, Mrs. Lata Prasar says in her poem that the women will not rest till they get their assaulter guys punished severely.  नैतिकता का लोप हो गया । /यह केवल कंटोप हो गया । // भाषण में बस इसको सुनिए । /नहीं चरित हित इसको चुनिए । //फैशन में सब गाँधीवादी । कुछ भी करने की आजादी - the discerning and well-known poet Mr. Harinarayan Singh 'Hari' unmasks the prevalent practice of using Gandhism for petty gains.

EDITORIAL 1.10.2020: "स्वच्छंद अराजकता फैला /इठलाते फिरते कुल-कलंक // निर्लज्ज , अनैतिक कुंठाएँ ले, /फेंक रहे हर ओर पंक" -the poem by Mr. Jagadish Jaind Pankaj, the veteran poet from Ghaziabad represents the groan and moan of the public at large on the Hatharas incident, the most brutal incident took place recently. The incident was followed by the equally insensitive and bizarre behavior from police and administration who forcibly burnt the dead body without presence and consent of deceased's relatives. Mrs Lata Prasar is also greatly anguished on this hapless incident and exhorts all women to show unity worldwide to oppose the atrocities inflicted upon them. She threatens the rapists - "स्त्री के प्रति नजरिया नहीं बदला / पूरी प्रकृति बदल जाएगी /दुनिया की महिलाओं एक हो" Mr. Satyendra Pd Sinha, a renowned national writer has posted a plot of the story published by the poet named Kavita. The structure of the story is unique and it consists only of three pieces each in form of a letters written by two sisters and their mother to a young man and his father respectively. Interestingly the young man is the fiance of the elder sister though he loves the younger sister and the girl's mother is an ex-beloved of the father of the young man. The complication in the relationships is the reality of this era and this story perfectly shows the same."कितनी गहरी रही उदासी/ तब आयी है पूरनमासी"- are the lines of the poet Mr. Ramakant Sharma who appeared in Bhartiya Sarvabhasha Sanskriti Samanyaway Samiti event and a beautiful report is posted by Mr. Pusushottam N Singh, ex-ADG of Doordarshan.
सम्पादकीय  का अनुवाद: नहीं दिया गया.

EDITORIAL 30.9.2020:    "इतनी शक्ति हमें देना दाता" lyricist -Mrs. Vibha Rani (Mumbai) has shared her memoir with him in a sincere manner. With a great grief the extraordinary poet with his own signature style Mr. Rohit Thakur, an emerging national poet says, "बेटियों के लिए जो दिन तय था  /वह बीत गया. Mr. Bhagwat Animesh is a multi-genious personality who enjoys the life come what may - "दुःख के अनंतविस्तृत साम्राज्य में / शोक का वर्चस्व है /// फिर भी जीवन /  छलाँगें मार रहा है हर जगह. Basically this poem assiduously strive to in fill in positivity in different aspects of social life. A young poet Mr. Suraj Thakur  raises some pertinent questions to the society -एक  से  एक  ढोंगी  हैं  अपने  यहां / सब के सब ही सवाली हैं अपने यहां.

EDITORIAL 29.9.2020:  "कविता ऊसर खेतों के लिए / हल का फाल बन सकती है // फरिश्तों के घर जाने की खातिर / नंगे पांवों के लिए /जूते की नाल बन सकती है" - Mr. Vidya Bhooshan (Ranchi), a veteran nationally acclaimed poet since last 50 years or so defines the role of poem in his own words. We must be clear that a poem is not a device to generate a specified favourable output in a scientific manner but it can and  must extend it's material help if you are determined for changing an individual or the community. His ideas strikes heavily upon the practice of mass-level production of poems like in a factory for a specified purpose in a specified manner. The deviation nowadays is not only in the  outlook of muse but also in the other important aspects of general life like relationship. Mr. Kumar pankajesh rarely writes such a simple and small-meter poem though it is worthy to cast a glance over it and one 'sher' is -"रिश्ते बहुत हैं क़ीमती  / मीठी रहे सबकी ज़ुबाँ". The senior poet Mr. Hari Narayan Singh Hari is an eternal lover of bucolic chic "हृदय-हीन पत्थर दिलवाले / रफ्फूचक्कर भाव चलो रे! / गीत! प्रीत के गाँव चलो रे". Mr. Purushottam N Singh has been the ADG at Doordarshan, Patna and his posts on Vividh Bhartiya Bhasha Samanvay Samiti online events are really wonderful. One such report is on Mr. Shashank Shekhar, Musician and gazal singer, 

EDITORIAL - 28.9.2020:   Lata Mangeshkar is not a singer but a phenomenon that happens rarely in the history of humankind. Such a tuneful tongue has never been and would never be seen in any other epoch than this. A veteran writer of national standing Mr. Dhruv Gupt has delineated beautifully the musical virtues of Lata with a valuable collection of quotes from other legends. Another youth gem in literary arena Mr. Asmurari Nandan Mishra has posted a poem on daughter. The composition proceeds typically with a fondling note of a father but gains momentum even before it reaches the half of it. Now you see a gender discourse in full steam - बिटिया अभी नहीं जानती कि बेटियों का चलना / अभी किसी धर्म ग्रंथ में दर्ज नहीं है। Mrs. Neha Mishra makes diary note what an infant thinks when his parents use the stuff meant for him. समुद्र की लहरें / शंकाओं से घिरी प्रेमिकाएँ हैं - these are the lines by Mrs Rashmi Saxena whose craft of verse is so mature that you love to remain dipped long enough. A serious writer Mr, Jitendra Kumar has also some justified apprehensions about those who siphons off the national resources - एक सुचिंतित योजना के तहत / फैलाने को बंजरता / नष्ट करने को हरीतिमा / रोप गई उर्वरा धरती में / युक्लिप्टस सा फलहीन पेड़. Mrs Alka Pandey has posted a love poem the two lines of which are - काश मुट्ठी में क़ैद किया होता  / साजन को जाने न दिया होता !


EDITORIAL - 27.9.2020:  Today when the daughters are being aborted and is being crushed on almost each and every front on the path of progression if she is somehow able to take birth it is vital to celebrate the Daughter's Day (last Sunday of every September) in it's true spirit. Unfortunately it is not only male who exploits the fair sex but the females too are not far behind in contributing to make the life more wretched of her own folk. Those fathers who are having a daughter but are made to lose  her pranks for the whole of her childhood are the most ill starred species on this earth. Hemant Das 'Him' (writer of this editorial) is one of them who says, "एक मासूम की छवि है और सन्नाटा / वह अंधेरे का रवि है और सन्नाटा // किसी का कल करने को देदीप्यमान / मेरे आज का हवि है और सन्नाटा". हवि means हवन. Daughter is a panacea to all of your gloom and that converts you to a happy soul. A nationalist poet Mrs. Lata Sinha 'Jyotirmay' says, "जब जब इस आंगन चांद खिला / तू चाँदनी बनकर छाई थी // कई खुशियों की बौछार लिए / वर्षा  मेरी परछाईं थी" Here 'Chandani' and 'Varsha' seem to be the names of her daughters. It is not only the unborn female baby whose cry for compassion is ignored by the so-called progressive society but almost all of the calls from groups and people that are trailing behind in some respects or other are cruelly laid aside by the modern humanity all over the world. The perspicacious poet Mr. Shahajahan Alam says that these unheard calls are sheltered by the ruins - "हर खंडहर बचाए रखता है अनसुनी रह गईं प्रार्थनाओं को / ताकि बची रहें उम्मीदें किसी का दुःख बचा रहता है जैसे". The unending series of destruction meted out by 2020 has turned everyone a plaintiff to God and Mr. Hemant Behera counts the towering personalities we lost recently - "Pandit Jasraj ji, S.P.Balasubramaniam, Aditya Paudwal (Musician and music composer), Anand Koushik (Veena Artist), Sri.M.N.Balasubramaniam sir (Mridangam artist), Sri Subramania Sarma sir (violinist), Legendary actors : Rishi kapoor, Irfan khan, Sushant singh Rajput, Dance choreographer Saroj Khan and many more..." May God save us now!

EDITORIAL - 26.9.2020:  Lately, we have started taking those items also whose visibility has been limited by the author on facebook wall. Though we do not provide their links but we mention the selected posts.
The lightening in the sky comes from the heavy attrition of dense clouds. And the muse develops in the deepest of agony in the most prolific minds simmering with deep feelings. "फिर कोई ख़्वाब मरा, फिर कोई ख़्वाहिश सिसकी / फिर मेरी शिद्दते-एहसास कोई ख़ार बनी / और नाज़ुक से किसी पा-ए-ताअल्लुक़ में चुभी" -these lines are taken from the Urdu poem of veteran poet Mr. Sanjay Kumar Kundan and surprisingly these have been written almost four decades earlier. "मेरे चेहरे पे यूं नुमाया है उसका चेहरा / आइने से मेरी सूरत न संभाली जाय"- the two-liner (sher) from the listed poem (ghazal) of seasoned poet Mr. Samir Parimal is truly aligned to the tempo of the ghazal which is a depiction of sort of intermingling of deprivation and a dying hope. Mr. Sunil Kumar holds a remarkable grip over Urdu and says - "मुझे माज़ी के तहख़ाने मिले हैं ख़त पुराने दो / पुरानी दास्तानें हैं मुहब्बत की सुनाने दो". His ghazal can best be called a romantic piece of verse. Samay Patrika has published the review of collection of poems authored by Ms. Pankhuri Sinha. "रिश्तों को बचाने की विधियाँ/ और जो भी हों / अच्छी कविता नहीं है" (piece no.1)  and रिश्ते कोई स्वेटर तो होते नहीं / जिन्हें पहन लेना हो / या जिनमें समा जाना हो / जो फिट हो जाएँ बिल्कुल" (piece no.2) . The adroit editor Mr. Harminder Singh Chahal of Samay Patrika has picked up the lines that truly speak Pankhuri, the poet. Though this may sound bizarre but it is difficult to deny that a person who has experienced ill fated relationship has lived more life than others. He has been made to appreciate more colours of life and has faced more faces of truths in life. The background of Pankhuri Sinha is global citizenship and of course a walk over the brink of relationship. She is bold and rebellious and possesses a gumption to liberate women from all sorts of parochial ideologies thrust upon them. Though this editor thinks that relationship is just another name of losing oneself to a significant extent and the only point maintainable is equality this poet seems to be  more broad-minded. The report of live poem recital by Sima Vijayavargiya by Mr. Purushottam N Singh is full of interesting pieces of verses and is worthy to read. The poem by Mr. Vipin Tiger is an effective expression of the neglect still suffered by the people at lower rung of the archaic caste system. Mrs. Abha Dave's poem is not open to all but presents many aspects of today's society afflicted by pandemic.

    NO EDITORIAL WAS WRITTEN BETWEEN 1.9.2020 TO 25.9.2020

EDITORIAL- 31.8.2020 :
It was the birthday of nationally popular and serious poet Mr. Dhruv Gupt who is also a retired IPS. He is undoubtedly a towering personality on any yardstick either it is the versatile knowledge, depth of his verses, his past official position, his high-length handsome physique, beauty of his soul, size of his followers or anything else. But I admire him more because of his impartial views on various subject and being a person reverberating with national fervour.  . It is amazing that he is a bookworm as well and has read thousands of books and has authored dozens of them. Mr. Sagar Anand has put Dhruv ji's ghazal on this occasion. Here is a sher from  his love ghazal - "तुम अंगीठी ले के बैठो अपने खेतों के करीब / हम शहर से लौट कर किस्से सुनाने आएंगे". This sher clearly shows that for what this poet is craving is a simplistic, natural life full of social warmth and bereft of any sort of vile. 
 वह / अपने हिस्से का झूठ /रोज़ बेच लेता है
ठीक वैसे ही/ या शायद उससे बेहतर  
जैसेकि कुछ लोग /बेच लेते हैं 
आधा सच / आधा झूठ / बाज़ार में खड़े रहकर
A lie can be identified easily with a little effort but when it comes to you with a tempering of truth it's often extremely difficult to know what part of the statement is true and what is false. They are mixed so deftly that you might have to devote much larger amount of time and efforts to segregate them. And you just drop the idea to search the exact truth and form a cosy concept that there must be some proportion of the proposition as a whole that must be true. Now you are exactly in a state where the delinquent proponent wanted you to lead. So we must be cautious enough not to rely upon the storied coming from unauthorized sources. Ms. Ranjita Singh, eminent editor of the magazine "Kavi-kumbh" writes basically on women's issues and social problems as it appears. A famous contemporary poet has put a sumptuous commentary on the poetry of Ms. Ranjita Singh that is worthy to be read attentively. 
Rang March has put a post on legendary lyricist Shailendra who as so dear not only to Raj Kapoor but the whole nation. Mr. Anand Gupta has come up with a write-up on the new novel by Shukla Chaudhary ' Isq'. The novel seems to be based on love affair in rural backdrop.

EDITORIAL- 30.8.2020 : Today is Moharram on which day whole of humanity remember thesupreme sacrifice made by some distinguished persons for upholding the justice. We must remember all sorrows and griefs they passed through. The difficulties and troubles faced earlier by human beings gives the people inspiration of forbearance.
Mrs. Vinashree Hembram has posted a poem on the Hockey magician Major Dhyanchand's birthday (29 August) that is celebrated as National Sports Day. Her poem inspires young sportsperson and advises others to let them bloom fully. Mr. Rawindra Das is a well-known art critique who has raised a very pertinent question in his post whether only those artists whose works are sold on high prices are great? Many a time we see that even a marvelous piece of artwork remain unnoticed for want of marketing but it should not mean that the artist is lesser by any means. Mr/ Satyendra Prasad Srivastava, a distinguished national writer has posted a ghazal which is highly satirical on those who expect that people should be smiling even in face of persistent host of troubles - तड़पाने रोज़ चली आती है/ प्यार से भूख को समझाएंगे.  The adversity and sorrows of real life might be biting but a love life has exactly opposite rules of game where the gravest sorrow just adds a new 'raga' (tune) to your life - तेरे ग़म से करूँ मैं लयकारी / तल्खियाँ तेरी ये सुरीली है  says Mr. Kumar Pankajesh in his ghazal. His poetry coming these days are noteworthy. Mr. Vijay Prakash is a seasoned lyricist who has command over both love themes and social issues. In the cited song he feels lovingly like some petal has touched him that has opened vistas of fragrances in him - छू   गई  है   एक   मुझसे   पंखुरी /खुल गया है गंध का संसार मुझमें. Mr. Pavir Vishuddhanand is a young poet who has presented a poem based perfectly on pandemic conditions and alerts all of us that life has no certainty so it is better to devote a part of time for some prayers too.

EDITORIAL- 29.8.2020 : All over the  world with the dreaded pandemic, everything is falling whether it is economy, cultural activities or anything else. The thing most needed to be preserved is humanity, the values and ideals for what we live. They should not fall, may what happens. The pandemic might be the greatest devil the earth ever has witnessed but it is also God-likes at least in the sense that it makes no difference on the basis of caste, creed, colour and culture.
Mr. Rohit Thakur a talented young poet has made his point brilliantly in his poem - अपने हाथों में थाम लो मेरा हाथ  /उसे ऊपर उठाओ हवा में  /गिरती हुई चीजों के विरुद्ध  /यह एक जायज़ तरीका है.  Another young poet Mr. Aks Samastipuri is anguished on the insensitivity of the beloved who is feeling sorry only for that her lover is remourseful and not for being herself the cause of her lover's complete devastation. The narrative of lover-beloved goes much beyond the love saga and applies to the insensitivity prevailing everywhere in the society. His 'matla' (first two-liner) is also not to be bypassed that claims forcefully the true worth must be dispensed to those who really deserve - अगर निसाब के बाहर का मैं सवाल नहीं! / तो तेरा फ़र्ज़ ये बनता है मुझको टाल नहीं! Here the word "निसाब (syllabus) के अंदर का सवाल" is a novice imagery. Mr. Sanjay Kumar Kundan is a veteran poet of national reckoning whose each 'sher' is like a quintessence of life in it's own right. His 'matla' is absolutely romantic you can neither go left nor right of it and must go by it's lovely sense and that too in youthful man-woman context - उसने तो कुछ कहा नहीं पर लाजवाब कर दिया / अपनी ख़ता-ए-नाज़ का जैसे हिसाब कर दिया. All of the other six 'shers' are deep ruminations over different conditions in life a man often passes through. All of these 'shers' are worthy to be quoted but I am presenting a random one keeping the others also equally in high esteem- दानिस्ता हम बहक गए टूटे न उसका दिल कहीं / सो हमने इक गुनाह को जैसे सवाब कर दिय. Mr. Ashish Anchinhar is a maestro of Maithili ghazals. He is grouching over the differential treatment meted out by the capable persons over the same kind of misery. He says - हारल दुख हमरा भेटल / जीतल जीतल हुनकर दुख. There is also a link of full  comedy and statistic play "Operation 3 Star" performed under the direction of Mr/ Arvind Gaur, a renowned drama-director. 

EDITORIAL (10.8.2020) :  Life is not made of thoughts. Thoughts are made out of life. Your biggest thoughts about life has no meaning until you live a life and merely keeping engaged yourself in the lofty ideas about life is inanimate. So live in present dear friends and neither dig too much in the past nor go far in the future. Avail yourself of the amenities in the present. Some similar idea is dealt in the poem by Keshav Tiwari presnted by Mr. Narendra Kumar. Mrs.  Lata Prasar says that it's not obligatory that a poem will spring out if you have sat with a pen. There are numerous barricades that impedes the flow of thoughts. Many thoughts are aborted causing distress to your composure. The barricades may be personal, family-related or environmental. A credible account of literary works of expert writer of tribal issues Mr/ Ashwani Pankaj has bee posted by Mr. Arun Narayan and that of the famous satirist Harishankar Parasai has been presented by Rang March. Some exquisite paintings of famous painter Mr. Rawindra Das can be viewed at the link given. The top-notch shayar (poet) of Bihar Mr.  Samir Parimal has recited some pieces of his selected ash-aar (poems) in the live program. His link is placed in the list. Take care!   
संपादकीय (10.8.2020) का हिंदी अनुवाद :  कृपया अपना ख्याल रखिये! 

EDITORIAL (31.7.2020) : To develop the ethos of harmony we should encourage plurality of every element of the culture. We have always in support of progress of indigenous languages including their dialects. So it is a welcome move of New Education Policy to suggest local languages as a medium of education in primary school. An awakened litterateur Mrs Abha Bodhisattva has also supported this in her post. In our knowledge the medium of local language will be elective and not compulsory. This is a more welcome idea as we have to to remain competent on global level too so all of us should not lag behind on the front of  International language i.e. English. The article of Mr. Gopesh Mohan Jaiswal on Premchand stirs up your composure that almost transforms into a complacency over the tributes to the King of Hindi stories and novels. Dr. Vinay Kumar though smitten by the beauty of the historical statue of yakshi of Didarganj (Patna) is trying to evoke the Muse out of the stellar statue that can open the minds of the misguided lots. The special thing in the poem by Mr. Prakash Ranjan 'Shail' is that even though being highly distraught by his beloved on several occasions and in many forms that left him completely ravaged he has still left his door ajar for her. The Maithili ghazal by Mr. Ashish Anchinhar is an impressive commentary on the behaviour of opportunist people found in abundance today. Take care! 
संपादकीय (31.7.2020) का हिंदी अनुवाद : सद्भाव का लोकाचार विकसित करने के लिए हमें संस्कृति के प्रत्येक तत्व की बहुलता को प्रोत्साहित करना चाहिए। हम हमेशा अपनी बोलियों सहित देसी भाषाओं की प्रगति के समर्थन में रहे हैं। इसलिए प्राथमिक विद्यालय में शिक्षा के माध्यम के रूप में स्थानीय भाषाओं का सुझाव देना नई शिक्षा नीति का स्वागत योग्य कदम मानते हैं। एक जागृत साहित्यकार श्रीमती आभा बोधिसत्व ने भी अपने पोस्ट में इसका समर्थन किया है। हमारी शिक्षा में स्थानीय भाषा का माध्यम वैकल्पिक होगा और अनिवार्य नहीं होगा, यह एक अधिक स्वागत योग्य विचार है क्योंकि हमें वैश्विक स्तर पर भी सक्षम रहना है, इसलिए हम सभी को अंतर्राष्ट्रीय भाषा यानी अंग्रेजी के मोर्चे पर पीछे नहीं रहना चाहिए। प्रेमचंद पर श्री गोपेश मोहन जायसवाल का लेख हिंदी कहानियों और उपन्यासों के सम्राट को श्रद्धांजलि देकर आत्मसंतुष्ट  हो जाने की आपकी प्रवृति को झकझोरता है। डॉ. विनय कुमार हालांकि दीदारगंज (पटना) की यक्ष की ऐतिहासिक प्रतिमा की सुंदरता पर पूरी तरह मुग्ध हैं पर वो उसमें से उस विद्या की देवी सरस्वती को जगाना चाहते हैं जो आज के तमाम गुमराह लोगों के दिमाग को खोल कर रख दे। श्री प्रकाश रंजन 'शैल' की कविता में खास बात यह है कि भले ही कई मौकों पर  कई प्रकार से अपने प्रिय से बहुत ज्यादा प्रतड़ित हुए और छले गए हैं जिसने उन्हें पूरी तरह से तबाह कर दिया, पर उन्होंने अभी भी उसके लिए अपने दरवाजे का अधखुला छोड़ दिया है। श्री आशीष अनचिन्हार की मैथिली ग़ज़ल आज बहुतायत में पाए जाने वाले अवसरवादी लोगों के व्यवहार पर एक प्रभावकारी टिप्पणी है। कृपया अपना ख्याल रखिये! 

EDITORIAL (30.7.2020) : Your life is never perfect nor is the circumstances you live in. Your people are never as they should have been and the resources are never commensurate to let you do something you wanted. So what should you do? Should you try to make everything well around you with your scarce potential? The consummate contemporary poet of India Dr. Ravindra K Das in his poem titled 'Talaash' (search) has raised the fundamental question of life and also shows the way out. Do not run after the material or people but just try to get the purpose fulfilled you wanted from them.  A very illustrative painting by well-know painter Mrs. Sanju Das who paints with her own style that has though evolved from Mithila painting but has taken a new form with characteristics of Sanju Das only. The ghazal by Mr. Sagar Anand, one of the most-quoted poet on our page is this time even more comprehensible to all. One of his sher is - "Chaahaton ki chaay paani kya likhoon mai / Aansuon ki tarzumani kya likhoon mai" (It's useless to write about my many small-small wishes and I just can't explain my tears in words). There is also a link of video of gazal recital by a poignant lady poet Mrs. Zeenat Sheikh. She says- "Tumse badhkar hai samajhadar tumhari aakhen " (Your eyes are more understanding than you". Take care!
संपादकीय (30.7.2020) का हिंदी अनुवाद : आपका जीवन कभी भी परिपूर्ण नहीं होता है और न ही वे परिस्थितियां जिनमें आप रहते हैं। आपके लोग कभी भी वैसे नहीं होते हैं जैसा उन्हें होना चाहिए और संसाधन कभी भी आपको कुछ ऐसा करने के लिए समुचित होता जैसा आप चाहते हैं। तो आपको क्या करना चाहिए? क्या आपको अपनी अत्यल्प क्षमता के साथ अपने आस-पास सब कुछ अच्छा बनाने की कोशिश करनी चाहिए? भारत के सिद्धस्त समकालीन धारा के कवि डॉ. रवींद्र के दास ने अपनी कविता  'तालाश ’में जीवन के मूल प्रश्न को उठाया है और समाधान का रास्ता भी दिखाया है। वस्तु या व्यक्ति के पीछे मत भागिए बल्कि उससे आपका जो उद्देश्य है उसे पाने की कोशिश कीजिए।  जानी-मानी चित्रकार श्रीमती संजू दास द्वारा एक बहुत ही आकर्षक पेंटिंग, जो अपनी शैली में चित्रकारी करती है, वह शैली जो मिथिला पेंटिंग से विकसित हुई है, लेकिन संजू दास की विशेषताओं के साथ एक नया रूप ले लिया है।  हमारे पेज पर सबसे अधिक उद्धृत कवि श्री सागर आनंद की ग़ज़ल, इस बार सभी के लिए और अधिक बोधगम्य है। उनका एक शे'र है - "चाहतों की चायपानी क्या लिखूँ मैं /आँसुओं की तर्जुमानी क्या लिखूँ मैं" (मेरी कई छोटी-छोटी इच्छाओं के बारे में लिखना बेकार है और मैं सिर्फ शब्दों में अपने आँसू के मायने नहीं समझा सकता)। एक   भावुक कवयित्री श्रीमती ज़ीनत शेख द्वारा गज़ल गायन के वीडियो की एक कड़ी (लिंक) भी है। वह कहती है- "तुमसे बढ़कर है समझदार तुम्हारी आँखें". कृपया अपना ख्याल रखिये। 


EDITORIAL (29.7.2020) Namaste! The icon of Hindi critique Mr. Namvar Singh not only established a progressive method of criticism in line with Marxist ideas but also believed that the critique as a tool is itself not perfect and need to be adapted to the progress made in the world with advancement of time.  He created his own models and parameters of criticism and and also made corrections in them in due course. A veteran writer of India Mr. Vidya Bhooshan has posted an in-depth analysis of the contribution of Namvar Singh to Hindi literature. The accomplished writer Mr. Bhagwat Animesh has posted a wonderful satiristic article "Ninda Ras Anmol" (Priceless blame-game). The whole article is interesting and also opens the eyes of the mind of the reader about what is happening in the world today. Mr. Samir Parimal has been an excellent poet and we grabbed his latest ghazal the link of which is given. One of his sher is - "  Ye muhabbat sabhi ke hisse me / Sar patakte raho , nahi aati". (This love is a precious thing who does not go to the hands of everyone.) A celebrated writer of India Mr.  Parichay Das has posted an article paying tributes to the departed renowned actor of Hindi and Bhojpuri, Kumukum. A video by Lekhya Manjusha about the contribution of Premchand has also been enlisted. Take care!
संपादकीय (29.7.2020) का हिंदी अनुवाद : हिंदी समालोचना के प्रमुख स्तम्भ श्री नामवर सिंह ने न केवल मार्क्सवादी विचारों के अनुरूप आलोचना की प्रगतिशील पद्धति स्थापित की, बल्कि यह भी माना कि एक उपकरण के रूप में समालोचना स्वयं दोषमुक्त उपकरण नहीं है और समय की प्रगति के साथ दुनिया के प्रगतिशील तत्वों के साथ इसे अनुकूलित करने की आवश्यकता होती है। उन्होंने आलोचना के अपने प्रतिमान और मापदंड बनाए और उनमें कुछ समय के उपरान्त सुधार भी किए। भारत के एक अनुभवी लेखक श्री विद्या भूषण ने नामवर सिंह के हिंदी साहित्य में योगदान का गहन विश्लेषण किया है। निपुण लेखक श्री भागवत अनिमेष ने एक अद्भुत व्यंग्य लेख "निंदा रस अनमोल" पोस्ट किया है। पूरा लेख दिलचस्प है और पाठक के दिमाग की आँखें भी खोलता है कि आज दुनिया में क्या हो रहा है। श्री समीर परिमल एक उत्कृष्ट कवि रहे हैं और हमने उनकी नवीनतम ग़ज़ल का लिंक जोड़ा है। उनका एक शे'र है - "ये मुहब्बत सभी के हिस्से में / सर पटकते रहो, नहीं आती"। देश के एक प्रसिद्ध लेखक श्री परिचय दास ने एक लेख पोस्ट किया है जिसमें हिंदी और भोजपुरी की दिवंगत प्रसिद्ध अभिनेत्री कुमकुम के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित की गई है। प्रेमचन्द्र के योगदान के बारे में लेख्य मंजूषा का एक वीडियो  भी सूचीबद्ध किया गया है।  कृपया अपना ख्याल रखिये। 

EDITORIAL (28.7.2020):  Namaste! Most often the  expression of opinion by a writer is termed as an attack on the system and that is why in every period a true writer always find a seat in opposition. This absolutely does not mean that he supports the opposition political party. Even if the regime changes and the opposition comes in power the same writer will begin the oppose the again notwithstanding who is the ruler. Think of an auditor, can you expect or should you expect that the auditor should focus mainly on positive assessment of his auditee rather than being critical.The legendary writer in Bangla Mahashweta Devi was not only a pen-holder woman but was a social activist as well. A true writer cannot absolve himself from his obligation for acting his part on the ground and express his opinion freely about the masses. Rang March has posted an exhaustive article on Mahashweta Devi. One poems each by Mr. Arun Sheetansh, Mr.. Sagar Anand and ten poems by Mr. Bhagwat Animesh are true reflection of modern period. Mr. Bhagwat Animesh is known for his native characteristic.  If you go through last three or four poems you appreciate his bucolic chic that acquires a new height with him. Mr. Arun Sheetansh, the editor of reputed literary magazine 'Deshaj' rarely writes a short poem as one enlisted here. Mr. Sagar Anand has a Midas touch. He sits, holds a pen and there is a beautiful ghazal springing out for the readers. This time he seems to be a bit  uneasy with the haphazard conditions in pandemic backdrop and in makta (first two lines) he says - "Din jaise dinmaan bharose / Jaan sabhi ki jaan bharose." (Just as the day is dependent on the Sun similarly the life of a man is today only dependent upon himself). He sits holds a pen and a beautiful ghazal is already there you see. The poem by Mr. Ravindra K Das is lists the different varieties of Hindi language quite sarcastically. See his two lines - "Gariyaane ki apni Hindi / Fariyaane ki apni Hindi" (There is different Hindi for abusing somebody and also different variety of settling a score with somebody. The poem by Mrs.  Uma Jhunjhunwala has assiduously crafted an optimism amidst a slew of sorrows.Take care!
संपादकीय (28.7.2020) का हिंदी अनुवाद :नमस्ते! अक्सर एक लेखक द्वारा राय की अभिव्यक्ति को व्यवस्था पर हमला समझा जाता है और यही वजह है कि हर अवधि में एक सच्चे लेखक को हमेशा विपक्ष में स्थान मिलता है। इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं है कि वह विपक्षी राजनीतिक दल का समर्थन करता है। अगर शासन बदल भी जाए और विपक्ष सत्ता में आ जाए, तो वही लेखक फिर से विरोध शुरू कर देगा उसका जो तत्कालीन  शासक है। एक ऑडिटर के बारे में सोचें, क्या आप उम्मीद कर सकते हैं या आपको उम्मीद करनी चाहिए कि ऑडिटर को गलतियाँ ढूँढने की बजाय मुख्य रूप से अपने ऑडिटी संस्था के सकारात्मक मूल्यांकन पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। बंगला में महान लेखक महाश्वेता देवी न केवल एक कलम-धारक महिला थीं, बल्कि एक समाजसेविका भी थीं।  एक सच्चा लेखकने हिस्से का जमीनी कार्य करने के अपने दायित्व से खुद को दूर नहीं कर सकता है और जनता के मुद्दों पर स्वतंत्र रूप से अपनी राय व्यक्त करेगा ही। रंग मार्च ने महाश्वेता देवी पर एक विस्तृत लेख पोस्ट किया है। श्री अरुण शीतांश, श्री सागर आनंद की एक-एक और श्री भागवत अनिमेष की दस कविताएँ आधुनिक काल के सच्चे प्रतिबिंब हैं। श्री भागवत अनिमेष अपने देसीपन के लिए जाने जाते हैं। यदि आप अंतिम तीन या चार कविताओं से गुजरते हैं, तो आप उनकी देसी अभिरूचि की सराहना करते हैं, जो उनके साथ एक नई ऊंचाई हासिल करती है। प्रतिष्ठित साहित्यिक पत्रिका 'देशज ’के संपादक श्री अरुण शीतांश ने शायद ही कोई छोटी कविता लिखी हो, जैसा कि यहाँ सूचीबद्ध में उन्होंने लिखी है। श्री सागर आनंद में एक पारस है। वह बैठे, कलम पकड़े कि समझिए एक ख़ूबसूरत ग़ज़ल उछलकर पाठ्कों के लिए निकली इस बार वे महामारी की पृष्ठभूमि में विषम परिस्थितियों के साथ थोड़ा असहज महसूस कर रहे हैं, वे मतला में कहते हैं - "दिन जैसे दिनमान भरोसे / जान सभी की, जान भरोसे"। डॉ. रवींद्र के दास की कविता हिंदी भाषा की विभिन्न किस्मों को काफी व्यंग्यात्मक रूप से सूचीबद्ध करती है। उनकी दो पंक्तियाँ देखें - "गरियाने की अपनी हिन्दी / फरियाने की अपनी हिन्दी"। श्रीमती उमा झुनझुनवाला की कविता ने अनगिनत दुुुुुखों के मध्य आशावाद  को गढ़ा है।  कृपया कृपया अपना ख्याल रखिये। 


EDITORIAL (27.7.2020): Namaste! To surrender and implore have been the prerequisites of the best romantic poets since the inception of poetry. Guileless urges are the best statements of the passion. But please bear in mind that to implore in love does not mean the reflection of inferiority complex. A person can even be proud of his surrender. A surrender is a matter of shame only in fight but it is the other way round in love. Mr. Sanjay Kumar Kundan, the renowned Indian poet's verses are almost invariably on such lines. Just like Mirza Ghalib his shers possesses the beauty of surrender and self-negation. Nobody can compare the height of Ghalib but I dare say that the beauty of self-inferiority before the beloved is incomparable in the ghazals of Mr. Sanjay Kumar Kundan somewhat similar to that we find in Ghalib. One of his sher from the present ghazal is - "Bekhyali me wo aa jaate thay apni zanib / Hosh me aaye to hamse unhe bachna hi pada" (Though she would come near me in her drowsiness her aversion to me is the default mode while she is awaken). Recently the iconic dancer Amla Shankar died at the age of 101 and the incredible truth about her is that she has been still dancing till her age of ninety. Rang March has paid homage to this danseuse in their article. Recently it was the birthday of the Missile Man and the former president of India honorable APJ Kalam. Mr. Bhaskar Jha, the multi-lingual talented poet has posted a good English poem on him. The well-known writer of India Mr. Satyendra Pd Srivastava in his small poem has presented a pungent satire on sycophancy.  There is also a link of video by Mrs. Saroj Tiwari in which she has mentioned many books of Premachand. Take care!
संपादकीय (27.7.2020) का हिंदी अनुवाद : नमस्ते! आत्मसमर्पण और प्रेम की याचना, कविता की स्थापना के बाद से सबसे अच्छे रोमांटिक कवियों की पूर्व आवश्यकताएं रहीं हैं। निश्छल आग्रह, प्रणय की  सबसे अच्छी अभिव्यक्ति है। लेकिन कृपया ध्यान रखें कि प्यार में अनुनय का मतलब हीन भावना का प्रदर्शन  नहीं है। एक व्यक्ति को अपने आत्मसमर्पण पर गर्व भी हो सकता है। आत्मसमर्पण की घटना युद्ध में शर्म की बात हो सकती है लेकिन प्यार में ठीक इसके उलट है।  प्रसिद्ध भारतीय ग़ज़लगो श्री संजय कुमार कुंदन की गज़लें  लगभग इसी तरह की होती हैं। मिर्ज़ा ग़ालिब की तरह ही उनके शेरों में आत्मसमर्पण और आत्म-नकारात्मकता की सुंदरता निहित रहती है। कोई भी ग़ालिब की ऊँचाई की तुलना नहीं कर सकता है, लेकिन मैं कहता हूँ कि श्री संजय कुमार कुंदन की ग़ज़लों में जो आत्महीनता का तत्व है वह कुछ वैसा ही है कि हम जो ग़ालिब में पाते हैं। वर्तमान ग़ज़ल में उनका एक शेर है -बेख़याली में वो आ जाते थे अपनी जानिब / होश में आए तो हमसे उन्हें बचना ही पड़ा" अमला शंकर  का 101 वर्ष की आयु में निधन हो गया और उनके बारे में अविश्वसनीय सत्य यह है कि वह अभी हाल तक  यानी नब्बे की उम्र तक नृत्य करती थीं। रंग मार्च ने अपने लेख में इस नर्तकी को श्रद्धांजलि दी है। हाल ही में मिसाइल मैन और भारत के पूर्व राष्ट्रपति माननीय एपीजे कलाम का जन्मदिन था।  बहुभाषी गुणी कवि श्री भास्कर झा ने उन पर एक अच्छी अंग्रेजी कविता पोस्ट की है। भारत के जाने-माने लेखक श्री सत्येन्द्र प्र. श्रीवास्तव ने अपनी छोटी कविता में चाटुकारिता पर तीखा व्यंग्य किया है। एक वीडियो का लिंक  भी है श्रीमती सरोज तिवारी का जिसमें उन्होने प्रेमचंद की अनेक कृतियों का उल्लेख किया है.   कृपया अपना ख्याल रखिये


EDITORIAL (26.7.2020):  Poetry is the purest form of feelings that directly flows from the heart. The destination of it is also the heart only and not the mind. But we see nowadays people are writing too much with their mind. When you tap your intellect more than your feelings while creating a verse it is bound to be prosaic. Moreover a large chunk of the poets have reverted back to the imagery of pre-independence style. It's nothing more than a farce! Our object, our style both need to be adapted to the present and not to the past. A virtuoso Mr. Bhagwat Animesh has raised this issue vigorously in his poem titled as "Kavita sadme me hai" (The poetry is under threat). In his article on thespian M.K. Raina, his fan Mr. Mrityunjay Kumar sharma has cited the important suggestions to the theatre artists and thespians as given by Mr Raina. One ghazal each by Mr. Ravindra K Das and Mr. Sanjay Kumar Kundan is enlisted. Both are renowned poets of India. It is really impossible to give a gist of both gazalas as each 'shers' of them are truly independent to others. Both are minute observation of the life majorly in a form of introspection with some exceptions of outward comments. One 'sher' from each is presented - "Zindgi se guftgoo ka wakt kyon hai mukhtsar / Haar toota kis tarah ham aaj  tak  pote  rahe" - Ravindra K Dasv(We always missed out on the vital act of thinking about our life itself and kept indulged in rubbish matters like why the ornament is broken or so) .  "Pata nahi ke jazar me ye kaisa nuks aaya / Sualagti umra ke kheme ki aag  paani lage" - Sanjay K Kundan ( I don't know whether it's a myopia or something else that I am viewing the youths as someone without the fire of fervour or conviction (for the true welfare of the society). In the translation of Bangla poem of Mita Das into English Ms Pankhuri Sinha has talked about the exemplary traits of the ants. Md. Nasim Akhtar has commented on the compilation of poems by Mrs. Shahanaz Fatmi with citation of impressive shers from the same. Take care!
संपादकीय (26.7.2020) का हिंदी अनुवाद : कविता भावनाओं का शुद्धतम रूप है जो सीधे हृदय से निकलती है। इसका गंतव्य भी हृदय ही है मन नहीं। लेकिन हम देखते हैं आजकल लोग अपने दिमाग से बहुत ज्यादा लिख ​​रहे हैं। जब आप एक कविता बनाते समय अपनी भावनाओं से अधिक अपनी बुद्धि का इस्तेमाल करते हैं, तो यह उबाऊ होने के लिए बाध्य हो जाती है। इसके अलावा कवियों के एक बड़े समूह ने स्वतंत्रता-पूर्व शैली के बिम्ब विधान को पुन: अपना लिया है। यह एक तमाशा से ज्यादा कुछ नहीं है! हमारी वस्तु, हमारी शैली दोनों को वर्तमान के साथ अनुकूलित करना चाहिए न कि अतीत से। एक सम्पूर्ण कलाप्रवीण कवि श्री भागवत अनिमेष ने अपनी कविता में इस मुद्दे को जोरदार तरीके से उठाया है जिसका शीर्षक है "कविता सदमे में है "।  प्रसिद्ध अभिनेता एम के रैना के बड़े प्रशंसक श्री मृत्युंजय प्रसाद शर्मा ने रैना द्वारा रंगकर्मियों को दिए गए उपयोगी परामर्शों को उद्धृत किया है। डॉ. रवीन्द्र के दास और श्री संजय कुमार कुंदन की एक-एक ग़ज़ल को सूचीबद्ध किया गया है। दोनों ही भारत के प्रसिद्ध कवि हैं। वास्तव में दोनों गज़लों का सार देना असंभव है क्योंकि उनका प्रत्येक शेर दूसरों से बिल्कुल स्वतंत्र है। दोनों बाह्य दुनिया पर कुुुुुछ टिप्पणियों के अपवादों के साथ आत्मनिरीक्षण के रूप में प्रमुख रूप से जीवन का सूक्ष्म निरीक्षण कर रहे हैं। प्रत्येक से एक शेर प्रस्तुत किया जा रहा है - "ज़िंदगी से गुफ़्तगू का वक़्त क्यों है मुख्तसर / हार टूटा किस तरह हम आज तक पोते रहे " - रवीन्द्र के दास। "पता नहीं के नज़र में ये कैसा नुक़्स आया / सुलगती उम्र के ख़ेमे की आग पानी लगे "- संजय के कुंदन। अंग्रेजी में मीता दास की बांग्ला कविता के अनुवाद में  पंखुरी सिन्हा ने चींटियों के अनुकरणीय लक्षणों के बारे में वर्णन किया है। मो. नसीम अख्तर ने श्रीमती शहनाज़ फ़ातमी द्वारा कविताओं के संकलन पर टिप्पणी की है उससे प्रभावशाली शेरों के उद्धरण के साथ ।

EDITORIAL (25.7.2020): All four poems enlisted today are thought-provoking. The drizzle might be an erotic invitation for lovers but for a rickshaw puller it is just a hell. who can neither save himself, nor his passengers he is carrying from getting wet in the rain. Moreover he has to sleep on the seat of the same carriage praying God to save him from the rain. The touching line comes in the last when the maestro poet Mr. Shahanshah Alam says that this season is helpful too for a common man but only in concealing the incessant flow of tears from his eyes. Mr. Kishore Sinha who has just retired a few months ago as a producer at All India Radio has also posted an exclusive poem of contrasts. At  one end there are cohorts of Machiavellian persons who are set to do anything with their vested interests and on the other end, there are scrupulous people like the poet who will always keep doing good works to others what may come. Mr. Harinarayan Singh 'Hari' is also a seasoned poet who would never give a lift to wrongdoers. His present poem is a good commentary on the politics of today. The young poet Mr Kundan Anand has posted a good ghazal in which all the seven 'shers'  are tight. Let us cite one of his shers -  "Mujhe hai bhook par likhna bahut kuchh / Mai khud bhookha hoon so ispar likhun kya?" (I have to write too much on the hunger. But I myself am hungry so can I write on this?"). See you!
संपादकीय (25.7.2020) का हिंदी अनुवाद: :आज जिन चार कविताओं को सूचीबद्ध किया गया है वे सभी विचारोत्तेजक हैं। रिमझिम बारिश प्रेमियों के लिए एक प्रेम का निमंत्रण हो सकती है लेकिन रिक्शा चालक के लिए यह सिर्फ एक नरक के समान है जो न तो खुद को न ही अपने यात्रियों को बारिश में भीगने से बचा सकता है। इसके अलावा उसे उसी रिक्शे की सीट पर सोना भी है स्वयं को बारिश से बचाने के लिए भगवान से प्रार्थना करते हुए। अंतिम पंक्ति और भी मर्मस्पर्शी है जब उस्ताद कवि श्री शहंशाह आलम कहते हैं कि यह मौसम एक आम आदमी के लिए भी सहायक है लेकिन केवल उसकी आँखों से आँसू के अविरल प्रवाह को छिपाने में। श्री किशोर सिन्हा, जो अभी कुछ महीने पहले आकाशवाणी से एक निर्माता के रूप में सेवानिवृत्त हुए हैं, ने भी विरोधाभासों की एक विशेष कविता पोस्ट की है। एक छोर पर धूर्त राजनीतिक लोगों के समूह हैं जो अपने निहित स्वार्थों के वास्ते कुछ भी करने के लिए तैयार रहते हैं और दूसरे छोर पर कवि की तरह ईमानदार लोग हैं जो हमेशा दूसरों के लिए अच्छा कर्म करते रहेंगे। श्री हरिनारायण सिंह 'हरि' भी एक अनुभवी कवि हैं, जो कभी गलत काम करने वालों को नजरअंदाज नहीं कर सकते। उनकी वर्तमान कविता आज की राजनीति पर एक अच्छी टिप्पणी है। युवा कवि श्री कुंदन आनंद ने एक अच्छी ग़ज़ल पोस्ट की है जिसमें सभी सातों शे'र कसे हुए हैं। आइए हम उनके एक शे'र को यहाँ रखते हैं - मुझे है भूख पर लीख्ना बहुत कुछ / मैं खुद भूखा हूँ सो इस पर लिखूँ क्या"). फिर मिलते हैं। 


EDITORIAL (24.7.2020): Namaste! Oedipus Complex is an explanation of such behavious that exhibits excessive love of a son towards mother and excessive hate towards father. Mr. Asmurari Nandan Mishra has presented a parallel version in Hindi myths where Andhaka, the son of Shiva showed the same behaviour to some extent. Mr. Asmurari, has been posting a number of articles under the title "Shiva-charcha" during this 'Savana' month. His articles though talks about different aspects of God Shiva still it is more sort of an ideological symposium rather than being a religious tautology. The whole series is definitely a regale for literary enthusiast. Rang March in his article on Syed Haider Raza the legendary painter of India writes that his art actually freed Indian painting from the impression of expressionism and steered it to Indian insights. He transformed the Indian art into abstraction and profundity. The ghazal by Mr. Sunil Kumar is comprehensible for everyone and he has provided the meanings of difficult words. One line "Gazal bhi maange hain ab panaahen" (The poem also seeks some shelters now) is catchy. Mr. Arjun Prabhat has posted a poem in Corona backdrop and the poem is significantly potential to  boost the people up who are reeling under the present Corona crisis.  There is one video by Mr. Shahanshah Alam in which, five of his poems on 'Baadal' (clouds) have been passionately read by another artist. See you!
संपादकीय (24.7.2020) का हिंदी अनुवाद : नमस्ते! ईडिपस कॉम्प्लेक्स एक ऐसे व्यवहार की व्याख्या है जो मां के प्रति बेटे के अत्यधिक प्रेम और पिता के प्रति अत्यधिक घृणा के प्रदर्शन के द्वारा अभिव्यक्त होता है। श्री अस्मुरारी नंदन मिश्र ने हिंदी मिथकों में एक समानांतर संस्करण प्रस्तुत किया है जहां शिव के पुत्र अन्धक ने लगभग ऐसा  ही व्यवहार दिखाया। श्री अस्मुरारी, इस 'सावन' महीने के दौरान "शिव-चर्चा" शीर्षक के तहत कई लेख पोस्ट कर रहे हैं। उनके लेख हालांकि भगवान शिव के विभिन्न पहलुओं के बारे में होते हैं लेकिन फिर भी वह एक धार्मिक प्रवचन की बजाय एक वैचारिक संगोष्ठी की तरह के अधिक हैं। पूरी श्रृंखला निश्चित रूप से साहित्यिक जिज्ञासुओं के लिए एक सुखप्रद सम्पदा है। रंग मार्च ने भारत के प्रसिद्ध चित्रकार सैयद हैदर रज़ा पर अपने लेख में लिखा है कि उनकी कला ने वास्तव में भारतीय चित्रकला को यथार्थवाद की छाप से मुक्त किया और इसे भारतीय अंतर्दृष्टि की ओर बढ़ाया। उन्होंने भारतीय कला को अमूर्तता और गहराई दी। श्री सुनील कुमार की गजल हर किसी के लिए समझ में आती है और उन्होंने कठिन शब्द का अर्थ प्रदान किया है। एक पंक्ति "ग़ज़ल भी मांगे है अब पनाहें" आकर्षक है। श्री अर्जुन प्रभात ने कोरोना पृष्ठभूमि में एक कविता पोस्ट की है और वर्तमान कोरोना संकट में फंसे लोगों का हौसला बढाने की प्रचुर क्षमता है इस कविता में।  श्री शहंशाह आलम का एक वीडियो है, जिसमें 'बादल' पर उनकी पांच कविताओं को एक अन्य कलाकार ने बड़े भावपूर्ण तरीके से पढ़ा है। फिर मिलते हैं।

EDITORIAL (15.7.2020 to 23.7.2020) Not published.
संपादकीय 

EDITORIAL (14.7.2020): Since ancient time, Indian society has been badly ridden by casteism. Even today some people justify it on mythical grounds of labour division whereas it is nothing but absolutely inhumane means of exploiting those who are already weaker economically, educationally and on all parameters of development. Casteism is nothing but a licence to perpetuate monopoly of resources in the hands of fortunate minority upper caste at the cost of unfortunate majority lower castes. And this bane is continued with all fanfare and boasting sanctions of scripture since thousands of years. One instance of this disgusting casteism is seen when in a Satyajit Roy's movie a Dalit (Depressed class) girl comes at the door of a Brahmin woman to offer some eatable gifts she is instructed seemingly in a generous mood by the Brahmin woman to just leave the gift at at the door otherwise she would have to bathe again. And more surprising is there is no qualms on the face of the teen girl as she is taking it as very normal. (See the story of movie put by Mr, Prashant Viplavi). Another picture of this sickening caste-feeling is in Dakkhin Tola- the story compilation by Kamaleshwar. The commentator Mr. Satyendra Prasad Srivastava elaborates that Dakkhan Tola has a lot of inferences. Musahar and all lower caste people are fated to reside only in Dakkhan Tola (South Corner) of a village because it is thought that Yama, the God of death enters from that side only. Moreover the meteorological significance is that the season wind-flow is either from West to East or vice-versa so by birth the worthy people (upper castes) should get fresh air by securing their habitation in those privileged corners. The dwelling spaces of hateful unprivileged castes should be thrown away at useless corner of South i.e. Dakkhin Tola.  
The ghazal by Mr. Sagar Anand, a seasoned ghazalgo talks about the bizarre and cruel nature of society today. The renowned poet of India Mr. Shahanshah is again in full swing and says that the dreams dreamed by his beloved is so nice and beautiful that it put the poet in amazement The essence is that even to dream a good scenario in adverse period is an astonishment in itself. Mr. Arun Sheetansh, the editor of 'Deshaj' says in his poem that the rainy season is a period of emotions and feelings and the people who are impassible even now can't enjoy the beauty of this heavenly season and for them even this heavenly period is like a desert. 
संपादकीय (14.7.2020): प्राचीन काल से, भारतीय समाज जातिवाद से बुरी तरह ग्रस्त है। आज भी कुछ लोग इसे श्रम विभाजन के मिथकीय आधारों पर सही ठहराते हैं जबकि ऐसा कुछ भी नहीं है आज, और वास्तत मेें यह आर्थिक, शैक्षिक और विकास के सभी मापदंडों पर कमजोर लोगों के शोषण का नितांत अमानवीय जरिया है। जातिवाद दुर्भाग्यपूर्ण बहुसंख्यक निम्न जातियों की कीमत पर भाग्यशाली अल्पसंख्यक सवर्णों के हाथों संसाधनों के एकाधिकार को समाप्त करने का एक लाइसेंस भर है।  और यह अभिशाप हज़ारों सालों से सभी धर्मग्रंथों और धर्म के पवित्र नियमावलियों  के साथ जारी है। इस घृणित जातिवाद का एक उदाहरण तब देखने को मिलता है जब एक सत्यजीत रॉय की फिल्म में एक दलित  लड़की ब्राह्मण महिला के द्वार पर कुछ खाने योग्य उपहार देने के लिए आती है, जिसे उस ब्राह्मण महिला द्वारा निर्देश दिया जाता है कि वह उसे दरवाजे पर बस छोड़ दें।  अन्यथा उसे फिर से स्नान करना होगा। और अधिक आश्चर्य की बात यह है कि किशोर लड़की के चेहरे पर कोई शिकन तक नहीं है क्योंकि वह इसे बहुत सामान्य मान रही है। (श्री, प्रशांत विप्लवी द्वारा फिल्म की कहानी देखें)। दक्खिन टोला में इस रुग्न जाति-भावना की एक और तस्वीर है- कमलेश्वर का कहानी संकलन।  समीक्षक श्री सत्येन्द्र प्रसाद श्रीवास्तव ने विस्तार से बताया है  कि दक्कन टोला से बहुत सारे अभिप्राय हैं। मुसहर और सभी निचली जाति के लोगों को केवल एक गांव के दक्खन टोला  में निवास दिया जाता है क्योंकि यह माना जाता है कि मृत्यु के देवता यम केवल उसी तरफ से प्रवेश करते हैं। इसके अलावा मौसम संबंधी महत्व यह है कि मौसमी हवाएं या तो पश्चिम से पूर्व की ओर है या इसके विपरीत बहती है, ताकि जन्म से ही योग्य लोगों (उच्च जातियों) को उन विशेषाधिकार प्राप्त क्षेत्रों में अपनी बस्ती हासिल करके ताज़ा हवा मिल जाए। घृणित वंचित जातियों के निवास स्थान को दक्षिण में स्थित दक्खन टोला में फेंक दिया जाता है । 
एक अनुभवी ग़ज़लगो श्री सागर आनंद की गज़ल  आज समाज के विचित्र और क्रूर स्वभाव के बारे में बात करती है। भारत के जाने-माने कवि श्री शहंशाह फिर पूरे जोश में हैं और कहते हैं कि उनकी प्रेमिका ने जो सपने देखे थे, वे इतने अच्छे और खूबसूरत हैं कि इसने कवि को विस्मय में डाल दिया, सार यह है कि प्रतिकूल समय में  एक अच्छे परिदृश्य का सपना देखना भी एक विस्मयकारी घटना  है अपने आप में। 'देशज ’के संपादक श्री अरुण शीतांश ने अपनी कविता में कहा है कि बारिश का मौसम भावनाओं के प्रवाह का दौर होता है और जो लोग अब तक भावशून्य बने हैं वे इस स्वर्गीय मौसम की सुंदरता का आनंद नहीं ले सकते हैं और उनके लिए यह सुहाना मौसम भी एक रेगिस्तान की तरह है।

EDITORIAL (13.7.2020): A very sad news came in today. That is the death of Kailash Jha Kinkar from Corona. Since many decades, he has been extraordinarily active in keeping the literary activity in full swing under his leadership in the whole of North Bihar.  Though he was a school teacher by profession but his status in literature of Bajjika and Hindi is very high and undoubtedly one of the most prolific poets of North Bihar. A maestro of all sorts of verses his verses were easily comprehensible but were full of social and national messages. Though being a nationalist one he was not orthodox and definitely belonged to the liberal class of writers. He had been highly supportive to our blogs mainly to our first flagship blog "Bihari Dhamaka" in which there are many Hindi and Angika poems authored by him. Moreover he always used to encourage our work wholeheartedly. We'll miss him for ever. Om Shanti! 
Apart from Mr. Ghanshyam  (renowned poet of Bihar) intimation about the sad demise of Mr Kinkar  we have also enlisted two links of book-review made by Mr.Asmurari Nandan Mishra , the highly talented poet of Bihar and Harinarayan Singh Hari, the senior poet of Bihar. There is also one beautiful love poem by Mrs. Deepshikha Gusain enlisted today.
EDITORIAL (12.7.2020): We have taken the links of three items. One discussion on "ethnocentric ideas" by Dr. Vinay Kumar, one gazal (poem) by Mr. Sagar Anand and one song by Mr. Harinarayan Singh 'Hari'. Turkey and its capital has been a place of historic importance for the world since the medieval period. Mustafa Kalal Pasha brought many reforms to the orthodox setup in his country and it is because of introduction of modernism by Mustafa that Turkey could keep pace with the rest of Europe. He had changed the Turkey from Islamic to secular country and had declared an important mosque as museum. That mosque was earlier a Church. And now that museum has again been turned into a mosque. So citing the reference of it Dr. Vinay Kumar says the the ethnocentric ideology is increasing over the whole world which is not wholesome for humanity. We need to be more liberal  and well-wisher for the whole humankind. The ghazal and song enlisted are engaging.
संपादकीयआज एक बहुत दुखद खबर आई। वह विख्यात कवि श्री कैलाश झा किंकर की कोरोना से मृत्यु की है। कई दशकों से, वह पूरे उत्तर बिहार में अपने नेतृत्व में साहित्यिक गतिविधि को पूरी तरह से बनाए रखने में असाधारण रूप से सक्रिय रहे हैं। हालाँकि पेशे से वे एक स्कूल शिक्षक थे, लेकिन बज्जिका और हिंदी साहित्य में उनका दर्जा बहुत ऊँचा है और निस्संदेह वे उत्तर बिहार के सबसे उर्वर कवियों में से थे। सभी प्रकार के छंदों के उस्ताद श्री किंकर के छंद काव्य आसानी से समझ में आनेवाले थे, लेकिन सामाजिक और राष्ट्रीय संदेशों से भरे होते थे। एक राष्ट्रवादी होने के बावजूद  वे रूढ़िवादी नहीं थे और निश्चित रूप से लेखकों के उदार वर्ग में से थे। वह हमारे ब्लॉगों के लिए मुख्य रूप से हमारे पहले प्रमुख ब्लॉग "बिहारी धमाका" के संचालन में बड़े सहयोगी थे और उसमें उनकी रचित कई हिंदी और अंगिका कविताएँ हैं। इसके अलावा वो हमेशा हमारे काम को पूरे दिल से प्रोत्साहित करते थे। हम उन्हें हमेशा के लिए याद करेंगे। ऊँ शांति !
श्री घनश्याम (बिहार के प्रसिद्ध कवि) द्वारा श्री किंकर के दुखद निधन के बारे में सूचना के अलावा हमने बिहार के उच्च प्रतिभाशाली युवा कवि श्री अस्मुरारी नंदन मिश्रा और  वरिष्ठ कवि हरिनारायण सिंह हरि के  द्वारा की गई पुस्तक-समीक्षा के दो लिंक भी दिए हैं। श्रीमती दीपशिखा गुसाईं रचित एक उल्लासपूर्ण प्रेम कविता का लिंक भी है आज। 
संपादकीय (12.7.2020): 

EDITORIAL (11.7.2020): "Bharo tax raho relax". If you avoid tax then you are ultimately destined to pay much more even while Income Tax Department don't take any penal action on you. How? Because if you don't pay sufficient tax you have to hire unscrupulous breed of CAs or Advocates who exploit you exorbitant charges to help you in your nefarious design. And this way they get the knowledge of your complacence loophole that is used by them as a ransom for indefinite period. Now you are under a a trap of your financial consultant and find no way to move out. This puts immense amount of pressure upon your mind that ultimately make you sick of sorts. You are under consistent fear that the taxmen can raid upon you any time and even your consultant will talk you in the same language. They will ask you any amount wantonly to manage the office so that no raid is made upon you. In reality they don't do anything just take wanton money from you and keep in their own pocket and laugh how they have fooled you. And here you are so worried that your heartbeat increases and blood pressure rises. If this situation continues for many months and years it means that you are susceptible to fatal diseases like diabetes, blood pressure, heart disease, kidney disease ans so on. Ultimately you have to spend millions and crores of rupees only to keep you alive and even that life is of no use to you as you can't enjoy anything. This alll can be avoided only by a simplest measure that is tax compliance. The exemplary versatile artiste and writer Mr. Bhagwat Animesh has posted the whole script of the skit (play) titled "Aayakar Lila" in which I had acted. This humorous drama rent the fully packed hall with clapping and laughater when it was performed in Central Revenue Auditorium Patna a couple of years back. 
Two links of articles have been put one of Rang March and another of Narendra Kumar. Rang March a reputed organisation of theatre in Patna run by Mr. Mrityunjay Sharma posts one article daily about a a towering personality in any area of art. Mr. Narendra Kumar a young connoisseur of Hindi literature keeps on putting his sort of review or pithy comments on the new arrivals in Hindi literature i.e. either in form of a book or an article/ poem published in some magazine. He has now thrown light upon the latest novel of famous writer Mr. Naresh Mehta. He has put forth many interesting rumination of the towering personality Mr. Naresh Mehta while he interviewed another celebrity writer Mr. Ravindra Kalia. In a pithy remark it is said that "Whatever pleasure could be taken had been taken just by looking over, why to think of plucking the flower". Here the flower stands for some beautiful woaman. We have also placed the link of video of Mrs. Vinashree hambrum. Her receital of poems is very effective in keeping you relax in Corona lockdown.
EDITORIAL (10.7.2020): We have enlisted four videos today out of which three are of songs of Bhikhari Thakur sung by different accomplished artistes. These have been presented by Nirman Kala manch (in this Mr Sanjay Upadhyay, the stalwart of Hindi theatre is himself the singer), Parikalpna Manch and Aakhar, Bhikhari Thakur is thought as the Shakespeare of Bhojpuri whose play 'Bidesia' is yet the most popular play in Bhojpuri. He depiccted the plight of wives living a life of sufferings because of several kinds of deprivation in villages while their respective husband work in Kolkata . Many of the husbands chose another Bengali wife there and forget their fist wife. All of this has been shown in a drama full of dance, singing, comedy and tragedy. Bhikhari Thkur left his profession of haircutting and took to work of reading scriptures, singing bhajans like Brahmins but even though being highly learned person in this field he remained a neglected man in comparison with his contemporary Mahendra Mishra who got a much higher status only because of his birth in Brahmin caste. Though he and Bhikari were doing the same work of writing lyrics and singing, Moreover while Mahendra also enjoyed the assembly of prostitutes and wrote many lighter sort of romance Bhikari stuck to piousness in practice and writing. Even though he could not get the status of Mahendra Mishra. Bhikari died in 1971. Once video of a well-known poet Mr. Laxmikant Mukul is also enlisted in which Ms. Razia has recited a poem written by him. The poem is full of optimism. 
We have also given the link of a poem by Mr. Mithilesh Mishra 'Dard' which is about the struggles in life.
संपादकीय (11.7.2020): भरो टैक्स कहो रहो रिलेक्स"। यदि आप कर से बचते हैं तो आपको अंततः और भी अधिक भुगतान करना पड़ता है तब भी जबकि आयकर विभाग आप पर कोई दंडात्मक कार्रवाई नहीं करे। कैसे? क्योंकि यदि आप पर्याप्त कर का भुगतान नहीं करते हैं, तो आपको अपने नापाक मनसूबों में मदद करने के लिए बेईमान किस्म के सीए या अधिवक्ताओं  को किराए पर लेना होगा जो आपसे अत्यधिक शुल्क लेते हैं। और इस तरह से उन्हें आपकी कर-अनुपालन में कमियों का ज्ञान प्राप्त हो जाता है जिसका उपयोग उनके द्वारा अनिश्चित काल तक फिरौती के रूप में किया जाता है। अब आप अपने वित्तीय सलाहकार के जाल में फंस जाते हैं और बाहर नहीं निकल पाते। यह आपके दिमाग पर भारी दबाव डालता है जो अंततः आपको बीमार कर देता है। आप लगातार इस डर में रहते हैं कि इनकम टैक्स वाले कभी भी आप पर छापा मार सकते हैं और यहां तक ​​कि आपके सलाहकार भी उसी भाषा में आपसे बात करने लगते हैं। वे आपसे कार्यालय के मामले सुलझाने के लिए किसी भी राशि की मांग करेंगे ताकि आप पर कोई छापा न पड़े। वास्तव में वे कुछ नहीं करते हैं बस आपसे पैसे लेते हैं और अपनी जेब में रखते हैं और हँसते हैं कि उन्होंने आपको कैसे बेवकूफ बनाया। और यहां आप इतने चिंतित रहते हैं कि आपके दिल की धड़कन बढ़ जाती है और रक्तचाप बढ़ जाता है। यदि यह स्थिति कई महीनों और वर्षों तक जारी रहती है तो इसका मतलब है कि आपको मधुमेह, रक्तचाप, हृदय रोग, गुर्दे की बीमारी जैसे घातक रोग होने की आशंका है। अंतत: आपको केवल आपको जीवित रखने के लिए लाखों- करोड़ों रुपए खर्च करने पड़ते हैं और आपका जीवन भी आपके किसी काम का नहीं रहता है क्योंकि आप किसी चीज का आनंद नहीं ले सकते। इन मुसीबतों को केवल एक सरल उपाय से रोका जा सकता है जो कर-अनुपालन है।विलक्षण बहुमुखी कलाकार और लेखक श्री भागवत अनिमेष ने नाटिका की पूरी पटकथा "आयकर लीला" शीर्षक से पोस्ट की है जिसमें मैंने अभिनय किया था। यह हास्य नाटक पूरे सभागार को तालियों से गुंजायमान कर दिया था जब यह केंद्रीय राजस्व सभागार पटना में कुछ साल पहले किया गया था।
और भी लेखों के दो लिंक हैं - रंग मार्च का एक और नरेंद्र कुमार का एक । रंग मार्च मार्च पटना में थियेटर के एक प्रतिष्ठित संगठन श्री मृत्युंजय शर्मा द्वारा चलाया जाता है जो कला के किसी भी क्षेत्र में एक महान व्यक्तित्व के बारे में हर दिन  एक लेख पोस्ट करता है। श्री नरेंद्र कुमार हिंदी साहित्य के एक युवा और बेहद पारखी व्यक्ति हैं, जो हिंदी साहित्य में नए आगमन या किसी पत्रिका में प्रकाशित लेख / कविता के ऊपर अपनी समीक्षा या तीखी टिप्पणी करते रहते हैं। उन्होंने अबकी बार प्रसिद्ध लेखक श्री नरेश मेहता के नवीनतम उपन्यास पर प्रकाश डाला है। उन्होंने एक ऊंचे व्यक्तित्व श्री नरेश मेहता की कई दिलचस्प चिंतन को सामने रखा, जिस समय उन्होंने एक अन्य महान लेखक श्री रवींद्र कालिया का साक्षात्कार लिया। एक तीखी टिप्पणी में यह कहा गया है कि "जो कुछ आनंद लेना था, वह सिर्फ देख कर लिया गया था, फूल को तोड़ने के बारे में क्यों सोचा जाए"? यहां फूल किसी  सुंदर महिला के लिए कहा गया है। हमने श्रीमती विनाश्री हेंब्रम के वीडियो का लिंक भी दिया है। कोरोना लॉकडाउन में आपको आराम देने के लिए उनकी कविताओं को सुनना बहुत प्रभावी है।
संपादकीय (10.7.2020): हमने आज चार वीडियो सूचीबद्ध किए हैं, जिनमें से तीन अलग-अलग निपुण कलाकारों द्वारा गाए गए भिखारी ठाकुर के गीत हैं। विडियो में से एक निर्माण कला मंच का है (इसमें हिंदी रंगमंच के दिग्गज श्री संजय उपाध्याय स्वयं गायक हैं), और दो परिकल्पना मंच और आखर के हैं भिखारी ठाकुर को भोजपुरी का शेक्सपियर माना जाता है जिनका नाटक 'बिदेसिया' अभी तक भोजपुरी में सबसे अधिक लोकप्रिय है । उन्होंने गाँवों में कई तरह के अभावों को झेलती हुई पीड़ित पत्नियों की दुर्दशा का चित्रण किया, जिस समय उनके पति कोलकाता में काम किया करते थे। कई पतियों ने वहां एक और बंगाली पत्नी को चुना और अपनी पहली पत्नी को भूल गए। यह सब नृत्य, गायन, हास्य और त्रासदी से भरे नाटक में दिखाया गया है। भिखारी ठाकुर ने बाल काटने का अपना पेशा छोड़ दिया और ब्राह्मणों की तरह भजन गाते हुए शास्त्र पढ़ने का काम करने लगे, लेकिन इस क्षेत्र में अत्यधिक विद्वान व्यक्ति होने के बावजूद वे अपने समकालीन महेंद्र मिश्र की तुलना में एक उपेक्षित व्यक्ति बने रहे, जिन्हें उनसे उच्च हैसियत मिली थी । यद्यपि वे और भिखारी गीत लिखने और गाने का एक जैसा काम ही कर रहे थे, ऊपर से महेंद्र मिश्र ने वेश्याओं की सभा का भी आनंद लिया और कई हल्के प्रकार के रोमांस भी लिखे जबकि भिखारी व्यवहार और लेखन दोनों में पवित्रता के बंधे रहे। फिर भी उन्हें महेंद्र मिश्र का दर्जा नहीं मिला। भिखारी का 1971 में निधन हो गया।  एक प्रसिद्ध कवि श्री लक्ष्मीकांत मुकुल के विडियो का लिंक भी प्रकाशित किया गया है जिसमें रजिया ने उनके द्वारा लिखी एक कविता का पाठ किया है। कविता आशावाद से परिपूर्ण है।
हमने श्री मिथिलेश मिश्रा की एक कविता 'दर्द ’का लिंक भी दिया है, जो जीवन के संघर्षों के बारे में है।

EDITORIAL (09.7.2020): And the dreaded gansgster Vikas Dubey. Eight policemen lost their life while trying to arrest him just a few days back and this perpetrator of innumerable heinous crimes had also allegedly killed a minister inside the police station if I am right. The incident of encounter is always a debatable point in the whole circle of media-men and alert public. Conducting an encounter  and killing even a dreaded criminal is not a matter to rejoice but unfortunately given the conditions a sensible person would not oppose it vehemently too. The reason is very simple the nexus of such hard-core criminals are so strong with police system and in the political system that it is almost impossible to punish them judiciously. Moreover they would have amassed such an large amount of money that even the highest of the judiciary brains (advocates) come crawling to them  to rescue. Across the whole country encounter is the only measure from which a criminal fears otherwise he is well-disposed to take the judicial system for a ride. But this is also true that this is just removing tip of the iceberg and not the elimination of the real stink from the law-and-order system. My two words would be that rise of dreaded criminals are possible only with help of politicians. Policemen can be easily controlled if their political masters are pious.  The corrupt people are honoured in politics not just for their influence but because of the capability in them to provide significant help in winning elections. Now why corrupt people or those who are supported by the corrupt people win the election? This is a million dollar question and the answer is the weakness of our democratic system in which only those candidates can win in election who can afford very very costly campaigns and booth management. This all requires tens of crores of rupees and that can only be found with corrupt people. These corrupt people keep on collecting money in illegal ways with the help of deeded criminals and so nexus between crime and politics strengthens. The only way out is the overhaul the setup of democracy itself in such a manner that the superman-like grandeur of thousands of leaders and consistent clashes among different political parties are minimised. There can be several ways of that here is no enough space to discuss those matters in detail.
Dr. Ravindra K Das is a renowned Hindi poet and critic of India. His present poem suggests that the search of third dimension is futile. Even though you succeed in such a pursuit you actually lose the previous one in some way so ultimately you are able to live only a two-dimensional life in this world. Life can never travel in three different dimensions at a time. He has gone rather esoteric but the essence his message seems to be not to run after those things which are almost impossible and better to enjoy whatever is already possessed by you. The seasoned poet Mr. Sagar Anand for his evergreen disposition is our all-time favourite. May be Corona pandemic is a ferocious one, reading his ghazal will soothe your soul. He has inexhaustible trove of balm with him for the whole humanity in his reach. See a sher of he- "Ask ki aarzoo bhi jaroori sanam / Ashk saugat hai isaliye pyar hai". We have also included the link of Mr. Ashish Anchinhar who is not only an excellent Maithili ghazalgo but has been playing the role of trainer in the field since decades. Maithili literature has been monopolised by a couple of castes called Brahmin and Kayasthas. Even between these two more than 90% of the literature has been occupied by Brahmins only. The argument is given that Maithili literature has been preserved only by the efforts of this caste otherwise its position would have fallen drastically since no other castes take interest in this like these people. This is also true to a great extent. Whatever it may be, deliberate attempts should be made so that all castes should have a feeling of possessiveness about Maithili. If not done then the cause of Maithili would be perceived only the cause of a particular caste which will ultimately harm the whole Mithila- region. Mr Ashish Anchinhar has been a rebel and a consistent fighter for this cause and so has also been a target of hostility from his own caste. Notice that he is himself a Brahmin as far as I know him. A video of poem-recital by the renowned Indian poet Mr. Shahanshah Alam is also included and his poems will compel you to think. 
सम्पादकीय (09.7.2020): और खूंखार गैंगस्टर विकास दुबे। कुछ दिन पहले ही उसे गिरफ्तार करने की कोशिश में आठ पुलिसकर्मियों की जान चली गई थी और असंख्य जघन्य अपराधों के इस अपराधी ने पुलिस स्टेशन के अंदर एक मंत्री की  तौर पर हत्या कर दी थी अगर मैं सही हूं। मुठभेड़ की घटना हमेशा मीडिया के लोगों और सतर्क जनता के बीच एक बहस का मुद्दा होती है। मुठभेड़ का संचालन करना और एक खूंखार अपराधी को मारना कोई आनंद का विषय नहीं है, लेकिन दुर्भाग्य से स्थितियों को देखते हुए आज अगर कहीं ऐसा हो तो एक समझदार व्यक्ति इसका तीव्र विरोध भी नहीं करेगा। कारण बहुत ही सरल है, ऐसे दुर्दांत  अपराधियों की सांठगांठ पुलिस व्यवस्था और राजनीतिक व्यवस्था में इतनी मजबूत होती है कि उन्हें न्यायिक रूप से दंडित करना लगभग असंभव होता है। इसके अलावा, वे इतनी बड़ी मात्रा में धन इकठ्ठा कर चुके होते हैं कि न्याय के महारथी (अधिवक्ता) भी उनके बचाव के लिए उनके पास खुद  आ जाते हैं। पूरे देश में मुठभेड़ ही एकमात्र ऐसा उपाय है, जिससे अपराधी डरते हैं अन्यथा न्यायिक प्रणाली को तो वे चकमा देने में सिद्धस्त होते  हैं । लेकिन यह भी सच है कि यह केवल हिमशैल के ऊपरी नोक को हटाना भर है और कानून-व्यवस्था से वास्तविक सड़ांध को खत्म करना नहीं। मेरे विचार में खूंखार अपराधियों का उदय राजनेताओं की मदद से ही संभव है। पुलिस को आसानी से नियंत्रित किया जा सकता है यदि उनके राजनीतिक स्वामी पवित्र मनसा वाले हैं।  भ्रष्ट लोगों को राजनीति में न केवल उनके प्रभाव के लिए सम्मानित किया जाता है, बल्कि चुनाव जीतने में महत्वपूर्ण सहायता प्रदान करने की क्षमता के कारण भी। अब क्यों भ्रष्ट लोग या भ्रष्ट लोगों का समर्थन पाने वाले चुनाव जीतते हैं? यह एक महत्वपूर्ण सवाल है और इसका उत्तर हमारी लोकतांत्रिक प्रणाली की कमजोरी है जिसमें केवल वही उम्मीदवार चुनाव में जीत सकते हैं जो बहुत ही महंगा अभियान और बूथ प्रबंधन का खर्च उठा सकते हैं। इस सभी के लिए दसियों करोड़ों रुपयों की आवश्यकता होती है और यह केवल भ्रष्ट लोगों से ही मिल सकता है। ये भ्रष्ट लोग अपराधियों की मदद से अवैध तरीके से धन इकट्ठा करते रहते हैं जिससे अपराध और राजनीति के बीच गठजोर  मजबूत होता है। एकमात्र तरीका यह है कि लोकतंत्र की स्थापना इस तरह से की जाए कि हजारों नेताओं की महामानवीय छवि और विभिन्न राजनीतिक दलों के बीच लगातार चलनेवाला संघर्ष कम से कम हो। इसके कई तरीके हो सकते हैं, उन मामलों पर विस्तार से चर्चा करने के लिए इस लेख में पर्याप्त जगह नहीं है।
डॉ. रवींद्र के दास भारत के एक प्रसिद्ध हिंदी कवि और आलोचक हैं। उनकी वर्तमान कविता बताती है कि तीसरे आयाम की खोज निरर्थक है। अगर किसी तरह आप ऐसी खोज में सफल हो जाते हैं तो आप वास्तव में  से पिछले एक को खो देते हैं और अंततः आप इस दुनिया में केवल द्वि-आयामी जीवन ही जी पाते हैं । जीवन कभी एक समय में तीन अलग-अलग आयामों में आगे नहीं बढ़ सकता है। यह थोडा गूढ़ हो गया है लेकिन सार में सन्देश यह है कि उन चीजों के पीछे भागना बेकार है जो लगभग असंभव है और जो कुछ भी आपके पास पहले से मौजूद है उसका आनंद लेना बेहतर है। अपने सदाबहार  मिजाज़ वाले श्री सागर आनंद हमारे सर्वकालिक पसंदीदा हैं। चाहे कोरोना महामारी कितनी भी क्रूर हो, उसकी गज़ल पढ़कर आपकी आत्मा चैन हो जाएगी। उनकी पहुंच वाली पूरी मानवता के लिए उनके पास मरहम का अक्षय संचय है। उनका एक शे'र- "अश्क की आरज़ू भी ज़रूरी सनम/ अश्क सौगात है, इसलिये प्यार है"। हमने श्री आशीष अनचिन्हार की कड़ी (लिंक)  को भी शामिल किया है जो न केवल एक उत्कृष्ट मैथिली गज़लगो हैं बल्कि दशकों से इस क्षेत्र में प्रशिक्षक की भूमिका निभा रहे हैं। ब्राह्मण और कायस्थ नामक दो जातियों का मैथिली साहित्य पर एकाधिकार रहा है। इन दोनों के बीच भी 90% से अधिक साहित्य पर ब्राह्मणों का ही कब्जा रहा है। यह तर्क दिया जाता है कि मैथिली साहित्य को केवल इस जाति के प्रयासों से संरक्षित किया गया है अन्यथा इसकी स्थिति में भारी गिरावट आई होती क्योंकि कोई भी अन्य जाति इन लोगों की तरह इसमें रुचि नहीं लेती। यह बात काफी हद तक सही भी है। जो भी हो, जानबूझकर प्रयास किए जाने चाहिए ताकि सभी जातियों को मैथिली के बारे में अपनापन का अहसास हो। यदि नहीं किया गया तो मैथिली आन्दोलन का मुद्दा केवल एक विशेष जाति का मुद्दा माना जाएगा जो अंततः पूरे मिथिला क्षेत्र को नुकसान पहुंचाएगा। श्री आशीष अनचिन्हार इस मामले में विद्रोही और अनवरत योद्धा रहे हैं और इसलिए वे अपनी ही जाति के लोगों के निशाने पर भी रहे हैं। ध्यान दें कि वह स्वयं एक ब्राह्मण है जहाँ तक मैं उन्हेेे जानता हूँ। प्रसिद्ध भारतीय कवि श्री शहंशाह आलम द्वारा कविता-पाठ का एक वीडियो भी शामिल है और उनकी कविताएँ आपको सोचने पर मजबूर कर देंगी।

EDITORIAL(08.7.2020): "A person belonging to the downtrodden class is meant to be trampled. - at least in the view of bourgeois class. And in the same vein a poor or have-not man is worthy to be made fun of him. Those who are in dire need of help and sympathy from the capable ones are just made the butt of ridicule in our so-called civilised society. If this is the form of civilisation in present age then we better lag behind in dark ages. Mr.Asmurari Nandan Mishra, an extraordinary young writer in Hindi has written a fine essay titled as "Besharam ka phool" (A fower called shameless). This has been presented dramatically by Little Thespian (Kolkata) and the link of video is given today. It will relish both of your intellectual and playful tastes.
We have placed one more link of the same writer which is of his fine essay on "The prayer of God Shiva with an aspiration of a hubby. Why Shivs is liked so much by womenfolk? Well, there are several reasons but the most prominent among them is being the extreme caring and lover of His better half. You saw him in the role as husband of Sati and also as of Parwati. Though he is the most powerful entity in the whole universe and his dance (Tandav) shake the whole universe causing extreme fear still when his wife Parwati comes under her sulky spell, he is as helpless and meek as none could be. Women like this meekness in a man. She enjoys most when she gets freedom to show her anger and annoyance whenever she wants and in whatever manner she likes which is best possible with a personality like Shiva.
The best ghazals (poem)  are that are of soliloquy and  confession. And best  shers (towliner) are always philosophical ones. The ghazal by Mr. Prem Kiran, a veteran poet is the same the link of which is given. One sher is- "Mujhko mujhse hi dar lagata hai / Mera kaatil jo mere andar hai' (The poet is afraid of himself because there are so many bad instincts of greed and bad desires within his mind that dents upon his soul consistently. The ghazal by another renowned writer Mr. Satyendra Prasad Srivastava is also on moral downfall in society prevailing in general.
संपादकीय (08.7.2020): "दलित वर्ग से संबंध रखने वाले व्यक्ति का मतलब होता है कि उसे रौंद दिया जाए" - कम से कम एक बुर्जुआ वर्ग के विचारों में। और उसी तरह से एक गरीब या वंचित आदमी उसके लिए मज़ाक करने योग्य है। जिन लोगों को सक्षम लोगों से मदद और सहानुभूति की सख्त जरूरत है, उन्हें हमारे तथाकथित सभ्य समाज में उपहास का पात्र बना दिया जाता है। यदि यह वर्तमान युग में सभ्यता का रूप है तो हम अंधेरे युग में लौट जाएँ तो बेहतर।  हिंदी में एक असाधारण युवा लेखक श्री अस्मुरारी नंदन मिश्र ने "बेशरम का फूल"  के रूप में एक ललित  निबंध लिखा है। यह लिटिल थेस्पियन (कोलकाता) द्वारा नाटकीय रूप से प्रस्तुत किया गया है और वीडियो का लिंक आज दिया गया है। यह आपके बौद्धिक और चंचल दोनों जायकों को संतुुुुष्ट करेगा।
हमने उसी लेखक की एक और कड़ी (लिंक) रखी है, जो उसके ललित निबंध पर है "भगवान शिव की आराधना एक पति की कामना के साथ"। क्यों शिव को महिलाओं द्वारा पसंद किया जाता है? वैसे, कई कारण हैं लेकिन सबसे प्रमुख हैं? उन्हें उनकी पत्नी का बहुत ज्यादा ख्याल रखनेवाला और प्रेमी के रूप में देखा जाता  है। आपने उन्हें सती के पति के रूप में और पार्वती के पति रूप में भी देखा है। हालांकि वह पूरे ब्रह्मांड में सबसे शक्तिशाली निकाय हैं और उनका नृत्य (तांडव) पूरे ब्रह्मांड को अत्यधिक भय के साथ कँपा देता है पर जब उनकी पत्नी पार्वती रूठ जाती है, तो वही  शिव उतने  ही असहाय और नम्र भी हो जाते हैं जितना कोई नहीं हो सकता। महिलाएं एक पुरुष में इस तरह की नम्रता पसंद करती हैं। वह सबसे अधिक आनंद तब लेती है जब उसे अपनी इच्छानुसार जब चाहे और जिस तरह से चाहे अपने क्रोध और झुंझलाहट को दिखाने की स्वतंत्रता मिलती है  जो शिव जैसे व्यक्तित्व के साथ संभव है।
श्रेष्ठ ग़ज़लें (कविता) एकांत और स्वीकारोक्ति की होती हैं। और सबसे अच्छे शेर  हमेशा दार्शनिक होते हैं। एक अनुभवी कवि श्री प्रेम किरण की ग़ज़ल वैसी ही है जिसकी कड़ी (लिंक) दी गई है। एक शेर है- "मुझको अक्सर मुझसे ही डर लगता है /मेरा जो क़ातिल है मेरे अन्दर है" (कवि खुद से डरता है क्योंकि उसके मन के भीतर लालच और बुरी इच्छाओं की इतनी बुरी वृत्ति है जो उसकी आत्मा पर लगातार हावी होती है। एक अन्य प्रसिद्ध लेखक श्री सत्येंद्र प्रसाद श्रीवास्तव की ग़ज़ल भी सामान्य रूप से प्रचलित समाज में नैतिक पतन पर हैं।

EDITORIAL (07.7.2020): Dialects or local tongues are not just for ornamental value. These are the real flag-bearer of the regional culture. Just as every human being is different from other so is the culture. Every local culture has its own set of peculiar and idiosyncratic experiences that reflect in some of their unique words. By uniqueness we mean you can't translate exactly or even nearly them in other languages. And here is the necessity to preserve each and every language and dialect of the world. If a language dies then it's not just a death of language rather with it dies the whole cultural ecosystem that has been self-sufficient in every means till very recently. So in such an unfortunate instance the entire significant chapter each of of anthropological, sociological, historical and geographical importance vanishes for ever. Therefore it is for utmost need that every dialect and language should remain alive and prosper which is only possible when we keep writing and speaking in those languages. The multi-talented exceptional breed of artist and writer Mr. Bhagwat Sharan Jha 'Animesh' knows this well. That is why even while he is a highly respected and one of the most noticeable writer in Hindi from Bihar he has never done away with his mother tongue i.e. Bajjika (the language of Hajipur, Muzaffarpur). Mr. Animesh is a drama director, playwright, actor, singer, poet, essayist apart from being a capable officer in a Union govt. office. I personally have learnt a lot of things in creative writing and drama from him so he is like an elder brother to me though I vouch that my comments about him is free from any partiality and he really worth all of that.  One of his Bajjika song is enlisted which is a specimen of fantastic beauty in linguistic genre. The title is, "Baalam tum bin  firoon 
Mr. Sanjay Kumar Kundan is a consummate ghazalgo (poet) of India whose ghazal will often give you an experience of being neglected, remaining unnoticed and deprived like in the shers (towliners) of Mirza Ghalib. In this ghazal he dealt with conscientious issues and says, "Zindgi uski le ke zinda tha / Mere andar jo roz marta tha // Ab use saath le ke chalta hoon / Tha kabhi mujh me, mera hissa tha.") These two shers (twoliners) gives you the summary of a person's condition in the materialistic inferno of the modern age where the status of conscience has been relegated to a foreign element (second sher). In the first sher he is saying for taking each and every step of your livelihood in this period you have to kill a part of your conscience. No lines can be more powerful to convey the moral devaluation of the society than these. The poem by Ms. Ankita Kullshreshtha is on on woman discourse. The universally persecuted creed is female. A man come to understand the wrongdoing and unjustified behaviour towards the woman only when it is of no use. The irretrievable damage made to the relationship suffers because of egoist and stubborn stance of those belonging to masculine gender. One Urdu poem by Ms. Shama Nasneen Nazan has also been enlisted which is on the pandemic situation of today.
संपादकीय (07.7.2020):बोलियाँ या स्थानीय भाषाएँ केवल सजावटी उद्देश्य के लिए नहीं हैं। ये स्थानीय संस्कृति की वास्तविक ध्वजवाहक हैं। जिस तरह हर इंसान दूसरे से अलग होता है उसी तरह संस्कृति भी। प्रत्येक स्थानीय संस्कृति में अजीबोगरीब और अज्ञात अनुभव के अपने समुच्चय होते हैं जो उनके कुछ अनूठे शब्दों को दर्शाते हैं। अनूठेपन से हमारा तात्पर्य है कि आप उन शब्दों का अन्य भाषाओं में सही-सही या लगभग भी अनुवाद नहीं कर सकते। और इसलिए आवश्यकता है कि दुनिया की प्रत्येक भाषा और बोलियों को संरक्षित किया जाय। यदि कोई भाषा मर जाती है तो यह सिर्फ भाषा की मृत्यु नहीं है बल्कि इसके साथ पूरे सांस्कृतिक पारिस्थितिकी तंत्र की मृत्यु हो जाती है जो हाल-हाल तक हर तरह से आत्मनिर्भर रहा है। इसलिए इस तरह की दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति में  मानवशास्त्रीय, समाजशास्त्रीय, ऐतिहासिक और भौगोलिक में से प्रत्येक के महत्व का एक-एक अध्याय हमेशा के लिए गायब हो जाता है। इसलिए यह अत्यंत आवश्यक है कि हर बोली और भाषा जीवित और समृद्ध बनी रहे जो केवल तभी संभव है जब हम उन भाषाओं में लिखते और बोलते रहें। कलाकार और लेखक श्री भागवत शरण झा 'अनिमेष' जैैैैसे बहु-प्रतिभाशाली असाधारण किस्म के लोग ये अच्छी तरह से जानते हैं। इसीलिए भले ही वे  बिहार में हिंदी के सबसे चर्चित लेखकों में से हैं उन्होंने अपनी मातृभाषा यानी बज्जिका (हाजीपुर, मुजफ्फरपुर की भाषा) से खुद को कभी दूर नहीं किया। श्री अनिमेष एक नाटक निर्देशक, नाटककार, अभिनेता, गायक, कवि, निबंधकार के अलावा एक संघ सरकार के कार्यालय में एक सक्षम अधिकारी भी हैं।  मैंने व्यक्तिगत रूप से उनसे रचनात्मक लेखन और नाटक में बहुत सी चीजें सीखी हैं, इसलिए वह मेरे लिए एक बड़े भाई की तरह हैं, हालांकि मैं यह शपथपूर्वक कहता हूँ कि उनके बारे में मेरी टिप्पणी किसी भी पक्षपात से मुक्त है और वह वास्तव में इस लायक है। उनका एक बाजिका गीत सूचीबद्ध है जो भाषाई शैली में  सौंदर्य का एक अप्रतिम नमूना है। शीर्षक है, "बालम तुम बिन फिरूं बिलल्ला"।
श्री संजय कुमार कुंदन भारत के एक सिद्धस्त गज़लगो हैं जिनकी ग़ज़ल आपको अक्सर मिर्ज़ा ग़ालिब वाली उपेक्षित, ठुकराए गए और वंचित रहने के जैसा अनुभव देगी। इस ग़ज़ल में उन्होंने अंतःकरण के मुद्दे को रखा है  और कहते हैं, "ज़िन्दगी उसकी ले के ज़िन्दा था / मेरे अन्दर जो रोज़ मरता था // अब उसे साथ ले के चलता हूँ / था कभी मुझमें, मेरा हिस्सा था") ये दो शेर हैं  जो आपको आधुनिक युग के भौतिकवादी नरक की स्थिति का सारांश देते हैं जहां अंतरात्मा की स्थिति अवमूल्यन के बाद एक विदेशी तत्व की-सी हो गई है (दूसरा शेर)। पहले शेर में वे कहते हैं कि अपनी आजीविका के प्रत्येक चरण में आपको अपनी अंतरात्मा के एक हिस्से को मारना होगा। समाज के नैतिक अवमूल्यन के लिए कोई भी पंक्ति इससे अधिक शक्तिशाली नहीं हो सकती है।  अंकिता कुलश्रेष्ठ की कविता स्त्री विमर्श पर है। सार्वभौमिक रूप से सताए जाने वाली जाति महिला हैं। एक पुरुष को महिला के प्रति गलत और अनुचित व्यवहार तभी समझ में आता है जब उसका कोई मतलब नहीं रह जाता। संबंधों को की गई अपूरणीय क्षति पुरुषोचित अहंकार और जिद्दी रुख के कारण होती है।  शमा नसनीन नाज़ान की एक उर्दू नज़्म भी शामिल किया गया है जो आज की महामारी की स्थिति पर  है।


EDITORIAL 
EDITORIAL (05.7.2020): Mr. Dhruv Gupt is a living legend. His essays on contemporary topics are profound, impartial and dealt with the minutest detail of the subject. Moreover he does not think that just decrying the act, of someone is enough but he knows it well that without a proposed solution a criticism is of no use. So he always presents a workable solution of it even while he might be talking about the toughest and most delicate matters having immensely larger impact over the public. But this is not enough. You will be surprised to know that this Rtd. IPS is a highly sensitive gazalgo-poet and an ultimate lover of old movie songs and even the movies themselves . In his ghazals he always tries to define the essence of life. In the present ghazal he says - "Paanw me apne chhaale hain ya / Tukda tukda aasmaan hai"(Whether these are just blisters on my sole or are they the pieces of the sky?) The sky stands here for the aspirations, ambitions and dream of a man. Mr. Shahanshah Alam, a well-known Indian poet having his own powerful craft of freestyle poem has posted a beautiful poem on "tea strainer". The strainer of a tea-preparer is the most neglected article in his list even while being very important for tea preparation and the overall pleasure of drinking tea. The poet says that a woman is as neglected in a men's world as a tea-strainer in tea kitchen. The poem by a highly talented lyricist Mr. Asmurari Nandan Mishra has presented this time a lot of vignettes to convey his love for the beloved. Though he has utilised more of his mental faculty than pressing his sentimental chords still his attempt is in right direction and you would love the texture and gesture of it. The ghazal by Mr. Kundan Anand is lucid and comprehensible even by a layman. The first to seventh shers (twoliner) are tight-knit and purposeful while the last about 'gold-smith' is an outlier. See one of his shers that gives you the quintessence of life - "Bhale jeet ho chaahe kitni badi / Rahegi wo chhoti sada haar se). The poet is saying that the victory is not as important for you as the defeats you met during the course of it. So real! Your true life lies in your defeats as you come to know so much about the life while being defeated than after the moment you won. Two Angika pieces are placed that are worthy to looked over by Angika lovers. Sri S. K. Prograamer is a celebrated writer in Angika and Sri Rahul Shivay is a talented young poet. And one exclusive video has been enlisted which is a symphony of poetry and dance. It's excellent! The subject is Corona and the Katthak 'Bhaaw-nitya" (expression of poem through dance) by expert dancer on the poem written by renowned national writer Parichay Das will let you experience a unique sort of pleasure while watching it.
संपादकीय (06.7.2020 :  आज जाने-माने राष्ट्रीय स्तर के ग़ज़लगो श्री संजय कुमार कुंदन और मशहूर ग़ज़लगो श्री प्रेम किरण की एक-एक ग़ज़ल के लिंक को भारत के जाने-माने कवि श्री राज्यवर्धन के संपूर्ण परिचय और उनकी कविताओं वाले लिंक के साथ सूचीबद्ध किया गया है   राज्यवर्धन को जानने के लिए आपको उनकी कविता के पीछे के व्यक्ति को जानना चाहिए। इसलिए, उनके व्यक्तिगत जीवन के विवरणों को जानकर उनकी कविताओं को पढ़ना दिलचस्प है और कविताएँ तो उनकी हैं हीं उच्च स्तर की। जर्मन लेखक फ्रांज काफ्का के बारे में श्री प्रशांत विप्लवी का एक प्रेरक प्रसंग वास्तव में आपको प्रेरित करेगा और आपको अपने जीवन जीने का एक सही तरीका देगा। साथ ही एक वीडियो का लिंक सूची में डाला गया है। वीडियो बांसुरी के साथ सैक्सोफोन की जुगलबंदी का है। एक वाद्यवादक पिता है दूसरा बेटी है और इस वीडियो को देखना सचमुच एक सुखदायी अनुभव है।
संपादकीय (05.7.2020):: श्री ध्रुव गुप्त एक जीवित किंवदंती है। समसामयिक विषयों पर उनके निबंध गहन  और विषय के सूक्ष्म विवरणों के साथ तैयार किये गए होते हैं । इसके अलावा वो नहीं मानते कि किसी कार्य की निंदा मात्र करने से अपनी जिम्मेवारी ख़त्म हो जाती बल्कि वो अच्छी तरह जानते हैं कि समाधान सुझाने के बिना किसी आलोचना का कोई फायदा नहीं है। इसलिए वो हमेशा समस्या का एक व्यावहारिक  समाधान प्रस्तुत करते हैं , भले ही वो जनता से सम्बंधित सबसे कठिन और सबसे नाजुक मामलों के बारे में बात कर रहे हों। लेकिन इतना ही पर्याप्त नहीं है। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि ये सेवानिवृत आईपीएस एक अति संवेदनशील गजलगो-कवि और पुराने फिल्मी गीतों और फिल्मों के चरम प्रेमी है। अपनी ग़ज़लों में वे हमेशा जीवन के सार को परिभाषित करने की कोशिश करते हैं। वर्तमान ग़ज़ल में वे कहते हैं - "पाँव में अपने छाले हैं या / टुकड़ा टुकड़ा आसमान  है"  आकाश एक आदमी की आकांक्षाओं, महत्वाकांक्षाओं और सपनों के लिए यहाँ प्रतीक है। श्री शहंशाह आलम एक प्रसिद्ध भारतीय कवि हैं, जिनके पास मुक्तछंद  कविता का अपना मजबूत शिल्प है, उन्होंने "चाय छलनी" पर एक सुंदर कविता पोस्ट की है। एक चाय तैयार करने वाले की सामग्री-सूची में चायाछन्ना, चाय को बनाने और चाय पीने के समग्र आनंद के लिए बहुत महत्वपूर्ण होते हुए भी  सबसे उपेक्षित वस्तु होती है। कवि कहता है कि एक महिला को पुरुष की दुनिया में चाय वाले की चायछन्ने की तरह  उपेक्षित किया जाता है। एक बेहद प्रतिभाशाली गीतकार श्री अस्मुरारी नंदन मिश्रा की कविता ने इस बार प्रिय के लिए अपने प्यार को व्यक्त करने के लिए बहुत सारे शब्दचित्र प्रस्तुत किए हैं। हालाँकि उन्होंने अपनी भावना के तंतुओं पर जोड़ डालने की बजाय बौद्धिक संकाय का अधिक उपयोग किया है, फिर भी उनका प्रयास सही दिशा में है और आप इसकी बनावट और व्यंजकों को पसंद करेंगे। श्री कुंदन आनंद की ग़ज़ल एक आम आदमी के लिए भी बोधगम्य और ग्राह्य होती है। पहली से सातवें तक शे'र  कसावट लिए हुए और उद्देश्यपूर्ण हैं  जबकि 'सुनार वाला शे'र यहाँ खप नहीं रहा है। उनका एक शे'र देखिये जो जीवन का सार रख रहा है - " कितना सच! आपका वास्तविक जीवन आपके पराजयों में निहित है क्योंकि आप पराजयों के दौरान जीवन के बारे में बहुत अधिक जानते हैं वनस्पति कि उनके जो जीत जाने के बाद आप जान पाते हैं। दो अंगिका रचनाएँ ( भी सूचीबद्ध हैं जिन्हें अंगिका प्रेमी अवश्य पसंद करेंगे श्री एस के प्रोग्रामर अंगिका के दिग्गज कवि हैं और श्री राहुल शिवाय प्रतिभावान युवा कवि). एक ख़ास वीडियो को सूचीबद्ध किया गया है, जो कविता और नृत्य की एक जुगलबंदी है। यह उत्कृष्ट है! विषय कोरोना और कत्थक 'भाव-नृत्य' (नृत्य के माध्यम से कविता की अभिव्यक्ति) प्रसिद्ध राष्ट्रीय स्तर के  लेखक परिचय दास की लिखी कविता पर विशेषज्ञ नर्तक द्वारा प्रस्तुति आपको एक अनूठा आनंद देगी।

EDITORIAL (04.7.2020): Experience of sufferings are almost essential for a good ghazal (a variety of song). There are of course, some ghazals that give rosy picture of life and is still appealing like "Fir chhiri raat baat phoolon ki" but in my view there are very few of such ghazals if you categorise the repertory of the genre as a whole. There is no doubt that the primary narrative of ghazal is romance and even the most arid sort of thoughts find expression in  such a language that is replete with isque (romantic love), muhabbat (love), lover and beloved etc. Such is the gravity of this form that each sher (twoliner) is usually a complete philosophy of life. A good ghazal is invariably philosophical in gesture and mannerism. So we have collected four pieces of excellent poetry for you out of them three are ghazals only.
Mr. Samir parimal  has been on the top of the list in terms of popularity among ghazalkars of Bihar since last many years and there occurred a gap in output because of his new responsibility in Bihar Revenue Service. But now once again he has made a comeback with a bang and you can read his full ghazal. One of the shers is - "Muddaton baad hua katl anaa ka meri / Mudaaton baad koi laash uthaai mai ne" (It was only after a long period when my self-esteem was killed and I had to carry it's corpse). Dr. Vinay Kumar, a highly reputed poet of India has posted a ghazal that he wrote fifteen years back. But barring the 'matla' (two opening lines) which is an excellent piece of romance in it's own right, all the other four shers are deeply philosophical. I am citing just one of them - "Kuchh musafir bane butt isi baat par / Raasta paanw ko poochhta kyon nahi". (Some travelers have stopped being annoyed with the difficulties of the path). And Mrs. Nikhat Ara is with a different experience with a typical feminist touch. She says - "Bhool jaane ke hazaron hai tarike , ek tum / Hi nahi tanha jise gam ne sataya hi nahi". (There are myriads ways one can ignore his beloved / You are not the only alone person afflicted with sorrow. And there is a young poet Prakash Ranjan 'Shail' who is gradually but steadily carving out a niche for himself in the arena of Hindi literature. Some lines of his romantic poem are - "Fir hamari zindgi me gul khile thay / Fir dilon se khatm sab shikwe-gile thay". (Again our life has seen the blossom of flowers and again our hearts were free of all complaints). A link of video is also placed which is of the mellifluous recital of bhajans by Mr. Amar Jain.
संपादकीय (04.7.2020) का हिंदी अनुवाद: एक अच्छी ग़ज़ल के लिए कष्टों का अनुभव लगभग आवश्यक है। बेशक, कुछ ग़ज़लें हैं जो ज़िंदगी की उल्लासपूर्ण तस्वीर देती हैं जैैैैसे कि "फ़िर छिड़ी रात बात फूलों की" और अपील भी करती हैं, लेकिन मेरे विचार में ऐसी ग़ज़लें बहुत कम हैं यदि आप इसके समग्र भंडार को से वर्गीकृत करें। इसमें कोई संदेह नहीं है कि ग़ज़ल का प्राथमिक आख्यान रोमांस है और इसलिए सबसे नीरस प्रकार का विचार भी यहाँ  ऐसी भाषा में अभिव्यक्ति पाता है जो कि इश्क, मुहब्बत, प्रेमी और प्रेमिका जैसी पदावली से परिपूर्ण होता है। इस शैली में वह तीक्ष्णता है कि प्रत्येक शेर आमतौर पर जीवन का एक पूर्ण दर्शन होता है। एक अच्छी ग़ज़ल निश्चित रूप से अभिव्यंजना और शैली के लिहाज़ से दार्शनिक होती  है। इसलिए हमने आपके लिए उत्कृष्ट काव्य  के चार नमूने एकत्र किए हैं जिनमें से तीन केवल ग़ज़ल हैं।
श्री समीर परिमल पिछले कई वर्षों से बिहार के ग़ज़लकारों के बीच लोकप्रियता की सूची में शीर्ष पर रहे  हैं और बिहार राजस्व सेवा में उनकी नई ज़िम्मेदारी के कारण रचनाओं की उत्पाद संख्या में अंतर आया है। लेकिन अब एक बार फिर उन्होंने एक धमाके के साथ वापसी की है और आप उनकी पूरी गज़ल पढ़ सकते हैं। इनमें से एक है - "मुद्दतों बाद हुआ क़त्ल अना का मेरी / मुद्दतों बाद कोई लाश उठाई मैंने"। भारत के एक प्रतिष्ठित कवि डॉ. विनय कुमार ने एक ग़ज़ल पोस्ट की है जिसे उन्होंने पंद्रह साल पहले लिखी थी 'मतला' को छोड़कर जो कि अपने आप में रोमांस का एक उत्कृष्ट नमूना है, अन्य सभी चार शेर गहन दार्शनिक हैं। मैं उनमें से सिर्फ एक का हवाला दे रहा हूं - "कुछ मुसाफ़िर बने बुत इसी बात पर / रास्ता पाँव को पूछता क्यों नहीं"।  और श्रीमती निकहत आरा एक विशिष्ट नारीवादी स्पर्श के अपने अलग अनुभव के साथ हैं। वह कहती है - "भूल जाने के हज़ारों हैं तरीके़, एक तुम / ही नहीं तन्हा जिसे ग़म ने सताया ही नहीं"।  और एक युवा कवि प्रकाश रंजन शैल है जो धीरे-धीरे लेकिन लगातार हिंदी साहित्याकाश में खुद के लिए एक जगह बना रहे हैं। उनकी रोमांटिक कविता की कुछ पंक्तियाँ हैं - "फिर हमारी जिंदगी मे / गुल खिले थे // फिर दिलों से खत्म / सब शिकवे-गिले थे"। एक वीडियो का लिंक भी है जो श्री अमर जैन का अति मधुर भजन गायन का है।


EDITORIAL (03.7.2020): There always exists a universal debate whether the poet and his poetry can be segregated. The aberrations may exist but it is often found that you can't see each other separately. Poetry is just a reflection of the emotional frequencies of a poet moderated by his own intellect. You can't prickle out his poetry from him. It will always bear the signs of the poet in various ways. Mr. Avinash Mishra, a well-known Hindi journalist has raised this point beautifully in his write-up on the legendary poet Mr. Alok Dhanwa and has dealt with it till it's logical extent. You would find it interesting as well as informative. Yes, he is neither a blind follower of Mr. Alok Dhanwa nor has joined his anti pole. 
The four poems by Mrs. Saumya Suman are of the poems of optimism and hope. Her poems envisages undeterred love to her beloved one and the nature. The 'navageet' (new song) by Mr. Jagadish Jand Pankaj throws light on the conditions of neglected people and the mistaken priorities of today. The book-review made by Mr. Sidheshwar of "Sadi ka sach" (compilation of Hindi laghukathaas) authored by Mr Bhagwati Prasad Dwivedi is worthy to be read. The author Mr. Dwivedi is a veteran writer who has earned his fame through his consistent literary creativity since last forty-five years or so. Some. two-three decades ago he was an uncrowned king of child literature in India but thereafter he began to write in all genres of Hindi literature and many of his compilations of poems, stories and novels have been published. He has got many rewards including one from a reputed organisation in UP from the hands of the CM. Mr. Sidheshwar is a high-calibre drawing artist of national reckoning and a very good writer in Hindi. 
संपादकीय (03.7.2020) का हिंदी अनुवाद: यहाँ हमेशा एक सार्वभौमिक बहस मौजूद रहती है कि क्या कवि और उसकी कविता को अलग-अलग करके देखा जा सकता है । अपवाद मौजूद हो सकते हैं लेकिन यह अक्सर पाया जाता है कि आप एक दूसरे को अलग-अलग नहीं देख सकते हैं। कविता कवि की भावनात्मक तरंगों का प्रतिबिंब मात्र है जो उसी की प्रज्ञा द्वारा संवारी गई होती है। आप उनसे उनकी कविता को अलग नहीं कर सकते। यह हमेशा बहुविध प्रकार से कवि के लक्षणों का वहां  प्रकट करेगी। हिंदी के प्रतिष्ठित पत्रकार श्री अविनाश मिश्रा ने प्रख्यात कवि श्री आलोकधन्वा के सम्बन्ध में इस बात को खूबसूरती से उठाया है और इसे तार्किक सीमा तक ले गए है। आपको यह रोचक और ज्ञानवर्धक लगेगा। हां, वो  न तो श्री आलोकधन्वा के अंधे अनुयायी है और न ही उनके ध्रुव विरोधी गुट में शामिल हैं।
श्रीमती सौम्या सुमन की चार कविताएँ आशावाद और सकारात्मकता की कविताएँ हैं। उनकी कविताओं में उनके प्रियतम और प्रकृति के प्रति अगाध प्रेम की परिकल्पना है। श्री जगदीश जैंड पंकज का 'नवगीत' उपेक्षित लोगों की स्थितियों और आज की गलत प्राथमिकताओं पर प्रकाश डालता है। श्री भगवती प्रसाद द्विवेदी द्वारा लिखित "सदी का साच" श्री सिद्धेश्वर द्वारा की गई पुस्तक-समीक्षा पढ़ने योग्य है। लेखक श्री द्विवेदी एक दीर्घानुभवी लेखक हैं जिन्होंने पिछले पैंतालीस वर्षों से अपनी निरंतर जारी साहित्यिक साधना के माध्यम से अपनी ख्याति अर्जित की है। दो-तीन दशक पहले वे भारत में बाल साहित्य के बेताज बादशाह थे लेकिन उसके बाद उन्होंने हिंदी साहित्य की सभी विधाओं में लिखना शुरू किया और उनकी कविताओं और कहानियों के कई संकलन और कई उपन्यास आदि प्रकाशित हुए हैं। उन्हें उ.प्र. के मुख्यमंत्री के हाथों एक प्रतिष्ठित संगठन का एक सम्मान सहित कई अन्य महत्वपूर्ण पुरस्कार मिले हैं। श्री सिद्धेश्वर राष्ट्रीय गणना के उच्च कोटि के रेखचित्रकार और हिंदी के बहुत अच्छे लेखक हैं।


EDITORIAL (02.7.2020): "Har bhale aadmi ki ek rel hoti hai / Jo uski maa ke ghar tak jaati hai / siiti bajati hui / Dhuan uraati hui" (Every good man has a rail / that goes to his mother's house / whistling / blowing smoke) This is a complete poem by Shri Alok Dhanwa, the poet who inspired thousands of writers and other intellectuals during the Jay Prakash movement . Putting it simply if we say that he has been the inspiration behind the entire generation of democratic poets of that period,  it won't be a lie. It has been my good fortune and the same for all of us and that we have seen this legendary personality closely and found how simple and guileless he is. Yes, let me tell you that the above lines of his poem were suggested by my elder brother like poet Mr Bhagwat Animesh about five years ago and since then  till date the lines are put on our first main blog "Bihari Dhamaka" (biharidhamaka.blogspot.com) below the header and we have never thought of changing it, even while before it some fifty times the lines were written, retained and changed.
Dr. Vinay Kumar is a renowned poet of India and by profession a psychotherapist. Like other lovers of Mr. Alok Dhanwa He is also grossly perturbed by the blockage of creational output from such a stalwart who must be having a mountain of matters to write with the help of tears flowing like rivers. See his lines - "Tumhari iss lachakati purush kaya ke bhitar / Hajar aankho wali ek aatma hai / Wah kisi parwat ki kokh hai / Ajanmi nadiyon ke murjhaye ankuron se bhari". The link of whole poem is placed. 
The young energetic poet of Bihar Mr. Kundan Anand. In his present gazal there are seven shers (twoliners) out of which six confront the harsh realities and all of them are taut and impressive. One of the striking 'shers' is - "Raat ki yah tej baarish bijaliyan ye / Aur ek rickaewale ko ghar nahi hai" (It's a downpour with thunders / And there is a ricksaw wallah who is homeless). All five others are also worthy to be cited but we have limitations. One outlier sher "Asl me uski nazare hain sirf mujh par" does not fit with the temperament of this ghazal. The ghazal by Mr. Sagar Anand, the seasoned poet who just write something playful and it becomes a wonderful ghazal, so adept he is. The first three shers seem to the most vital ones in the enlisted ghazal. One sher among all is - "Din ujaalon ki vedana sunkar / Chaand chupchaap ro raha hoga/" This is very poignant and says that those people who look brighter and jovial are in fact not so from within. In fact, their pains are so grim that even the night cries for them. And also there is a Bhojpuri ghazal by Mr. Jitendra Kumar written in the backdrop of Chinese despicable effrontery. 
संपादकीय (02.7.2020) का हिंदी अनुवाद: "हर भले आदमी की एक रेल होती है/ जो माँ के घर तक जाती है/ सीटी बजाती हुई / धुआँ उड़ाती हुई" यह एक पूरी कविता है उस जनकवि श्री आलोकधन्वा की जिनसे जयप्रकाश आन्दोलन के दौरान हजारों साहित्यकार और अन्य बौद्धिक लोग प्रेरित हुए थे. यूं कहें कि उस पूरी पीढ़ी के जनवादी कवियों की वे प्रेरणा रहे हैं तो कुछ गलत नहीं होगा. हम सबका और व्यक्तिगत रूप से मेरा यह सौभाग्य रहा है कि हमने उनको करीब से देखा है कि वे कितने सरल और निश्छल हैं. हां, एक बात आपको बता दूं कि ऊपर में दी गई उनकी कविता की पंक्तियाँ हमारे अग्रज सदृश कवि श्री भागवत अनिमेष जी ने लगभग पांच वर्ष पूर्व मुुुुझे सुझाई थी और उस समय से लेकर अब तक वो ज्यों का त्यों हमारे पहले प्रमुख ब्लॉग "बिहारी धमाका" (biharidhamaka.blogspot.com) के शीर्षक के नीचे विराजमान है और उसे बदलने की कभी हमने सोची ही नहीं जबकि उसके पहले पचासों पंक्तियाँ लिखकर बदली जा चुकी थीं वहाँ पर.
डॉ. विनय कुमार भारत के प्रसिद्ध कवि हैं और पेशे से एक मनोचिकित्सक हैं। श्री आलोक धन्वा के अन्य प्रेमियों की तरह वह भी ऐसे दिग्गज से रचनाओं के उत्पादन के रुके होने से से व्यग्र हैं, जिनके पास नदियों की तरह बह रहे आंसुओं की मदद से लिखने के लिए मसलों का पहाड़ होना चाहिए। उनकी पंक्तियाँ देखें - "तुम्हारी इस लचकती पुरुष काया के भीतर / हज़ार आँखों वाली एक आत्मा है / वह किसी पर्वत की कोख है / अजन्मी नदियों के मुरझाए अंकुरों से भरी"। पूरी कविता का लिंक रखा गया है।
बिहांर के युवा ऊर्जावान कवि हैं श्री कुंदन आनंद। उनकी वर्तमान ग़ज़ल में सात शे'र हैं, जिनमें से छह कठोर वास्तविकताओं से जूझ रहे हैं और उनमें से सभी कसे हुए और प्रभावशाली हैं। उन मर्मभेदी शे'रों में से एक है - "रात की यह तेज बारिश, बिजलियां ये, / और इक रिक्शावले को घर नहीं है।" सभी पाँच अन्य भी उद्धृत किए जाने योग्य हैं, लेकिन हमारी सीमाएँ हैं। एक अलग मिजाज़ का शे'र "अस्ल में उसकी नज़र है सिर्फ़ मुझपर" इस ​​गज़ल के स्वभाव के साथ जमता नहीं है। अनुभवी ग़ज़लगो श्री सागर आनंद जो खेल-खेल में कुछ लिख देते हैं और वह सुन्दर ग़ज़ल बन जाती है, इतने मंझे हुए हैं वे। उनकी सूचीबद्ध गज़ल में पहले तीन शेर सबसे महत्वपूर्ण लगते हैं।  इन सबके बीच एक शे'र है - "दिन उजालों की वेदना सुनकर / चांद चुपचाप रो रहा होगा" यह बहुत ही मार्मिक है जो बताता है कि वे लोग जो चमकीले और उल्लासपूर्ण दिखते हैं, वे वास्तव में ऐसे नहीं होते। असल में, उनके दर्द इतने गंभीर होते हैं कि रात भी उनके लिए रोती है। और साथ ही श्री जितेन्द्र कुमार द्वारा भोजपुरी गज़ल भी दी गई है, जो कि निंदनीय चीनी धृष्टता की पृष्ठभूमि में लिखी गई है।


EDITORIAL (1.7.2020):It is true that a common citizen passes through innumerable situational ordeals in course of his life and in many of them he loses something. But if he is staunch adherent of truth he comes over all of them unscathed. Though whenever he allows himself to be a comfort seeker he enters into a trap that kills his conscience bit by bit. In essence, nobody has power to move you from your probity until you will for it. And so the insightful seasoned poet of India Mr. Dhruv Gupt says- "Hamari bhi raza shamil thi uss me / Zamane ne hame maara nahi hai" (The society has no guts to kill me it was in fact the presence of my willingness that I was killed.) Here one who is being killed is not the man but his conscience, this should well be understood. Each of the shers (twoliners) of his ghazal (poem) enlisted opens a new vista of approach to learn the ways of life. Anguish has been expressed by Mr. Sheo Dayal  and  Mrs. Nileema Sinha both a national level renowned writer, on why a reputed editor of a top literary periodical  has left the names of so many books of different distinguished authors in a list of those who wrote on  political issues. Both of them have presented the facts with the names of the such writers and the name of important books that have been forgotten by the editor under discussion..  Mr Shahanshah Alam, a renowned writer of India has posted a book-review of the July-September'20 edition of the reputed literary magazine 'Doaba'. Since last 14 years this magazine has been being published by Mr. Jabir Hussan who is not only a renowned national writer but also an ex-chairman of Bihar Legislative Council. And we have also put the link of the ghazal by Mr. Kailash Jha Kinkar who is the most active poet in North Bihar and writers both in Angika and Hindi. The 'matla' (first two lines) of the ghazal is quintessential -  Jinhe dhoondhti hai nigahen meri / Pahunchti na un tak sadayen meri". (My call does not reach the person I look for). The specialty of Mr. Kinkar is his language is very simple but the message is crystal clear and there is never vagueness of any sort in that. I hope you would like all of these material. Bye, take care! 
संपादकीय (1.7.2020) का हिंदी अनुवाद: यह सच है कि एक आम नागरिक अपने जीवन के दौरान असंख्य परिस्थितिजन्य कठिन परीक्षाओं से गुजरता है और उनमें से कई में वह कुछ खो देता है। लेकिन अगर वह सच्चाई का पालन करने वाला है तो वह उन सभी से बिना कुछ गंवाए निकल आता है। यद्यपि जब भी वह अपने आप को एक आरामतलवी  होने की अनुमति देता है तो वह एक ऐसे जाल में फंसता जाता है जो उसके  अंतःकरण को थोड़ा-थोड़ा करके मारता है। संक्षेप में, किसी में भी आपको अपनी सत्यनिष्ठा से डिगाने की शक्ति नहीं है जब तक आप इसके लिए नहीं इच्छुक नहीं होंगे। और इसलिए भारत के सूक्ष्मद्रष्टा अनुभवी कवि श्री ध्रुव गुप्त कहते हैं - "हमारी भी रज़ा शामिल थी उसमें / ज़माने ने हमें मारा नहीं है"  यहाँ जो मारा जा रहा है वह आदमी नहीं बल्कि उसका ज़मीर है - इस बात को अच्छी तरह से समझा जाना चाहिए। उनकी ग़ज़ल का  प्रत्येक शे'र जीवन के तरीकों को सीखने का एक नया दृष्टिकोण देता है।  श्री शिवदयाल और श्रीमती नीलिमा सिन्हा (दोनों द्वारा राष्ट्रीय स्तर के प्रसिद्ध लेखक) के द्वारा पीड़ा व्यक्त की गई है कि एक शीर्ष साहित्यिक पत्रिका के प्रतिष्ठित संपादक ने विभिन्न प्रतिष्ठित लेखकों की इतनी सारी पुस्तकों के नाम क्यों छोड़ दिए हैं, अपनी राजनीतिक विषयों पर लिखी पुस्तकों की एक सूची में।  दोनों ने ऐसे लेखकों के नाम और महत्वपूर्ण पुस्तकों के नाम के साथ तथ्यों को प्रस्तुत किया है, जिन्हें अपनी चर्चा में संपादक ने भुला दिया है।  भारत के एक प्रसिद्ध लेखक श्री शहंशाह आलम ने प्रतिष्ठित साहित्यिक पत्रिका 'दोआबा' का जुलाई-सितंबर'20 अंक की पुस्तक-समीक्षा की है।  पिछले 14 वर्षों से यह पत्रिका श्री जाबिर हुसन द्वारा प्रकाशित की जा रही है, जो न केवल एक प्रसिद्ध राष्ट्रीय लेखक हैं, बल्कि बिहार विधान परिषद के पूर्व अध्यक्ष भी हैं। और हमने श्री कैलाश झा किंकर द्वारा कही ग़ज़ल की कड़ी (लिंक) भी डाली है जो उत्तर बिहार के सबसे सक्रिय कवि हैं और अंगिका और हिंदी दोनों में लेखक हैं। ग़ज़ल का मतला ’(पहली दो पंक्तियाँ) सर्वोत्कृष्ट हैं - जिन्हें ढूँढ़ती हैं निगाहें मेरी / पहुँचती न उन तक सदायें मेरी” । श्री किंकर की खासियत है उनकी भाषा बहुत सरल होती है लेकिन संदेश स्पष्ट होता है और इसमें किसी भी प्रकार की दुरूहता नहीं होती। मुझे आशा है कि आप इन सामग्रियों को पसंद करेंगे। अलविदा, अपना ध्यान रखिये!


EDITORIAL (30.6.2020): Baba Nagarguna was a revolutionary poet who took birth on this day in 1911. Undoubtedly he is a legendary poet in Hindi and is also known for his vagarious and nomadic life-style. He never stayed at one place much longer and always kept changing the place and so one of the epithet 'yatri' suits him well. Proficient in both rhythmic and freestyle poems he was also a scholar of Maithili, Sanskrit and Banla and did his work in all of the four languages. Mr. Swapnil Srivastava, a well-known writer of India has posted a memoir of him and mentions how at a cross-road of Hapur he abruptly began to present his poem addressed to Indiara Gandhi and was surrounded by the amazed crowd. He is rightly called 'Jana-kavi' as his verses appeal to a layman directly. 
The ambiance can be overwhelmed by laws, rules and regulation but that does not mean that a person living in such a scenario will definitely be law-buff. Mr. Sunil Kumar is basically a romantic gazalakar (poet) who is quite popular in Bihar. One of the sher (twoliner) from his ghazal enlisted today is -"Aisi qaatil hai ye maasoom muhabbat ki ada / Jaan toh le li par jaan se maara bhi nahi" (So killer is the style of innocent love that captured my life but never took my life). Mr. Avinash is not only himself a good writer but also has a penchant for reviewing the literary books of others. This time he has presented a detail discussion on the compilation of stories authored by Mr. Gopal Nirdosh. Mr. Avinash has given the brief of each story compiled in it with the prominent specifics. A few months back Mr. Prem Bhardwaj, the well-known ex-editor of reputed literary magazine 'Pakhi' died but he can not be obliterated from the minds of his lovers. Mr. Shambhu P Singh, retd. producer of Doordarshan and well-know story-writer has posted his memoirs with Prem Bhardwaj. The content is more about personal friendly talk with him that will interest you without burdening you with any hardcore sort of literary discussion. Stay healthy and happy!
संपादकीय (30.6.2020) का हिंदी अनुवाद: बाबा नागार्जुन एक क्रांतिकारी कवि थे, जिन्होंने 1911 में आज ही के दिन जन्म लिया था। निस्संदेह वे हिंदी के एक प्रसिद्ध कवि हैं और अपनी ओजस्वी और घुमंतू जीवन शैली के लिए भी जाने जाते हैं। वह कभी भी महत्वपूर्ण अवधि के लिए एक स्थान पर नहीं रहे और हमेशा जगह बदलते रहे और 'यात्री' उपनाम उन्हें अच्छी तरह से जंचता है। छंदबद्ध और मुक्तछंद कविताओं में कुशल, वे मैथिली, संस्कृत और बानला के विद्वान भी थे और उन्होंने सभी चार भाषाओं में अपना काम किया। भारत के जाने-माने लेखक श्री स्वप्निल श्रीवास्तव ने उनका एक संस्मरण पोस्ट किया है और उल्लेख किया है कि कैसे हापुड़ के एक चौराहे पर उन्होंने अचानक इंदिरा गांधी को संबोधित अपनी कविता प्रस्तुत करना शुरू किया और आश्चर्यचकित भीड़ से घिर गए। उन्हें  सही तौर पर 'जन-कवि' कहा जाता है क्योंकि उनके छंद सीधे किसी आम आदमी की अपील करते हैं।
कानूनों, नियमों और विनियमों से माहौल अभिभूत हो सकता है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि ऐसे परिदृश्य में रहने वाला व्यक्ति निश्चित रूप से कानून का शौकीन होगा। श्री सुनील कुमार मूल रूप से एक रोमांटिक गज़लगो हैं जो बिहार में काफी लोकप्रिय हैं। आज पोस्ट की गई उनकी ग़ज़ल में से एक है -"ऐसी क़ातिल है ये मासूम मुहब्बत की अदा / जान तो ले ही ली पर जान से मारा भी नहीं"। श्री अवि नाश न केवल स्वयं एक अच्छे लेखक हैं, बल्कि दूसरों की साहित्यिक पुस्तकों की समीक्षा में भी रूचि रखते  हैं। इस बार उन्होंने श्री गोपाल निर्दोष द्वारा लिखित कहानियों के संकलन पर एक विस्तृत चर्चा प्रस्तुत की है। श्री अविनाश ने इसमें संकलित प्रत्येक कहानी का विवरण उसकी प्रमुख बारीकियों के साथ दिया है। प्रतिष्ठित साहित्यिक पत्रिका 'पाखी' के प्रसिद्ध पूर्व-संपादक प्रेम भारद्वाज का निधन हो गया, लेकिन वे अपने प्रेमियों के मन से विमुख नहीं हो सकते। श्री शंभू पी सिंह, दूरदर्शन के से.नि निर्माता ने प्रेम भारद्वाज के साथ अपने संस्मरण पोस्ट किए हैं। सामग्री उसके साथ व्यक्तिगत मैत्रीपूर्ण बातचीत के बारे में अधिक है जो आपको किसी भी तरह की गंभीर साहित्यिक चर्चा के बोझ के बिना आपको रुचिकर लगेगी। सुरक्षित रहिए, प्रसन्न रहिए!


EDITORIAL (29.6.2020): Life is a cry in wilderness. You want to say so much but there is no one to listen to you. If someone really takes care of your pain it's you. A renowned poet of India, Dr. Ravindra K Das has posted a pithy ghazal (poem) a sher of which is - "Yaar jab karte siyaasat aap bachne ke liye / Zakhm dhank kar pairahan se hans raha ranzoor hoo" (When the cheater friend try to defend himself through diplomatic statements I think it better to run with my wounds just tied up by clothes". In another sher (twoliner) he says - "Hai wahan dariya ki dariya bah gaya kisko pata / 'Das' hokar hoiye kya mai bahut mashoor hoon" (Whether there is a river of tears or that has been washed away you can understand it only when you become 'Das' i.e. the poet). Another prolific poet is Mr. Sagar Anand whose style of connotation is rather simple but this time he has preferred to go a little esoteric and said -"Ham tumhare hain tumhare hain tumhare kewal / Tum bhi taqseem waseelon ko tatolo dilawar" (I am yours only and only yours. now you also think who are the persons who get resources of love from you.). Mr.  Hemant Behera is one of the rare persons in my friend list who write in English. And perhaps the only one who writes poetry in English only. His language and craft is simple but poetry is purposeful and supporter of humanity to the core. In this instance he has advised people that since death is inevitable it's better to live a life in meaningful manner and meaning comes from thinking for others and being more and more merciful to others. We have also included a link of conversation between two ballet trainers. One is from Mumbai (India) and other is from Dominican Republic (South America).
संपादकीय (29.6.2020) का हिंदी अनुवाद: जिंदगी एक अनसुनी चीख की तरह है. आप कितना कुछ कहना चाहते हैं लेकिन आपकी बात सुनने वाला कोई नहीं है। अगर कोई वास्तव में आपके दर्द का ख्याल रखता है तो वह आप हैं। भारत के एक प्रसिद्ध कवि, डॉ.रवींद्र के दास ने एक सत्वपूर्ण ग़ज़ल  पोस्ट की है, जिसमें से एक शे'र है - "समझने की बात है कि यह दरिया पानी का नहीं आंसुओं का है जो कवि के पास जाकर ही कोई देख सकता है। एक और अत्यंत सक्रिय ग़ज़लगो हैं श्री सागर आनंद जिनके चिरपरिचित अंदाज की ख़ूबी सरलता है। पर इस बार उन्होंने थोड़ा सा गूढ़ व्यक्ति बन जाना पसंद किया और कहा - 

EDITORIAL (28.6.2020): Poetry is the verbal translation of the rhythm of one's feelings.. Feelings can originate from Freudian Id and they can be wanton and wayward. Though a thoughtful poetry takes form only when your super-ego (Freudian term)  is hit and as a result, waves of feelings come out as a defense mechanism. Let us stop the Freudian psychoanalysis and come to the posts shared today. Mr, Krishna Kalpit is a renowned poet of India who says that poetry is a cryptic language of cultures. He has emphasised the roles of place, society and community in the formation of poetry and it just can't be free of them so it can no way be universal or world- poetry. Well-known young poet of India Mr. Anand Gupta has posted the editorial of 'Vagarth' on "The poetry in future". The ghazals by popular gazalago Mr. Aijaz Sahil and veteran poet Mr. Prem Kiran are worthy to go through carefully. Another young writer Mr. Amir Hamza has posted a motivational article today which is a nice one.

संपादकीय (28.6.2020) का हिंदी अनुवाद: कविता किसी की भावनाओं की लय का शाब्दिक अनुवाद है। भावनाओं की उत्पत्ति फ्रायडियन उपाहं से हो सकती है और वो मनमौजी और स्वच्छंद हो सकती हैं। यद्यपि एक विचारशील कविता तभी बनती है जब आपका पराहं (फ्रायडियन शब्द) चोटिल होता है और परिणामस्वरूप, रक्षा उपक्रम के रूप में भावनाओं की लहरें निकलती हैं। आइए हम फ्रायडियन मनोविश्लेषण को रोकते हैं और आज साझा किए गए पोस्टों पर आते हैं। भारत के एक प्रसिद्ध कवि श्री कृष्ण कल्पित कहते हैं कि कविता संस्कृतियों की एक कूटभाषा है। उन्होंने कविता के निर्माण में देश, समाज और जाति की भूमिकाओं पर जोर दिया है और माना कि यह उनसे कभी मुक्त नहीं हो सकती है इसलिए सार्वभौमिक या विश्व-कविता नहीं हो सकती। भारत के जाने-माने युवा कवि श्री आनंद गुप्ता ने "आने वाले समय में कविता" पर 'वागर्थ ’का संपादकीय पोस्ट किया है। लोकप्रिय ग़ज़लगो श्री एज़ाज़ साहिल और अनुभवी कवि श्री प्रेम किरण की ग़ज़लें ध्यान से देखने लायक हैं। एक अन्य युवा लेखक श्री अमीर हमजा ने आज एक प्रेरक लेख पोस्ट किया है जो अच्छा है।


EDITORIAL (27.6.2020): Contemporary mainstream Hindi literature and Hindi poetry in particular is under the influence of post-modernism. The main features of it is formlessness, lawlessness (in literary context). aversion to any theory or doctrine. One can write in any manner he thinks fit and the writer is himself the proponent of his craft. Still three discourses have undoubtedly emerged as prominent ones - Feminist, Dalit (depressed class) and Janawad (pro-public). And so is the freestyle poems of today where only the message matters not the form and even this message is not conveyed but suggested. The reader can interpret as he likes in a full democratic fashion. Not drifting much farather and clinging to the subject, even the songs have re-incarnated as 'Nav-geet' and 'Abhinav-geet'. The third one is 'Janageet' (on Marxist line). Dr. Manohar Abhay, a king of "Doha poems" and a scholar on the subject has posted a detail though-provoking article on the evolution of 'navageet' in contemporary period and has talked on every aspect of it. He is not convinced with the ideas of Dr. Ram Bilas Sharma and Dr. Namvar Singh. The first has rejected outright the form of 'Navageet' and the other has discounted it saying that it's more a matter of sweat than of pains and so valueless. Dr. Manohar does not buy the thesis of both of the icons and says that in the name of modernism we are in fact coming under the influence of western thinkers like Jack Goody, Enrique Dussel, CRL James, Eric Wolf etc at the cost of ignoring our vast native knowledge-base. And gradually he enters the narrative of nationalism and says that patriotism does not mean advocacy in favour of the government. He seems to have stated that he introduced new forms of 'Abhinayageet' and so this can be thought as originated from him. He also put the example of Prof. Raghvendra Tiwari and said that his 'nagageet' has a depth of sensitivity, new sense of thematic heat, They also have a touch of political temperature, environmental concern, colour of passion-dispassion and an aura of philosophy. 
Summarising it all, there seems to be two clear divisions in Hindi poetry today. One is in support of global trends, is more pro-public and shows indifference to the beauty of the craft while the other loves to feel pride in it's national elements and is more focused on it's cultural chic for the beauty of the craft. But the question arises here is when the whole world is highly intertwined on communication and economic turfs  how can you live in seclusion?  And championing for the beauty of craft should be done at what cost when innumerable newer varieties of complexities are emerging in every corner of the world? Showing even a little bit complacency may cost too much for the whole community beyond caste, creed and nationality.
Mr. Anand Gupta (a renowned young poet of India) has conducted a debate on the issues looming large on Hindi poetry and the whole series have been published in the reputed magazine 'Vagarth'. We are giving here two episodes of that. The participants Mr. Rajesh Joshi and Ms. Anamika both are celebrated poets of India and are optimistic about the role of digital medium for the progress of Hindi poetry. Both also agree at the point that the role of a poet today should be of activist and they should not write merely for literary purpose. Link of a gazal by Mr. Sanjay Kumar Kundan is placed today. Mr. Kundan is a well-known shayar (poet) in whole India whose six compilation of gazals have been published. In the present ghazal he has drawn an ultra-realistic picture of lukewarm relationship of today. One of the sher is - "Bhala kaisi thi ye mukhatibat, ke nazar kahin, kahin dhyan tha / Zara dil ne kahna jo chaha kuchh, Ye laga ke usne suna na tha".  And also, there is a poem by Mr. Satyendra Prasad Srivastava, a famous writer has posted a poem which is a scathing rebuke on pseudo-truthfulness.  
संपादकीय (27.6.2020) का हिंदी अनुवाद: समकालीन मुख्यधारा का हिंदी साहित्य और विशेष रूप से हिंदी कविता उत्तर-आधुनिकतावाद के प्रभाव में है। इसकी मुख्य विशेषताएं निश्चित रूप का अभाव, अनियमबद्धता  (साहित्यिक संदर्भ में) और किसी 'वाद' के प्रति उदासीनता है।  कोई भी किसी भी तरीके से लिख सकता है जिसे वह  उचित समझता है और लेखक स्वयं अपने शिल्प का प्रस्तावक है। अभी तीन प्रकार के 'विमर्श' प्रमुख रूप से उभरे हैं - नारीवादी, दलित वर्ग और जनवाद । और आज की मुक्तछंद  कविताएँ ऐसी है जिसमें संदेश मायने रखता है न कि रूप और यह संदेश भी दिया नहीं बल्कि सुझाया जाता  है। एक पूर्ण लोकतांत्रिक तरीके के अनुरूप पाठक अपनी तरह से व्याख्या कर सकता है जैसे भी वह पसंद करता है। ज्यादा विषयांतर नहीं करते हुए और विषय पर लौटते हुए यह कहना ठीक रहेगा ​​कि गीतों को 'नव-गीत' और 'अभिनव-गीत' के रूप में फिर से अवतरित किया गया है। तीसरा प्रकार भी  है 'जनगीत' (मार्क्सवादी लाइन पर)। डॉ. मनोहर अभय, "दोहा सम्राट" हैं और आज के इस विषय के एक विद्वान भी हैं उन्होंने समकालीन समय में 'नवगीत' के विकास पर एक विचारोत्तेजक लेख पोस्ट किया है और इसके हर पहलू पर चर्चा की है। डॉ. रामबिलास शर्मा और डॉ. नामवर सिंह के विचारों से वो सहमत नहीं हैं। पहले ने 'नवगीत' के रूप को एक सिरे से खारिज कर दिया है और दूसरे ने यह कहते हुए इसके महत्व को कम किया है कि इसमें दर्द (संवेदना) की अपेक्षा    पसीना (श्रम) कहीं ज्यादा है। डॉ. मनोहर दोनों दिग्गजों की थीसिस को नहीं मानते हैं और कहते हैं कि आधुनिकता के नाम पर हम वास्तव में अपने देश की विशाल ज्ञान-संपदा की अनदेखी करने की कीमत पर जैक गुडी, एनरिक डसेल, सीआरएल जेम्स, एरिक वुल्फ आदि जैसे पश्चिमी विचारकों के प्रभाव में आ रहे हैं। और धीरे-धीरे वो राष्ट्रवाद के आख्यान में प्रवेश करते हैं और कहते हैं कि देशभक्ति का मतलब राजभक्ति नहीं है। ऐसा लगता है कि उनका कहना है कि उन्होंने अभिनवगीत के रूपों में पेश किया है और इसलिए उन्हें इसका जनक माना जा सकता है। उन्होंने प्रो. राघवेन्द्र तिवारी का उदाहरण भी दिया और कहा कि उनकी 'नवगीत' में संवेदनशीलता की गहराई है, विषयगत ऊष्मा की नई भावना है, उनके पास राजनीतिक ताप, पर्यावरण की चिंता, प्रेम का राग-विराग और दार्शनिकता का स्पर्श
है।
संक्षेप में, आज हिंदी कविता में दो स्पष्ट विभाजन प्रतीत होते हैं। एक वैश्विक रुझानों के समर्थन में है, अधिक जन-समर्थक है और शिल्प की सुंदरता के प्रति उदासीनता दिखाता है जबकि दूसरा राष्ट्रीय तत्वों में गर्व महसूस करना पसंद करता है और यह शिल्प की सुंदरता के लिए सांस्कृतिक अभिरुचि पर अधिक केंद्रित है। लेकिन यहां सवाल यह उठता है कि जब पूरी दुनिया संचार और अर्थव्यवस्था के लिहाज से बहुत ज्यादा आपस में गुंथी हुई है तो आप एकांत में कैसे रह सकते हैं? और शिल्प की सुंदरता की रक्षा किस कीमत पर की जानी चाहिए जब दुनिया के हर कोने में अनगिनत नई किस्म की जटिलताएं उभर रही हों?  थोड़ी  भी आत्मतुष्टता दिखाना  जाति, धर्म और राष्ट्रीयता से परे  पूरे मानव समुदाय के लिए बहुत मँहगा साबित हो सकता है।
श्री आनंद गुप्ता (भारत के एक प्रसिद्ध युवा कवि) ने हिंदी कविता के संबंध में बड़े पैमाने पर उभरते मुद्दों पर एक परिचर्चा का आयोजन किया है जिसकी पूरी श्रृंखला को प्रतिष्ठित पत्रिका 'वागर्थ' में प्रकाशित किया गया है। हम यहां उस के दो भाग दे रहे हैं। प्रतिभागी श्री राजेश जोशी और सुश्री अनामिका दोनों ही भारत के विख्यात कवियों के नाम से जाने जाते हैं और हिंदी कविता की प्रगति के लिए डिजिटल माध्यम की भूमिका के बारे में आशावादी हैं। दोनों इस बात पर भी सहमत हैं कि आज एक कवि की भूमिका कार्यकर्ता की होनी चाहिए और उन्हें केवल साहित्यिक उद्देश्य के लिए रचनाकार नहीं होना चाहिए। श्री संजय कुमार कुंदन रचित एक गज़ल का लिंक आज रखा गया है। श्री कुंदन पूरे भारत में एक जाने-माने शायर  हैं जिनकी  ग़ज़लों के छह संकलन प्रकाशित हो चुके हैं। वर्तमान ग़ज़ल में उन्होंने आज के संबंधों की उदासीनता की एक अति-यथार्थवादी तस्वीर खींची है। शे'रोंं में से एक है - भला कैसी ये थी मुख़ातिबत, के नज़र कहीं, कहीं ध्यान था / ज़रा दिल ने कहना जो चाहा कुछ, ये लगा के उसने सुना न था"। और साथ ही एक प्रसिद्ध लेखक श्री सत्येंद्र प्रसाद श्रीवास्तव की एक कविता भी है,  जो छद्म सत्यवादिता पर एक तीखी फटकार है।


EDITORIAL (26.6.2020)
Rang March has posted an article on the foundation day of Bihar Art Theatre (BAT). BAT is a revolution in itself. Without a political backing it had survived since 1961 till date and still active in production, training and facilitation of performance of drama is an exemplary instance of cultural survival. No one can crush the true spirit of cultural activities if there are people like Late Anil Mukherji, Ajit Ganguli, Pradip Ganguli, and all of such ones. The poem by Mr. Prashant Viplavi presents a delicate picture of confession of malevolent ego. This is so realistic that it is bound to appeal you. The translation by Ms. Pankhuri Sinha of the Arabic poem by Taher Mechi is vivid. The mighty waves of love for the beloved is manifest. Dr. Vijay Prakash Rai has posted a poem that has both the beauty of rhyme and a message of conservation of the environment.
संपादकीय (26.6.2020) का हिंदी अनुवाद: 25 जून 1975 को श्रीमती इंदिरा गांधी द्वारा राष्ट्रीय आपातकाल लागू करना न केवल भारत का बल्कि पूरे मानव जाति के इतिहास का एक काला प्रकरण था। प्रेस सेंसरशिप और विपक्षी नेताओं की गिरफ्तारी इसके कार्यान्वयन के मुख्य उपकरण थे। भारत के विद्वानों में से एक श्री परिचय  दास ने इस पर एक विस्तृत लेख पोस्ट किया है जो राष्ट्रीय आपातकाल के एक विशेष उदाहरण तक सीमित नहीं है बल्कि इसमें पूर्ण स्वतंत्रता के बारे में बात की गई है। राष्ट्रपति द्वारा राष्ट्रीय आपातकाल की घोषणा से ही सिर्फ एक नागरिक की स्वतंत्रता पर हमला नहीं किया जा सकता। बहुत सारे तरीके हैं जो बहुत नाजुक भी हैं और महीन भी। यदि हम एक पशु की तरह नहीं बल्कि एक मानव की तरह जीवन जीना चाहते हैं और  तो हमें समझना चाहिए कि स्वतंत्रता क्या है और आधुनिक जीवन में हमारी प्राथमिकताएं क्या होनी चाहिए।
रंग मार्च ने बिहार आर्ट थिएटर (बीएटी) के स्थापना दिवस पर एक लेख पोस्ट किया है। बैट अपने आप में एक क्रांति है। किसी  राजनीतिक समर्थन के बिना यह 1961 से आज तक जीवित है और अभी भी नाटक के प्रदर्शन के निर्माण, प्रशिक्षण और सुविधा प्रदान करने में सक्रिय है, सांस्कृतिक जिजीविषा का एक अनुकरणीय उदाहरण है। स्व. अनिल मुखर्जी, अजित गांगुली के अलावे श्री प्रदीप गांगुली और ऐसे सभी लोगों की तरह सांस्कृतिक गतिविधियों की सच्ची भावना को कोई भी कुचल नहीं सकता है। श्री प्रशांत विप्लवी की कविता पुरुषवादी अहंकार की स्वीकारोक्ति की एक नाजुक तस्वीर प्रस्तुत करती है। यह इतना यथार्थवादी है कि यह आपको अपील करेगी ही। ताहिर मेची रचित अरबी कविता की पंखुरी सिन्हा द्वारा किया गया अनुवाद सुस्पष्ट है। प्रिय के लिए प्रेम की शक्तिशाली लहरें अभिव्यक्त हुई हैं। डॉ. विजय प्रकाश राय ने एक कविता पोस्ट की है जिसमें छंद के सौन्दर्य  के साथ पर्यावरण के संरक्षण का संदेश भी है।


EDITORIAL (25.6.2020)
Dr. Vinay Kumar, One of the prominent poets of India has posted a ghazal of romantic mood. Though his love for his "dear one" is not shallow, it is much deeper and have seasoned through numerous ups and down of life. an excellent poet Mr. Arjun Prabhat has posted a motivating ghazal and the tone is not exhortative it is quite natural and friendly. One of the sher is " Zor tufan ka chalega aadmi par kya bhala / Joojhne ka hausla gar nakhuda ke paas ho". (The tempest can hardly do any harm to a man if his boatman has a courage to face the same. The senior poet of India Mr. Manohar Abhay has presented a poem depicting the picture of insecurity among the women in the country. The scene he presents is ghastly and horrible and if you listen to the stories of rape and murders you would feel how similar it is to the words of this poet. We have put a video of Hindi Kavita in which a celebrated litterateur of India Mr. Virendra Yadav has talked about Premchand vis-a-vis discourses on women and depressed class. Never miss to watch it. Another video we have enlisted today is of a senior poet Mr. Nilanshu Ranjan who has given his thoughts on life. You would find it appealing.

EDITORIAL (24.6.2020)
Dr. Ravindra K Das, a distinguished poet of India has expressed about something unseen but in a different perspective. His confessional soliloquy has come out in the form of a 'navageet' (new song).  The song begins with the vital lines "Jo dekh saka / Anupasthit ko / Usko jivan ka arth mila" (One who could see what is absent has got the quintessence of life). A senior writer Mr. Jitendra Kumar has spoken on the plot and craft of a new novel "Kya Ghar Kya Pardesh" by Ramdhari Singh Diwakar. Mr. Kumar has presented the whole story in brief and it is quite interesting to see how the main character faces the challenges on morality and how he comes over it.  We have also given the link of a video by Nupurdhwani which is of Bharatnatyam presentation by a girl on Corona song. It is lovely to watch it.

संपादकीय (25.6.2020) आज तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी द्वारा भारत में राष्ट्रीय आपातकाल की घोषणा की वर्षगांठ है। और आपको यह जानकर हैरानी होगी कि बहुत से बुद्धिजीवी इस क्रूर उपाय के पक्ष में मुखर थे। और क्या आप विश्वास करेंगे कि अगर आपको कहा जाए कि आपातकाल के निरसन के समय 21 महीने के बाद, श्रीमती गांधी इस धारणा में थीं कि वह आगामी आम चुनाव जीतेंगी। कई भविष्यवक्ताओं और विशेषज्ञ सलाहकारों ने उन्हें ऐसा ही सुझाव दिया था। संक्षेप में, जब भी कोई शासन  अन्यायपूर्ण होता है तो बहुत से चाटुकार उसी को मंजूरी देंगे। लेकिन हमें यह समझना चाहिए कि आपातकाल के लागू होने को आधुनिक इतिहास में एक अपवाद की घटना के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए, यह सिर्फ शक्ति के तांडव के नग्न प्रदर्शनों में से एक था। सत्ता अक्सर अपने साथ अनुचित गर्व और जरूरत से अधिक आत्मविश्वास लाती है जो अक्सर उसके सनकी तरीकों से प्रकट होता है। इसलिए लोगों को किसी भी शासन के लिए अंधा नहीं होना चाहिए और हमेशा अपने दिमाग और विवेक को खुला और सक्रिय रखना चाहिए। उन्हें कभी सोने या आराम करने न दें। एक प्रभावशाली कवि श्री जगदीश  जैण्ड 'पंकज' ने अपनी दो कविताएँ इस विशेष दिन पर पोस्ट की हैं, जिन्हें देखना चाहिए।
डॉ. विनय कुमार, भारत के प्रमुख कवियों में से एक हैं उन्होंने रोमांटिक मूड की एक ग़ज़ल पोस्ट की है। यद्यपि उनका अपने "प्रिय व्यक्ति" के लिए प्यार उथला नहीं है, यह बहुत गहरा है और जीवन के कई उतार-चढ़ाव से गुजरते हुए अब भी कायम है। एक उत्कृष्ट कवि श्री अर्जुन प्रभात ने एक प्रेरक ग़ज़ल पोस्ट की है और यह स्वर उपदेशात्मक नहीं है कि यह काफी स्वाभाविक और मृदु है। शे'र में से एक है "ज़ोर तूफ़ान का चलेगा अदमी पर क्या भला / जूझने का हौसला गर नखुदा के पास हो"। भारत के वरिष्ठ कवि श्री मनोहर अभय ने देश में महिलाओं के बीच असुरक्षा की तस्वीर को दर्शाती एक कविता प्रस्तुत की है। वह दृश्य- प्रस्तुति ग़ज़ब और भयानक है और यदि आप बलात्कार और हत्याओं की कहानियों को सुनते हैं तो आपको लगेगा कि यह इस कवि के शब्दों के कितने समान हैं। हमने हिंदी कविता का एक वीडियो डाला है जिसमें भारत के एक प्रसिद्ध साहित्यकार श्री वीरेन्द्र यादव ने  प्रेमचंद पर  महिला और दलित विमर्श  के संदर्भ में बात की। कभी भी इसे देखना न भूलें। आज हमने एक और वीडियो श्री निलांशु रंजन, एक वरिष्ठ कवि का है, जिन्होंने जीवन पर अपने विचार रखे हैं।
संपादकीय (24.6.2020) शब्द संवाद करने के लिए एक कामचलाऊ व्यवस्था मात्र है। वक्ता का वास्तविक आशय कभी भी पूरी तरह से नहीं बताया जा पाता है और कभी भी पूरी तरह से नहीं सुना जा पाता है। और संवाद की अपूर्णता की कुछ मात्रा अनिवार्य रूप से सभी प्रकार की बातचीत में मौजूद होती है जब तक कि वह अत्यधिक सरलीकृत आज्ञा-पालन प्रकार का संचार न हो। संवादों की अपूर्णता हमेंशा व्यक्तिगत और सामाजिक जीवन में मौखिक आदान-प्रदान में काफी होती है और यह अक्सर साहित्यिक प्रकार के संचार में भयंकर हो जाया करती है। इस दुनिया में सबसे अच्छा संचार शब्दरहित होता है। जाने-माने कुशल युवा कवि श्री आनंद गुप्ता जो "नीलाम्बर कोलकाता" नामक प्रतिष्ठित साहित्यिक वेबसाइट भी चलाते हैं, ने एक खूबसूरत कविता "अनकहा" पोस्ट की है जिसे आप पसंद करेंगे।
भारत के एक प्रतिष्ठित कवि डॉ. रवींद्र के दास ने कुछ अनदेखी के बारे में ही कुछ अलग परिप्रेक्ष्य में व्यक्त किया है। उनकी स्वीकारोक्ति पूर्ण आत्मसंवाद नवगीत के रूप में सामने आया है। गीत की शुरुआत महत्वपूर्ण पंक्तियों के साथ होती है "जो देख सका / अनुपस्थित को / उसको जीवन का अर्थ मिला"। एक वरीय लेखक श्री जितेन्द्र कुमार ने रामधारी सिंह दिवाकर के एक नए उपन्यास "क्या घर क्या परदेश" के कथानक और शिल्प पर चर्चा की है। श्री कुमार ने पूरी कहानी संक्षिप्त रूप में प्रस्तुत की है और यह देखना काफी दिलचस्प है कि मुख्य चरित्र नैतिकता पर चुनौतियों का सामना कैसे करता है और और वह इन पर कैसे विजय पाता है। हमने नुपुरध्वनि द्वारा प्रस्तुत एक वीडियो का लिंक भी दिया है जो कोरोना गीत पर एक लड़की द्वारा भरतनाट्यम का है। इसे देखना रुचिकर है।

EDITORIAL (23.6.2020): If you want to help someone you do not ask him to pray before you in a flowery language. You just gaze into his eyes and get the sense that he is a needy person and do accordingly. Love of someone can't be got through arguments. If the person before you has a heart throbbing for others he is supposed to love you and if he has not then it's better you come to sense as early as possible. And so Mr. Rohit Thakur, a talented young poet of India says, "Bhasha ko nahi, dukh ko samajhna / Bahas me nahi prem me shamil hona" (To not pay attention to the words uttered, try to feel one's pain / Love is never argumentative.) Mr. Kundan Anand is another young poet who has shaken up the whole literary circle of Bihar nowadays. After Mr. Samir Parimal (who is more engaged in his high-profile govt service nowadays)  and Mr. Aks Samastipuri (who has left Bihar quite a few years ago) it is pleasant to see Mr Kundan Anand creating ripples from Bihar. Mr. Kundan writes on both rather a well-mixed ghazal of romance and harsh realities. So even while there is different beautiful colours of plain romance there is always some burning contemporary issue in the stack of romantic narratives. One of his shers (twoliners) is - "Kuchh hawayen rach rahin hain chakra-byooh / Ek Deepak ko bujhane ke liye" (The air is throwing a trap to put out the lamp. Mr. Bhaskaranand Jha Bhaskar earlier posted in Kolkata now works in Mumbai. He is a wonderful multi-lingual poet and writer basically writes in English, Maithili and Hindi. His book-reviews of English poetry have been published in a number of reputed international journals. We have enlisted one of his English poem today in which he is jealous of a bird. The avian creature moves around the limitless sky as per its whims but a human being can't. He has so many responsibilities and limitations that put quite a bulky list of do's and don'ts. He says talking with the bird, "You alone can feel me / My emptiness in existential plentifulness." Really, in every age a man faces new variety of challenges all of them just meant to create a cul-de-sac for him. 

संपादकीय (23.6.2020) , श्री रोहित ठाकुर  कहते हैं, "भाषा को नहीं, दुःख को समझना / बहस में नहीं, प्रेम में  शामिल होना"  श्री कुंदन आनंद एक और युवा कवि हैं जिन्होंने आजकल बिहार के पूरे साहित्यिक क्षेत्र को हिला कर रख दिया है। श्री समीर परिमल (जो अपनी ऊंची जिम्मेवारियों वाली सरकारी सेवा इन दिनों अधिक व्यस्त हैं) और श्री अक्स समस्तीपुरी (जो कुछ साल पहले बिहार छोड़ चुके हैं) के बाद श्री कुंदन आनंद को बिहार से लहर बनाते देखना सुखद है। श्री कुंदन रोमांस और कठोर वास्तविकताओं की मिश्रित ग़ज़ल कहते हैं। इसलिए जहां  सरल रोमांस के अलग-अलग सुंदर रंग दिखते हैं, वहीं रोमांटिक बातों के ढेर में हमेशा कुछ ज्वलंत समसामयिक मुद्दे भी  होते हैं। उनका एक शेर  है - "कुछ हवाएं रच रहीं हैं चक्रव्यूह / एक दीपक को बुझाने के लिए।" श्री भास्करानंद झा भास्कर पहले कोलकाता में पदस्थापित थे। अब वह मुंबई में काम करते हैं। वे एक अद्भुत बहुभाषी कवि और लेखक हैं जो मूल रूप से अंग्रेजी, मैथिली और हिंदी में लिखते हैं। अंग्रेजी कविता की उनकी पुस्तक-समीक्षाएँ कई प्रतिष्ठित अंतरराष्ट्रीय पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई हैं। हमने आज उनकी एक अंग्रेजी कविता को सूचीबद्ध किया है, जिसमें वह पक्षी से ईर्ष्या करते हैं। उडनेवाला पक्षी अपनी मर्जी के अनुसार असीम आकाश में घूमता है, लेकिन एक इंसान ऐसा नहीं कर  सकता। उसके पास बहुत सारी जिम्मेदारियां और सीमाएं हैं जो आज्ञा  और निषेध की बहुत भारी सूची डालती हैं। पक्षी के साथ बात करते हुए कवि कहता है कि  "सिर्फ तुम ही मुझे / मेरे खालीपन को मेरे अस्तित्व की सम्पन्नता में महसूस कर सकते हो"। "वास्तव में, हर युग  में एक आदमी को उन सभी चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, जो उसके लिए एक बंद गली बनाने के लिए निर्मित होती हैं।


EDITORIAL (22.6.2020)Friends! History is not made by kings. it is made by the changes witnessed by the people at large. And people consist mainly of poor, downtrodden and deprived categories of persons living in towns, villages and even in far-flung areas. This has been a long practice by rulers since time immemorial to get the history written in their favour without making far reaching positive changes for the masses. And this unfortunate dichotomy persisted through the ancient, medieval and modern period. The result is evident that even after so many big attempts of amelioration the depressed class and the upper class are clearly two poles apart in the society. Since both are dependent on each other in many respects so there are definitely social intermingling but hearts are always at arms length. Since the depressed class or Dalit class has historically remained a deprived class so by and large they could not grow further and on the economic front, ended up in just earning their breads . Though they definitely have their literature, paintings, folk songs and dances they remained in limbo lane until now because most of the art arena was neither just dominated but actually almost fully occupied by the upper class people. The pains of neglect, the pains of insult, the pains of starvation can best be expressed only by those who have passed through such grueling experiences. And so the significance of separate Dalit literature mainly written by Dalit people is being demanded and by now has emerged as a phenomenon. You now just can't ignore it nor suppress it. Once the voice of pain finds its proper place their peculiar problems would themselves come to the fora and those people will get the worth they deserve. Mr. kanwal Bharati has opposed vehemently the ideas of Mr. virendra Yadav on Dalit discourse as he put forth in his live program online. He has blamed him of not putting the things in their proper perspective that could through light where it should have been.
Mr. Dhruv Gupt, a renowned writer and poet of national stature has posted an article on the evolution of Father as a relation and an important entity in human life. Earlier there were only mothers and their children. There was absolutely no concept of father but gradually the institution of marriage originated to make the human life more secure and peaceful and then the position of father came into force. In present time even the institution of marriage itself is under crisis because of more acceptance of post-marital relations and so the auspicious love bond of father with child is crumbling. The whole article is worth reading. Everyone must look through the same. One link of Hemant Das 'Him' is included and the item is titled as 'alaghukatha' since it does not fulfill the criteria of being a Hindi lagukatha. It seems to be just a piece of humour though there are some subtle message put in it. The message is that now the society is bipolar one and you are unfortunately forced to join one of the extremes rather than being a neutral one. There is also a link of Mr. Ashish Anchinhar an undisputed doyen of Maithili ghazal.

संपादकीय (22.6.2020) दोस्तों! इतिहास राजाओं द्वारा नहीं बनाया जाता है, यह बड़े पैमाने पर लोगों द्वारा देखे गए परिवर्तनों द्वारा निर्मित होता है। और लोगों का  मतलब है वे लोग जो मुख्य रूप से गरीब, दलित और वंचित वर्ग के हैं जो कस्बों, गांवों और यहां तक ​​कि दूर-दराज के इलाकों में रहते हैं। शासकों द्वारा लंबे समय से जनता के लिए सकारात्मक बदलावों को दूर किए बिना अपने पक्ष में लिखे गए इतिहास लिखवाने का  प्राचीन काल से ही यह एक लंबा अभ्यास रहा है। और यह दुर्भाग्यपूर्ण द्वंद्वात्मकता प्राचीन, मध्ययुगीन और आधुनिक काल में भी बनी रही। इसका परिणाम स्पष्ट है कि दलित वर्ग और उच्च वर्ग तमाम सुधारों के इतने बड़े प्रयासों के बाद भी समाज में स्पष्ट रूप से दो ध्रुव हैं। चूंकि दोनों कई मामलों में एक-दूसरे पर निर्भर हैं, इसलिए निश्चित रूप से सामाजिक परस्पर संबंध हैं लेकिन उनके दिल हमेशा एक  दूरी पर होते हैं। चूँकि दबे हुए वर्ग या दलित वर्ग ऐतिहासिक रूप से वंचित लोगों से बने हैं इसलिए ये लोग आर्थिक मोर्चे पर अपनी रोटी कमाने से आगे नहीं बढ़ सके। हालांकि उनके पास निश्चित रूप से उनका साहित्य, चित्रकला, लोक गीत और नृत्य हैं जो अब तक अनदेखे से रहे हैं क्योंकि अधिकांश कला-क्षेत्र उच्च वर्ग के लोगों के वर्चस्व में ही नहीं बल्कि पूरे कब्जे में रहे हैं । उपेक्षा के दर्द, अपमान के दर्द, भुखमरी के दर्द को केवल उन लोगों द्वारा ही मौलिक रूप में व्यक्त किया जा सकता है जो इस तरह के भीषण अनुभवों से गुजरे हैं। और इसलिए मुख्यतः दलित लोगों द्वारा लिखे गए अलग दलित साहित्य के महत्व की मांग की जा रही है और अब यह एक परिघटना के रूप में सामने आया है। अब आप इसे अनदेखा नहीं कर सकते और न ही इसे दबा सकते हैं। एक बार जब दर्द की आवाज़ को उचित स्थान मिल जाता है तो उनकी अजीबोगरीब समस्याएँ खुद सामने आ जाएँगी और उन लोगों को वह महत्व मिल जाएगा जिसके वे हकदार हैं। श्री कंवल भारती ने दलित विमर्श पर श्री वीरेन्द्र यादव के विचारों का पुरजोर विरोध किया है क्योंकि उन्होंने उन्हें अपने लाइव कार्यक्रम जो ऑनलाइन रखा गया था उसमें विन्दुओं को उनके उचित परिप्रेक्ष्य में न रखने का दोषी ठहराया है जो वहाँ प्रकाश न डाल सके जहां डाला जाना चाहे था ।
राष्ट्रीय कद के प्रसिद्ध लेखक और कवि श्री ध्रुव गुप्त ने पिता के विकास और मानव जीवन में एक महत्वपूर्ण इकाई के रूप में उभरने को लेकर एक लेख पोस्ट किया है। पहले केवल माताएँ और उनके बच्चे होते थे। पिता की कोई अवधारणा नहीं थी, लेकिन धीरे-धीरे विवाह की संस्था मानव जीवन को अधिक सुरक्षित और शांतिपूर्ण बनाने के लिए उत्पन्न हुई और फिर पिता की स्थिति लागू हुई। वर्तमान समय में भी विवाहेतर संबंधों के कारण विवाह की संस्था संकट में है और इसलिए बच्चे के साथ पिता का शुभ प्रेम का बंधन टूट रहा है। पूरा लेख पढ़ने लायक है। सभी को उसे ध्यान से देखना चाहिए। हेमंत दास 'हिम' की एक कड़ी (लिंक) को शामिल की गई है और सामग्री को 'अलघुकथा' के नाम से दिया गया है क्योंकि यह हिंदी भाषा में लघुकथा होने के मापदंडों को पूरा नहीं करती है। यह सिर्फ हास्य का एक टुकड़ा लगती है, हालांकि इसमें कुछ सूक्ष्म संदेश डाले गए हैं। संदेश यह है कि अब समाज द्विध्रुवीय है और आप दुर्भाग्य से तटस्थ होने की बजाय एक चरम सीमा से जुड़ने के लिए मजबूर हैं। मैथिली गजल के निर्विवाद अग्रदूत श्री आशीष अनचिन्हार की एक कड़ी भी है।


EDITORIAL (21.6.2020): Today is International Yoga Day and also Father's Day. We don't buy the argument that this coincidence is incidental. We believe that a father being the most 'Yogic' person in a family is fit to be remembered with Yoga. Restraints and forceful stretching of limbs to the extreme are essential ingredients of yoga and father does exactly the same with his desires and capabilities respectively.  A typical salary-class man's life rejuvenates on every 1st day of month and almost come to an end much before the end of the same. The fag end of month is inevitably made for stoicism in dining, travelling etc. etc. There are fb walls galore with father-centric materials. In this civilised world, everybody has a father and so he must write something on him. Well, we are not opposing the trend. Good thing in any manner will remain good only. We have also published four poems of different poets especially written on their respective father. Moreover we are sharing today an exquisite poem written by a good poet of Bihar Mr. Prashant Viplavi that tells the same story as discussed above but in a pithy manner. He perceives every petty withdrawal entry in the father's bank passbook as a narration of some story of need either of sibling or of the poet. You must go through it. Then there is an adroit gazalgo (poet) of high reputation Dr. Ravindra K Das who know well how to put real issues in an ambiance of love and merrymaking. His sher is noteworthy - " Mohabbat chand zumlon se pashema / Labon me intihaai dolti hai" (The true love cannot be expressed in few words.)  An exemplary active litterateur of Bihar is Mr. Siddheshwar who is a well-know drawing artist at national level and whose drawings have been published in all of the top literary Hindi magazines of serious genre. One of his poem has been enlisted in which he has stressed on the merits in his father specially regarding facing persistent struggles with a grit. 
संपादकीय (21.6.2020) 
....

EDITORIAL (20.6.2020): Friends! We all know that the Moon revolves around the Earth and Earth revolves around the Sun. And so on and so forth. But, have you ever imagined around whom does a man revolve! And no prize for guessing, it is himself. Man is the most self-centred entity in the whole universe created by the Almighty. Every human relation either of master, neighbour or even that exists among the fraternity have just been a glorified manifestation of an arrangement of securing perpetual or casual benefits from others. And this reaches it's peak when mother of a son comes to meet her son after many decades and that too only for gaining some significant favour from him. The mother Kunti had forsaken her child because he was borne during her maiden hood. And the most natural kind of human love that exists between a mother and her progeny was overthrown absolutely on the issue of self-dignity even while knowing well that her newborn child Karna was totally innocent. She never cared to ask her well-being though even being aware of his whereabouts all the time but where the great war of Mahabharata was imminent and Karna being the only one capable of defeating Arjuna she came forward to save her post-marital child on the risk of losing her pre-marital one. And we all witness the extreme level of pretension and glossiness over the harsh realities in our vicinity and all around. We have put the link of Drama-review made by me just below the picture. 
Mr. Rawindra Das is a learned artist. He makes paintings and also writes about it. His articles are full of info and also gives you the exact picture of the status quo prevailing in the arena of art particularly or generally. His article on contemporary female artists of Bihar enlists quite a good number of female artists each of whom has been able to carve out a niche for herself. The poem 'gulel' (slingshot) posted by Mr. Shahanshah Alam, a well-known Hindi poet on national arena, talks about the machinations of differential policies in British era and upholds the cause of revolt against injustice prevailing in any form.The poem by Mr. Jagadish Jaind 'Pankaj' is a clarion call against the despicable instances of that have come on surface in the USA. The ghazal by a mature perspicacious poet Mr. Arjun Prabhat raises the contemporary points in a lucid manner. One of his sher is critically sharp- "Gutbandi ka pahan labada / Tum bhi kya akhbaar ban gaye? (The poet is comparing a person with the newspaper for his biases.) The English poem by Mrs. Paramita Mukherjee Mullick presents a realistic scene of pandemic days and the dreads the people are living with. We have also given the link of video of Ms. Pankhuri Sinha in which she has made an impressing reading of the poem "A Rainy Mood" by Ambilly Omanakuttan. I hope you would like all of these. Take care!
संपादकीय (20.6.2020) ! हम सभी जानते हैं कि चंद्रमा पृथ्वी के चारों ओर घूमता है और पृथ्वी सूर्य के चारों ओर घूमती है। इत्यादि इत्यादि। लेकिन, क्या आपने कभी सोचा है कि कोई व्यक्ति किसके इर्द-गिर्द घूमता है! इसका उत्तर देना कोई कठिन बात नहीं है क्योंकि सभी जानते हैं कि वह आदमी स्वयं है जिसके चारो और वह घूमता है।और सर्वशक्तिमान द्वारा बनाए गए पूरे ब्रह्मांड में मनुष्य सबसे आत्म-केंद्रित इकाई है। प्रत्येक मानव संबंध चाहे मालिक, पड़ोसी या यहां तक ​​कि बिरादरी के बीच मौजूद होता है, वह दूसरों से स्थायी या आकस्मिक लाभ प्राप्त करने की व्यवस्था का महिमामंडित रूप है। और यह उस समय चरम पर दिखता है जब एक बेटे की माँ कई दशकों के बाद अपने बेटे से मिलने आती है और वह भी केवल उससे कुछ महत्वपूर्ण चीज पाने की गरज से। मां कुंती ने अपने बच्चे को त्याग दिया था क्योंकि वह उसके  कौमार्य दौरान पैदा हुआ था। और एक सबसे स्वाभाविक प्रकार का मानवीय प्रेम जो एक माँ और उसकी संतान के बीच मौजूद होता है, उसे आत्म-प्रतिष्ठा के वास्ते पूरी तरह से फेंक डाला गया, जबकि उसे यह अच्छी तरह से पता था कि उसका नवजात बच्चा कर्ण पूरी तरह से निर्दोष था। उसने ऊसके हालचाल जानने की कभी परवाह नहीं की, जबकि  वह हर समय उसके ठिकाने के बारे में जानती रही, लेकिन जब महाभारत का महायुद्ध आसन्न था और कर्ण ही अर्जुन को हराने में सक्षम था, वह अपने विवाहोपरांत पैदा हुए बच्चे को बचाने के लिए आगे आई अपने विवाह-पूर्व पैदा हुए बच्चे की जान की कीमत पर।और हम सब इस बात के गवाह बनाते हैं कि किस चरम स्तर का दिखावा और झूठा महिमामंडन था  कठोर वास्तविकताओं का।  चित्र के नीचे ही मेरे द्वारा की गई नाटक-समीक्षा का लिंक दिया है।
श्री रवींद्र दास एक विद्वान् कलाकार हैं। वह पेंटिंग बनाते हैं और इसके बारे में लिखते भी हैं। उनके लेख जानकारी से भरे हुए होते हैं और आपको विशेष रूप से या आम तौर पर कला के क्षेत्र में प्रचलित यथास्थिति की सटीक तस्वीर भी देते हैं। बिहार के समकालीन महिला कलाकारों पर उनका लेख काफी अच्छी संख्या में महिला कलाकारों के नामों को शामिल करता है, जिनमें से प्रत्येक अपने लिए एक जगह बनाने में सक्षम रही है। राष्ट्रीय क्षेत्र पर जाने-माने हिंदी कवि श्री शहंशाह आलम द्वारा पोस्ट की गई कविता 'गुलेल' ब्रिटिश काल में विभेदकारी नीतियों के निर्माण के बारे में बात करती है और किसी भी रूप में व्याप्त अन्याय के लिए विद्रोह का समर्थन का समर्थन करती है। श्री जगदीश जैण्ड 'पंकज' की कविता संयुक्त राज्य अमेरिका में नस्लवाद के घृणित उदाहरणों के खिलाफ एक स्पष्ट आह्वान है। एक परिपक्व दृष्टिकोण वाले कवि श्री अर्जुन प्रभात की ग़ज़ल समसामयिक बिंदुओं को सरस ढंग से उठाती है। उनका एक शे'र गंभीर रूप से तीक्ष्ण है- "गुटबंदी का पहन लबादा / तुम भी क्या अखबार बन गए?  श्रीमती परमिता मुखर्जी मल्लिक द्वारा लिखी गई अंग्रेजी कविता एक यथार्थवादी दृश्य प्रस्तुत करती है महामारी के दिनों के डर की लोगों जिसके साथ रह रहे हैं। हमने पंखुरी सिन्हा के वीडियो का लिंक भी दिया है जिसमें उन्होंने एम्बिली ओमानाकुट्टन की कविता "ए रेनी मूड" का प्रभावशाली पाठ किया है। मुझे उम्मीद है कि आप सभी को पसंद आएगा। अपना ख्याल रखिए!

EDITORIAL (19.6.2020): While creating an artwork a good artist never contemplates his preferred or other ideologies. He just creates moves along the frequencies of inner heart and makes whatever comes in a fluke. He just think about the subject or topic and gives his fingers freedom to make. And this is the simple manner in which a historic painting or poem is created. But dear friends, this does not mean that the painting, poem or any artistic outcome does not bear the signature or impression of the creator. It does and that too in a big way. His personal ideology, the school of thought he belongs to all of them show their sign in his work. There are two prominent ideologies prevailing noways in Hindi poetry - one is Existentialism that is greatly affected by the ideologies of global thinkers and the other is nationalistic ideology as evident in every spheres of modern life nowadays in different countries (including western ones) and also in India. After the tasting the fruits of globalization, the thinkers and artists are trying to come back to their roots and are seeking solace in some sort of golden era. A discerning literary critique Mr. Sushil Kumar calls it 'lokadharmita' (an inclination towards our traditions). Notwithstanding whether you believe in his views or not his article is definitely of a high standard at any parameter- the style of criticism,  the info provided and the discussion made are full of warmth. One thing I dare say here is that though the poems of Mr. Swapnil Srivastava (especially 'Striyaan') are very touching and the ideological comments made thereon is also very thought-provoking, they seem to be moving on their separate tracks. The points Mr. Sushil Kumar is trying to make are not exactly been borne out by the lines of the poets. Some other poems of the poet might have been more helpful perhaps. Still, going through this article would be much helpful to the reader in enriching their knowledge and gaining important perspective out of it.
We have put the link of most popular gazal of a very popular gazalkar (poet) Mr. Samir Parimal who was almost ruling the roost before joining his service in Bihar Revenue Service after which he is facing time-crunch for writing. One of the sher is "Ham fakeeron ke kaabil rahi tu kahaan / Ja, ameeron ki kothi me mar zindgi" ( O life, now you have not beed worthy to stay with we poor people. So go the wealthy people and get killed there). The accomplished shayar Mr. Sagar Anand has posted a ghazal showing the different scenes in which a person takes to dancing. The talented young poet Mr. Rahul Shivay also associated with reputed website "Kavaita Kosh" has posted his signature poem and we quote " Sooraj gadhnewaale nikle jugnoo ke hatyare" (Those who promised to make a Sun for giving light to deprived class proved out to be murderer of even the fireflies. In the regional section we have presented an Urdu ghazal by Mr. Ata Aabdi presented by Mr. Avinash Aman. Stay careful and relaxed!
संपादकीय (19.6.2020) का हिंदी अनुवाद:   एक कलाकृति बनाते समय एक अच्छा कलाकार कभी भी अपनी पसंद की या अन्य विचारधाराओं के बारे में नहीं सोचता। वह बस आंतरिक हृदय की आवृत्तियों के साथ चलता है और जो कुछ भी उससे बनता है उसे बनाता है। वह सिर्फ विषय के बारे में सोचता है  और फिर अपनी उंगलियों को बनाने की छूट दे देता है यही वह सरल तरीका है जिससे एक ऐतिहासिक पेंटिंग या निर्मित होती है। लेकिन प्यारे दोस्तों, इसका मतलब यह नहीं है कि पेंटिंग, कविता या कोई कलात्मक परिणाम रचनाकार के चिन्ह या छाप का वहन नहीं करता है। यह करता है और वह भी बड़े पैमाने पर। उसकी व्यक्तिगत विचारधारा, तत्कालीन मान्यताएं जिनसे वह संबंधित होता है वे सभी उसके काम में अपना असर दिखाती हैं। हिंदी कविता में दो प्रमुख विचारधाराएँ प्रचलित हैं - एक अस्तित्ववाद है जो वैश्विक विचारकों की विचारधाराओं से बहुत प्रभावित है और दूसरा राष्ट्रवादी विचारधारा है जो आजकल के विभिन्न देशों (पश्चिमी लोगों सहित) में आधुनिक जीवन के हर क्षेत्र में स्पष्ट है।  विचारक और कलाकार, वैश्वीकरण के फल चखने के बाद अपनी जड़ों में वापस आने की कोशिश कर रहे हैं और अपने अतीत के स्वर्णयुग में गौरव की तलाश कर रहे हैं। एक विचारशील साहित्यिक आलोचक श्री सुशील कुमार इसे 'लोकाधर्मिता' (हमारी परंपराओं के प्रति झुकाव) कहते हैं। इस बात के बावजूद कि आप उनके विचारों पर विश्वास करते हैं या नहीं, उनका लेख निश्चित रूप से किसी भी पैमाने पर उच्च स्तर का है- आलोचना की शैली, प्रदान की गई जानकारियाँ और की गई चर्चा गर्मजोशी से भरी है। एक बात जो मैं यहाँ कहता हूँ, वह यह है कि यद्यपि श्री स्वप्निल श्रीवास्तव (विशेष रूप से 'स्त्रियाँ') की कविताएँ बहुत ही मार्मिक हैं और इसके बाद की गई वैचारिक टिप्पणियां भी बहुत विचारोत्तेजक हैं पर दोनों  अपनी अलग पटरियों पर चलती दिखती हैं। श्री सुशील कुमार जिन बिंदुओं को स्थापित कर कर रहे हैं, वे कवि की पंक्तियों से पूरी तरह से स्थापित नहीं हो पा रहे हैं। शायद कवि की कुछ अन्य पंक्तियाँ इसमें ज्यादा सहायक होतीं। इसके बावजूद यह लेख पढना पाठकों के ज्ञान को बढाने में और अपने दृष्टिकोण के निर्माण में सहायक होगा ऐसी आशा है 
हमने एक बहुत लोकप्रिय ग़ज़लकार (कवि) श्री समीर परिमल के सबसे लोकप्रिय गज़ल का लिंक डाला है, जो बिहार राजस्व सेवा में अपनी सेवा में शामिल होने से पहले लगभग अपने क्षेत्र के काव्य-जगत पर राज कर रहे थे, पर अब उन्हें लिखने के लिए समय की कमी का सामना करना पड़ रहा है। शेरों में से एक है "हम फकीरों के काबिल रही तू कहाँ / जा, अमीरों की कोठी में मर ज़िन्दगी"। निपुण शायर श्री सागर आनंद ने एक गजल पोस्ट की है जिसमें विभिन्न दृश्यों को दिखाया गया है जिसमें एक व्यक्ति नृत्य करता है। प्रतिभावान युवा कवि श्री राहुल शिवाय भी प्रतिष्ठित वेबसाइट "कविता कोश" से जुड़े हैं और उन्होंने अपनी प्रतिनिधि कविता पोस्ट की है और हम उद्धृत करते हैं "सूरज गढ़ने निकले जुगनू के हत्यारे"। क्षेत्रीय खंड में हमने श्री अविनाश अमन द्वारा प्रस्तुत श्री अता आब्दी द्वारा रचित एक उर्दू ग़ज़ल प्रस्तुत की है। सावधान रहें और आराम से रहें! 

EDITORIAL (18.6.2020): Barring one post which is quite a full-scale mellifluous romance in the sweet voice of Dr. .. all other items enlisted today address gloom, challenges and anomalies prevailing in different spheres of modern life. Three poems on our heartfelt respects to the martyred soldiers have been published on the main page of our blog today. The talented young and popular freestyle poet Mr. .. has talked about the steadily falling of values in human life. In his short poem he has traversed a number of perspectives of modern life and concludes the most unfortunate phenomenon that it is actually the humanity that has suffered in a big way. Mr. .. is a well-know litterateur in contemporary Hindi literature and is also an editor of the reputed magazine '..'. His present poem in the prelude, builds up an imagery of the natural human life that we cherish in our imagination and then in the last lines he shows what is the actual set-up we have made for our life which is far far from the nature and depends heavily upon virtual world! The result is self-chosen seclusion from the society. The virtual interface gives us an illusion of human association which is quite absent in time of need. He has called it a "maut ka kuaan"( a death-well). In his ghazal Mr. ... a noticeable poet has stressed on the fact that a person should more be introspective if he finds some mismatch somewhere. He should try to changes himself rather than wishing that everybody else should suit him well. Mr. .., the evergreen romantic shaayar (poet) is not at all in his typical romantic mood in the present instance. The people nowadays are trying to stretch themselves in two opposite extremes and the result is evident in the form of acute depression that in many cases lead even to extremely unfortunate act of suicide. In one of his sher (twoliner) he says- "Jeet ka mantra hai alag bande / Haar ka mas-ala alag se hai" (The way to triumph is not straight it can sometimes be different like an unscrupulous one but to bear the brunt of defeat is also not very easy that may again give your conscience a challenging time. We have included three links of video - one of renowned film director Mr. .. in which he has talked about the issue of psychological depression in film industry. The gazal sung by Dr. .. (a famous singer and ex-secretary of Sangeet Natak Academy, Bihar) and recital of poet Mr. ..ghazal in Zaheer's voice are wotrh listening. I hope you must like all of them. Take care!
संपादकीय (18.6.2020) का हिंदी अनुवाद:  डॉ. शंकर प्रसाद की मीठी आवाज़ में एक पोस्ट जो कि एक पूरी तरह से एक सुरीला रोमांस है, अन्य सभी आइटम आधुनिक जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में उपस्थित अवसाद, चुनौतियों और विसंगतियों से सम्बंधित हैं। शहीद सैनिकों के प्रति हमारे हार्दिक सम्मान की तीन कविताएँ आज हमारे ब्लॉग के मुख्य पृष्ठ पर प्रकाशित हुई हैं। प्रतिभाशाली युवा और लोकप्रिय मुक्तछंद कवि श्री रोहित ठाकुर ने मानव जीवन में मूल्यों के लगातार गिरने के बारे में बात की है। अपनी छोटी कविता में उन्होंने आधुनिक जीवन के कई सन्दर्भों को उठाया है और सबसे दुर्भाग्यपूर्ण निष्कर्ष निकाला है कि यह वास्तव में मानवता है जिसका क्षय हुआ है। श्री अरुण शीतांश समकालीन हिंदी साहित्य के जाने-माने साहित्यकार हैं और प्रतिष्ठित पत्रिका 'देशज' के संपादक भी हैं। उनकी वर्तमान कविता पहले अपनी भूमिका में प्राकृतिक प्राकृतिक मानव जीवन की एक छवि का निर्माण करती है जिसे हम अपनी कल्पना में संजोते हैं और फिर अंतिम पंक्तियों में वह दिखाते हैं कि वास्तविक जीवन में जो हमने बनाया है वह प्रकृति से बहुत दूर है और बहुत हद तक निर्भर करता है आभासी दुनिया पर! इसका परिणाम में  आदमी  समाज से स्वयं को अलग-थलग कर लेता है। आभासी (ऑनलाइन) संपर्क हमें सामाजिकता का झूठा भ्रम देता है जो ज़रूरत के समय में बिलकुल गायब हो जाता  है। उन्होंने इसे "मौत का कुआँ" कहा है। अपनी ग़ज़ल श्री अर्जुन प्रभात ने जो एक ध्यान देने योग्य कवि हैं, ने इस तथ्य पर जोर दिया है कि किसी व्यक्ति को कहीं न कहीं कुछ व्यतिक्रम मिल जाए तो उसे अधिक आत्मनिरीक्षण करना चाहिए। उसे यह चाहने की बजाए कि बाकी सभी उसके अनुकूल हो जाएँ उसे खुद को बदलने की कोशिश करनी चाहिए । सदाबहार रूमानी शायर श्री सागर आनंद, वर्तमान रचना में अपने विशिष्ट रोमांटिक मूड में बिल्कुल भी नहीं हैं। लोग आजकल दो विपरीत दिशाओं में खुद को फैलाने की कोशिश कर रहे हैं और इसका परिणाम तीव्र अवसाद के रूप में स्पष्ट है जो कई मामलों में आत्महत्या जैसे बेहद दुर्भाग्यपूर्ण कार्य का भी कारण होता है। अपने एक शे'र में वे कहते हैं- "जीत का मंत्र है अलग बंदे / हार का मस-अला अलग से है"  हमने वीडियो के तीन लिंक शामिल किए हैं - प्रसिद्ध फिल्म निर्देशक श्री अविनाश दास के एक जिसमें उन्होंने फिल्म उद्योग में मनोवैज्ञानिक अवसाद के मुद्दे पर बात की है। " डॉ. शंकर प्रसाद (संगीत नाटक अकादमी, बिहार के एक प्रसिद्ध गायक और पूर्व सचिव) द्वारा गाया गया गजल और जहीर की आवाज़ में कवि श्री अविनाश अमन की गज़ल सुनकर आप सभी को अच्छा लगेगा। मुझे उम्मीद है कि आप को सभी रचनाएँ पसंद आएगी। अपना ख्याल रखिये 

EDITORIAL (17.6.2020): Life of each soldier is dear to our hearts and we pay homage to them from the core of our hearts. A well-known poet Mr. Harinarayan Singh 'Hari' who is so mournful today as one of the twenty soldiers died was from his area Moinuddinpur in Bihar. He has paid tribute through a moving poem the link of which is included today at the top. Ms. Pankhuri Sinha, a talented poet has posted her translation of a German poem which talks about a gloomy phase in a family where it is said that the sons of the mother have gone to fight such a battle about which they are absolutely ignorant. Then there is a simple but motivating lines from Mr. Mantu Kumar Sushil in his poem the thing we want most at this moment. Dr. Ravindra K Das who is an associate professor in Sanskrit has posted his Sanskrit poem and interestingly it is not about epics but is on the nature of literary posts appearing on the facebook wall and the trail that happens thereafter. We have also given a link of video of a veteran poet Mr. Bhagwati Prasad Dwivedi who is active since last fifty years and still do not aspire any high post or awards but genuinely believe in contributing to the society through his serious literary works. He is highly appreciated in Bihar and other states. Watch his video replete with poems, doha and songs.
संपादकीय (17.6.2020) का हिंदी अनुवादप्रत्येक सैनिक का जीवन हमें बहुत प्रिय है और हम उन्हें अपने आंतरिक हृदय से श्रद्धांजलि देते हैं। एक प्रसिद्ध कवि श्री हरिनारायण सिंह-हरि ’जो आज बहुत शोकाकुल हैं क्योंकि बीस शहीद सैनिकों में से एक बिहार के उनके क्षेत्र मोइनुद्दीनपुर से आते हैं। उन्होंने एक मर्मस्पर्शी कविता के माध्यम से श्रद्धांजलि अर्पित की है जिसकी कड़ी (लिंक) आज शीर्ष पर शामिल है। पंखुरी सिन्हा, एक प्रतिभाशाली कवि ने अपने जर्मन कविता के अनुवाद को पोस्ट किया है जो एक परिवार में एक उदास अवस्था के बारे में बताता है, जिसमें कहा गया है कि मां के बेटे ऐसी लड़ाई लड़ने गए हैं जिसके बारे में वे बिल्कुल अनभिज्ञ हैं। फिर श्री मंटू कुमार सुशील की सरल लेकिन प्रेरक पंक्तियाँ हैं जो कविता में इस समय हम चाहते हैं। डॉ. रविन्द्र के दास जो संस्कृत में एसोसिएट प्रोफेसर हैं, ने अपनी संस्कृत कविता पोस्ट की है और दिलचस्प बात  यह है कि यह महाकाव्यों के बारे में नहीं है, बल्कि फेसबुक वॉल पर दिखाई देने वाले साहित्यिक पोस्ट और उसके बाद उस पर प्रतिक्रियाओं की प्रकृति पर है। हमने एक अनुभवी कवि श्री भगवती प्रसाद द्विवेदी के वीडियो का लिंक भी दिया है जो लगभग पचास वर्षों से अधिक समय से सक्रिय हैं और अभी भी किसी भी उच्च पद या पुरस्कार की आकांक्षा नहीं रखते हैं, बल्कि पूरी ईमानदरी से  गंभीर साहित्यिक कार्यों के माध्यम से समाज में योगदान देने में विश्वास करते हैं। बिहार और अन्य राज्यों में उनकी काफी सराहना की जाती है। कविताओं, दोहों और गीत से परिपूर्ण उनके वीडियो को देखें

EDITORIAL (16.6.2020): China has intruded into our territory. It has been doing the same since independence and has done so at numerous occasions. Violating all mutual agreements with India and all clauses of international laws it has shown it's impudence without any sort of compunction about what the world will think. Our soldiers fought back today with an indomitable courage and gallantry still some 20 Indian soldier including one high rank officer were killed in safeguarding our territory. About 43 casualties are reported at the side of China in this unarmed but fierce battle fought with iron rods, fisticuffs, pushing aside physically a and stone-pelting. This is very unfortunate that the world two topmost populated countries are fighting themselves and the responsibility lies with China. After all, India can not be supposed to lose it's land for it suits the enemy's sweet will. The main reason behind this incessant border dispute is that it is not demarcated well. First the whole India should forget its internal disputes that are predominantly only of psychological nature like those lying between various casts and religions. We all should unite for once and ever and avoid consumption of Chinese goods for  ever. The power of China lies in its economic gain and capitalizing on the the trade surplus with India it insensibly tries to harm the very potential market of it's own.. Let them do foolishness we must behave like a prudent citizen and throw out all Chinese goods from our house even though they might be cheap. After all their qualities are always low and they are absolutely unreliable too. If China try to wage an armed conflict with India then India might think of seeking help of US, Europe and other powerful countries.
Mr. Ashwani Ummed in his article has dealt with the circumstances of Mr. Sushant Singh Rajput the blooming cine star who committed suicide two days ago. Mr. Kumar Ravindra has posted a beautiful poem on love letters and shown that the nature of love is the same though existing between different persons in different instances at different time . Actually he has made this point that it's love that is eternal and not the characters playing the same. In his small poem an esteemed poet Dr. Ravindra K Das has shown that the loneliness is the biggest enemy of a human being. For a proper human life one needs people around him regardless of whether they are friendly or not. A celebrated writer in India, Mr. Parichay Das who has also been Secretary of Maithili Bhojpuri Academy in Delhi govt has posted a big review of the first Bhojpuri feature film "Hay Ganga Maiya tora piyari chadaibo". The whole article is worth reading for its depth of analysis and style of expression. Mrs Lata Prasar is a well-known face in Bihar because of her various literary activities and since last few years her content of write-ups have taken a quantum jump on the parameters of quality that is why she is now loved and cherished by all kinds of print and electronic media. One of her love poems is enlisted here. 

संपादकीय (16.6.2020) का हिंदी अनुवाद:  चीन ने हमारे क्षेत्र में घुसपैठ की है। आजादी के बाद से अब तक कई अवसरों पर ऐसा ही होता रहा है। भारत के साथ सभी आपसी समझौतों और अंतर्राष्ट्रीय कानूनों के सभी उपबंधों का उल्लंघन करते हुए, उसने यह धृष्टता दिखाई है बिना इसकी तनिक भी परवाह करते हुए कि दुनिया क्या सोचती है। हमारे सैनिकों ने एक अदम्य साहस और वीरता के साथ अब भी लड़ाई लड़ी, हमारे क्षेत्र को सुरक्षित रखने के लिए एक उच्च रैंक के अधिकारी सहित कुछ 20 भारतीय सैनिक मारे गए। इस बिना अस्त्रों की लड़ाई में चीन की तरफ लगभग 43 हताहतों की रिपोर्ट की गई है जिसमें लोहे की छड़ों, शारीरिक रूप से घूंसेबाजी गई लड़ाई, और पथराव के द्वारा लड़ी गई। यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि दुनिया के दो शीर्ष आबादी वाले देश खुद लड़ रहे हैं और जिसकी जिम्मेदारी चीन की है। आखिरकार, भारत को दुश्मन के मनमौजीपन के लिए अपनी जमीन खोने के लिए नहीं बाध्य किया जा सकता है। इस अनवरत सीमा विवाद के पीछे मुख्य कारण यह है कि यह स्पष्ट रूप से सीमांकित नहीं है। पहले पूरे भारत को अपने आंतरिक विवादों को भूल जाना चाहिए जो मुख्यतः केवल मनोवैज्ञानिक प्रकृति के हैं जो विभिन्न जातियों और धर्मों के बीच चल रहे हैं । हम सभी को एक बार और हमेशा के लिए एकजुट होना चाहिए और हमेशा के लिए चीनी सामानों के सेवन से बचना चाहिए। चीन की शक्ति उसके व्यापारिक लाभ में निहित है और भारत के साथ व्यापार मुनाफे का लाभ उठाते हुए यह अपने ही संभावित बड़े बाजार को नुक्सान पहुंचाने में लगा है । उन्हें मूर्खता करने दो हमें एक विवेकशील नागरिक की तरह व्यवहार करना चाहिए और सस्ते होने पर भी हमारे घर से सभी चीनी सामान बाहर फेंक देना चाहिए। आखिरकार उनकी गुणवत्ता हमेशा कम होती हैं और वे बिल्कुल गैर-भरोसेमंद भी होते हैं। अगर चीन भारत के साथ सशस्त्र संघर्ष करने की कोशिश करता है तो भारत अमेरिका, यूरोप और अन्य शक्तिशाली देशों की मदद लेने के बारे में सोच सकता है।
श्री अश्विनी उम्मीद ने अपने लेख में श्री सुशांत सिंह राजपूत जैसे खिलते सिने सितारे की परिस्थितियों पर विचार किया है जिन्होंने दो दिन पहले आत्महत्या कर ली। श्री कुमार रवींद्र ने प्रेम पत्रों पर एक सुंदर कविता पोस्ट की है और दिखाया है कि प्यार की प्रकृति एक ही है, भले ही वह अलग-अलग व्यक्तियों के बीच अलग अलग समय में हुआ हो। वास्तव में उन्होंने यह मुद्दा बना लिया है कि यह प्रेम है जो शाश्वत है और न कि उसे निभा रहे किरदार। अपनी छोटी कविता में एक प्रतिष्ठित कवि डॉ. रवींद्र के दास ने कहा है कि अकेलापन इंसान का सबसे बड़ा दुश्मन है। एक उचित मानव जीवन के लिए व्यक्ति को अपने आसपास लोगों की आवश्यकता होती है,भले ही वे मित्रवत हों या न हों। भारत में एक प्रसिद्ध लेखक, श्री परिचय दास, जो दिल्ली सरकार में मैथिली भोजपुरी अकादमी के सचिव भी रह चुके हैं, ने पहली भोजपुरी फीचर फिल्म "हे गंगा मैया तोरा पियरी चढ़ैबो" की एक बड़ी समीक्षा पोस्ट की है। पूरा लेख विश्लेषण और अभिव्यक्ति की शैली की गहराई के लिए पढ़ने लायक है। श्रीमती लता प्रासर अपनी विभिन्न साहित्यिक गतिविधियों के कारण बिहार में एक जाना-माना चेहरा हैं और पिछले कुछ वर्षों से उनके लेखन-सामग्री ने गुणवत्ता के मापदंडों पर एक जोरदार छलांग लगाई है, इसीलिए उन्हें अब हर तरह से प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से प्यार और स्नेह मिल रहा है। उनकी एक प्रेम कविता यहां दी गई है।

EDITORIAL (15.6.2020): Love is the hallmark of living creature. Either man or animal none can live without it. And the human beings having been at the peak of the evolution of organisms think it the most important element in his life. Though his love is not just an animal love that purely originates out of hunger and sex drive rather and in an grown up man it is predominantly in a sublimated form that reflect in selfless love to others and even to a spiritual entity called God. Still the conjugal love or love between the life-partners is the most intense kind of love in the greater part of one's life. And there is nothing wrong in it. It is but natural without which a human life will become absolutely prosaic. Now the moot point is when people around you is suffering with the extreme kind of pains and difficulties how ethical it is to indulge yourself in routine love to your life-partner? But here it is also true that even though the whole world might be burning you kind forsake your love to your better half as the relation between spouses are like a river and it's bank. This seems to be the greatest dilemma but is "no dilemma at all" says the senseful poet Mr. Rohit Thakur in his poem "Maine tumse uss samay bhi prem kiya".. Your love to people at large does not debar you to love your wife.
The most prolific writer and  senior poet Mr. Shahanshah Alam has posted the photos of his long article in which he has discussed over the poetry of 21 well-known poets of India. The veteran gazalgo (poet) Mr. Prem Kiran, more known for his serious gazals (poems) has posted one of the love gazal that talks purely about the man-woman love. Yesterday the young actor Sushant Singh Rajput came to his sad demise at just 34 which stirred everyone up. The poems by Mr. Madhuresh Sharan and Mr. Harinarayan Singh hari pays homage to the departed soul. Little Thespian is a well-known cultural organisation based in Kolkata and Ms. Uma Jhunjhunwala is the key person in this. She has presented the account of the online programs organised by it in which the legendary and celebrated drama directors talked to the people. And we have also enlisted a video by the young poet Mr. Keshav kaushik whose gazal is worth listening.  

संपादकीय (15.6.2020) का हिंदी अनुवादप्रेम जीवित प्राणी की एक मुहर है। या तो आदमी या जानवर कोई भी इसके बिना नहीं रह सकता है। और जीवों के विकास के चरम पर होने वाले मनुष्य इसे अपने जीवन में सबसे महत्वपूर्ण तत्व मानते हैं। यद्यपि उनका प्रेम केवल एक पशुवतप्रेम नहीं होता जो विशुद्ध रूप से भूख और यौन-इच्छा से निकलता है और व्यस्क आदमी में यह मुख्य रूप से एक उच्चतर रूप में होता है जो दूसरों के लिए निस्वार्थ प्रेम और यहां तक ​​कि ईश्वर नामक आध्यात्मिक इकाई से प्रेम को भी दर्शाता है। फिर भी जीवन-साथियों के बीच  किसी व्यक्ति के जीवन के  एक बड़े हिस्से में सबसे गहन प्रेम होता है। और इसमें कुछ भी गलत नहीं है। यह स्वाभाविक है, क्योंकि इसके बिना एक मानव जीवन बिल्कुल नीरस हो जाएगा। अब विचारनीय मुद्दा यह है कि जब आपके आस-पास के लोग चरम प्रकार के दर्द और कठिनाइयों से पीड़ित हैं, तो अपने जीवन-साथी को नियमित रूप से प्यार करना कितना नैतिक है? लेकिन यहाँ यह भी सच है कि भले ही पूरी दुनिया जल रही हो लेकिन आप अपने जीवन साथी को प्यार करना नहीं छोड़ सकते हैं क्योंकि जीवनसाथी का रिश्ता एक नदी और किनारे की तरह है। यह सबसे बड़ी दुविधा लगती है, लेकिन "कोई दुविधा बिल्कुल नहीं है", समझदार कवि श्री रोहित ठाकुर ने अपनी कविता में कहा है "मैने तुम्हें उस समय भी प्रेम किया " .. वृहद जनसमुदाय से आपका प्रेम  आपको पत्नी से प्रेम करने से नहीं रोकता। 
सबसे विपुल लेखक और वरिष्ठ कवि श्री शहंशाह आलम ने अपने लंबे लेख की तस्वीरें पोस्ट की हैं जिसमें उन्होंने भारत के 21 बेहतरीन कवि/कवयित्रियों के काव्य पर चर्चा की है। अपनी गंभीर गज़ल के लिए अधिक जाने जाने वाले अनुभवी गज़लगो श्री प्रेम किरण ने एक प्रेम गज़ल पोस्ट की है जो पूरी तरह से स्त्री-पुरुष प्रेम के बारे में बात करती है। कल युवा अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत उनके निधन पर महज 34 साल की उम्र में आ गए, जिसने सभी को हिलाकर रख दिया। श्री मधुरेश शरण और श्री हरिनारायण एस हरि की कविताएँ दिवंगत आत्मा को श्रद्धांजलि देती हैं। लिटिल थेस्पियन कोलकाता में स्थित एक प्रसिद्ध सांस्कृतिक संगठन है और उमा झुनझुनवाला इसमें प्रमुख व्यक्ति हैं। उसने इसके द्वारा आयोजित ऑनलाइन कार्यक्रमों का लेखा-जोखा प्रस्तुत किया है जिसमें दिग्गज और प्रसिद्ध नाटक निर्देशकों ने लोगों से बात की। और हमने युवा कवि श्री केशव कौशिक द्वारा एक वीडियो भी जारी किया है, जिसकी गज़ल सुनने लायक है।


EDITORIAL (14.6.2020): Today is a bad day and the whole of social media is overwhelmingly occupied with the responses over the tragic news of getting himself hanged till death by the blooming movie and TV star Sushant Singh Rajput. Strangely this happened in his early 30s. Though we don't  have nerve to offer the obituary to such a darling icon of youngsters we are presenting the link of poetic echo of the feelings of crores of people by a talented gazsalgo Mr. Kundan Anand.
In his article "New normal me Bhartiya man" a highly distinguished writer of the nation Mr. Dhruv Gupt has presented the whole gamut of pictures on how the different aspects of the common life will be if the pandemic Covide persists which the unfortunately the most likely scenario as of now. Mr. Sanjay Kr. Kundan is an accomplished shayar (poet) of India whose each and every sher throws light on some unique sort of circumstances. You gain your perspective in each of his shers and you often find that one or two of them address straight to your absolutely personal kind of problems. In one of the sher of cited gazal so beautifully he becomes a true migrant labouerer of today - "Ham apane shaano pe apna ghar leke chalte hain Kundan / Ho maail-e- safar har waqt ye apni nishaani hai" (We carry the whole of our home on our shoulders and remining always in some sort of journey is our identification). And as a tail, I have dared to put a piece of humour gazal (poem) and you are thrilled at the same time dealing with the most serious of nowadays problems. One sher is - "Crona bhagane me kaun hai adhik helpful / Bolun ya Allah ya jaapun Ram Ram". elucidate it as which one will be more helpful in driving away the pandemic Corona - whether it is Allah or Ram?And last but not the least, a video by Dr. Ravindra K das on "Aalochna ka dharm" must be watched by the Hindi litterateurs either big or beginner.
संपादकीय (14.6.2020) का हिंदी अनुवादआज सचमुच एक बुरा दिन है और पूरे सोशल मीडिया पर उदीयमान फिल्म और टीवी स्टार सुशांत सिंह राजपूत द्वारा खुद को फांसी लगा लिए जाने की दुखद खबर पर प्रतिक्रियाओं की झड़ी लगी है। अजीब बात है कि यह अति दुखद घटना उनकी जिंदगी के चौथे दशक की शुरुआतमें ही हो गया । हालाँकि, हमारे पास ऐसे युवाओं के प्रिय आइकन के लिए शोक-सन्देश को प्रस्तुत करने के लिए हिम्मत नहीं है पर करोड़ों लोगों की भावनाओं को प्रतिध्वनित करने हेतु एक क्षमतावान शायर श्री कुंदन आनंद की इस सम्बन्ध में लिखी ग़ज़ल का लिंक प्रस्तुत कर रहे हैं।
अपने लेख "न्यू नॉर्मल में भारतीय मन" में देश के एक बेहद प्रतिष्ठित लेखक श्री ध्रुव गुप्त ने पूरी तस्वीर के पूर्ण विस्तार के साथ प्रस्तुत किया है कि कैसे आम जीवन के विभिन्न पहलुओं को यह प्रभावित करेगा अगर महामारी कोविड जारी रहती है। उस दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति के सबसे अधिक संभाव्य परिदृश्यों को दिखाया है । श्री संजय कु. कुंदन भारत के एक कुशल शायर (कवि) है, जिनका हर शेर कुछ अनूठे हालात पर रोशनी डालता है। आप उनके प्रत्येक शेर में अपना दृष्टिकोण प्राप्त करते हैं और आप अक्सर पाते हैं कि उनमें से एक या दो सीधे आपकी बिल्कुल निजी तरह की समस्याओं को प्रतिबिंबित करते हैं। इतनी खूबसूरती से यह शायर अपनी ग़ज़ल के एक शेर में आज का एक सच्चा प्रवासी सा बन जाता है - "हम अपने शानों पे घर अपना घर लेके चलते हैं 'कुन्दन' / हों माइल-ब-सफ़र हर वक़्त ये अपनी निशानी है"। और सबसे अंत में, मैंने अपनी (हेमंत दास 'हिम') की हास्य गज़ल (कविता) को डालने का दुस्साहस किया है जिसमें आप आजकल की सबसे गंभीर समस्याओं से निपट भी रहे होते हैं। एक शेर है - "क्रोना भगाने में बता, कौन हे अधिक हेल्पफुल / बोलूं या अल्लाह या मैं जापूं राम राम?"। साहित्य की आलोचना पर डॉ. रवीन्द्र के दास का वीडियो काफी ज्ञानवर्धक है जो नए-पुराने सभी साहित्यकारों को अवश्य देखना चाहिए.


EDITORIAL (13.6.2020): "Ham ye samjhe ki marham-e-gam hai / Dard bankar dawa ne loot liya". The eminent shayar (poet) of Delhi died yesterday after defeating Corona Virus. Though he died at 93+ years of age because perhaps of his senility and weakness in the aftermath of corona fight he gave a good message that the corona can be defeated even at this age. Md. Nasim Akhtar is a good shayar of Patna and has posted a pithy article paying tribute to the departed Anand Mohan Jutsi @ Gulzar Delhavi. 
The phase of college days and a few years later are always a hotbed of dilemmas, cropping ambitions and frustrations in one's life. One never have had and will never experience such kind of psychological crisis or trauma that he passes through at this age. One is able to view the probable course of his life that should be and also what is actually most probable to be given the circumstances. And definitely there is a clash in both of them and this clash becomes the genesis of one's individual philosophy for rest of the life. We have presented the poems of Mr. Prashant Viplavi which was written in this very phase of adolescence and you can feel a young man of phase in his write-up. The poem by Mr. Anchit describes a melancholic phase past the dalliance of youthfulness. The poet is still young but now he is overpowered by the serious responsibilities which were totally absent in the beginning of youth age. Now he is bearing the brunt of all the revelry and fun he made earlier. Both the poems seem to be absolutely individual ones but the aim is not to introduce you to their cynicism rather it is to let you feel your such phase in your life and rest assured that there are others also who passed through such traumas. And a peer feeling give you relief. And I wood like to say you good bye in a relaxing mood with a sher by the evergreen prolific love poet Mr. Sagar Anand - "Phool ki angaraaiyon me aashiqi hai  / Ishqiyaana rango-boo hai aur tum ho" (There is an invitation of love in the yawning of the flowers and there is an air and aroma of love in your presence). You can read the full ghazal in his link given by us. And at the tail of it I have also given the link of my humorous ghazal purely for your entertainment. 
संपादकीय (13.6.2020) का हिंदी अनुवाद: "हम ये समझे कि मरहम-ए-ग़म है / दर्द बन कर दवा ने लूट लिया"।  कोरोना वायरस को हराने के बाद कल दिल्ली के प्रख्यात शायर (कवि) का निधन हो गया। हालाँकि 93 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया, शायद उनकी वृद्धावस्था और कोरोना की लड़ाई के बाद की कमजोरी की वजह से पर उन्होंने जाते-जाते एक अच्छा संदेश दिया कि इस उम्र में भी कोरोना को हराया जा सकता है। मोनसीम अख्तर पटना के एक अच्छे शायर हैं और दिवंगत आनंद मोहन जुत्सी उर्फ गुलज़ार देलाहवी को श्रद्धांजलि देते हुए एक लेख लिखा है।
कॉलेज के दिनों और कुछ वर्षों के बाद का काल हमेशा दुविधाओं, किसी के जीवन में महत्वाकांक्षाओं और कुंठाओं से भरा होता है। किसी को भी उस तरह के मनोवैज्ञानिक संकट या आघात का कभी अनुभव नहीं हुआ होता जिससे  वह इस उम्र में गुजरता है। व्यक्ति अपने जीवन के संभावित भविष्य की रूपरेखा को देखने में सक्षम होता है वह जो होना चाहिए और वह भी कि परिस्थितियों की वजह से वास्तव में सबसे अधिक संभावित क्या है। और निश्चित रूप से उन दोनों में एक टकराव होता  है और यह संघर्ष जीवन के बाकी हिस्सों के लिए उस व्यक्ति के व्यक्तिगत दर्शन की उत्पत्ति बन जाता है। हमने श्री प्रशांत विप्लवी की कविता प्रस्तुत की है जो किशोरावस्था के इस चरण में लिखी गई थीं और आप उनके लेखन में इस चरण के एक युवा व्यक्ति को महसूस कर सकते हैं। श्री अंचित की कविता में युवावस्था की आरंभिक अवस्था के उपरांत एक उदासीन अवस्था का वर्णन है। कवि अभी भी युवा है, लेकिन अब वह उन गंभीर जिम्मेदारियों से भर गया है जिनसे युवा अवस्था की शुरुआत में पूरी तरह से वह बचा था। अब वह पहले किए गए सभी किलोल का खामियाजा भुगत रहा है। दोनों ही कविताएँ बिलकुल व्यक्तिपरक लगती हैं, लेकिन इनका उद्देश्य आपको उनके व्यक्तिगत वैचित्र्य  से परिचित कराना नहीं है, बल्कि यह है कि आप अपने जीवन के ऐसे दौर को महसूस करें और निश्चिंत रहें कि ऐसे भी लोग हैं जो ऐसे दुखों से गुजर चुके हैं। और एक समानधर्मी समूह की भावना आपको राहत देती है। और मैं आपको सदाबहार  इश्किया शायर श्री सागर आनंद द्वारा एक शेर के साथ खुशनुमा सुकून का अहसास दिलाते हुए अलविदा कहना चाहता हूं - "फूल की अँगड़ाइयों में, आशिकी है / इश्कियाना रंगो - बू है, और तुम हो". पूरी ग़ज़ल का लिंक दिया है. अंत में मैंने भी अपनी हास्य ग़ज़ल का लिंक दे दिया है आपके विशुद्ध मनोरंजन के लिए - "तेरा प्यार न हो मानो सूगर का रोग हो".
.....

EDITORIAL (12.6.2020): Keeping apart my personal experiences that have admittedly been the other way around, I too believe that the plight of a deserted wife is more ghastly than a nightmare. "Ek bairang lifaafe si" the epithet given by Dr. Bhavana Astitwa is justified. If you go through this poem and other two posted in a go, you would feel like being numbed. So touching are her poems! We salute her matchless power of expression and also for her chosen subject that directly represent at least lakhs of women in India. In another poem she says that you can't find father of a common man in poems as he is always near the depleting store of monthly ration kept in the house. Her words are so communicative that any explanation would jsut be superfluous. 
Mr. Satyendra Prasad Srivastava is a well-known story-writer of India and the link shared by us is a story of a security-guard working in a housing society who is treated almost like a bonded labourer having innumerable masters and no individual self-esteem. . You read and come to know that he is more talking about the security guard of yours rather than one of him. Renowned poet Mr. Swapnil Srivastava is a renowned writer who has not only been awarded with prestigious Bharat Bhushan Agrawal Puraskar and international Pushkin award but also with Kedar Samman. Firaq Samman and Shamsher Samman as mentioned by Mr. Satyendra Kumar Raghuvanshi in his long comment over his poems. I noticed that all three of these love poems have an ending that give some important message to the world. Means his love poems are not just for love prayers or an instrument of love making to his beloved but also address to the outer world on some important issue. In his poem another renowned poet Mr. Shahanshah Alam on whose poems some researcher in Punjab has also completed his PhD., has posted a poem full of nostalgia. The paternal house always remain in your sweet memory notwithstanding all the discomforts and difficulties it possessed. Another well-known writer of Bihar Mr. Bhagwat Animesh who is also a brilliant actor, drama director and playwright has posted a poem describing the solitude of a man. It is worth reading for it's poignancy. In the regional section we have come up with a Urdu gazal by Kafil Ahmed who lives in Ontario (Canada). One of the sher in the Urdu gazal is "Ek faayada toh dekhiye aisa bhi hai hua / Sabko laga gayi hai waba ik qataar me" (Though this pandemic might have demerits but it also has a merit that it has treated one and all as.) equal.
Do not get confused by the lifting of lockdown. It is just for avoiding hunger deaths by keeping the economic activities alive. The Covid-19 are still rising and the pandemic is supposed to reach a peak perhaps in July 20. So please take care, friends!
संपादकीय (12.6.2020) का हिंदी अनुवादअपने व्यक्तिगत अनुभवों को अलग रखते हुए जो कि इसके पूरी तरह उलट रहा है, मैं भी मानता हूं कि एक परित्यक्ता पत्नी की दुर्दशा किसी बुरे सपने से भी ज्यादा भयानक होती है। डॉ. भावना अस्तित्व द्वारा दी गई उपमा "एक बैरंग लिफ़ाफ़े सी" का औचित्य है। यदि आप इस कविता और अन्य दो जो उसके साथ पोस्ट किये गए हैं, को पढेंगे तो  ऐसा महसूस करेंगे कि आप सुन्न हो गए हैं। ऐसी प्रभावकारी हैं वे! हम उनकी अभिव्यक्ति की शक्ति को नमन करते हैं और उनके विषय के चयन को भी जो भारत में कम से कम लाखों महिलाओं का प्रतिनिधित्व करता है। एक अन्य कविता में वह कहती हैं कि आप कविताओं में एक सामान्य व्यक्ति के पिता को नहीं पा सकते क्योंकि वह हमेशा घर में रखे मासिक राशन के घटते भंडार के पास होता है। उनके शब्द इतने स्पष्ट हैं कि कोई भी व्याख्या अतिशयोक्ति होगी।
श्री सत्येन्द्र प्रसाद श्रीवास्तव भारत के जाने-माने कहानीकार हैं और हमारे द्वारा साझा किया गया लिंक एक हाउसिंग सोसाइटी में काम करने वाले एक सुरक्षा-गार्ड की कहानी है, जो लगभग एक बंधुआ मजदूर की तरह है जिसके असंख्य स्वामी हैं और मानो उसका कोई आत्मसम्मान है ही नहीं। आप पढ़ते हैं तो पाते हैं कि कहानीकार  अपने की बजाय आपके सुरक्षा गार्ड के बारे में अधिक बात कर रहा है। प्रसिद्ध कवि श्री स्वप्निल श्रीवास्तव एक प्रसिद्ध लेखक हैं, जिन्हें न केवल प्रतिष्ठित भारत भूषण अग्रवाल पुरस्कार और रूस के अंतर्राष्ट्रीय पुश्किन पुरस्कार से सम्मानित किया गया है, बल्कि केदार सम्मान, फिराक सम्मान और शमशेर सम्मान के साथ भी सम्मानित किया गया है जैसा कि श्री सत्येंद्र कुमार रघुवंशी ने अपनी कविताओं पर लंबी टिप्पणी में उल्लेख किया है। मैंने देखा कि इन तीनों प्रेम कविताओं का अंत ऐसा है जो दुनिया को कुछ महत्वपूर्ण संदेश देता है। इसका मतलब है कि उनकी प्रेम कविताएँ सिर्फ प्रणय निवेदन या अपनी प्रिया को प्यार करने का साधनमात्र  नहीं हैं बल्कि किसी महत्वपूर्ण मुद्दे पर बाहरी दुनिया को भी संबोधित करती हैं। अपनी कविता में एक अन्य प्रसिद्ध कवि श्री शहंशाह आलम हैं जिनकी कविताओं पर पंजाब के एक  शोधार्थी भी अपनी पीएचडी पूरी कर चुके हैं। पैतृक घर हमेशा आपकी मीठी याद में रहता है चाहे वहाँ कितनी भी असुविधाएँ और कठिनाइयाँ रहीं हों। बिहार के एक अन्य प्रसिद्ध लेखक श्री भागवत अनिमेष, जो एक शानदार अभिनेता, नाटक निर्देशक और नाटककार हैं, ने एक कविता पोस्ट की है जिसमें एक व्यक्ति के एकांत का वर्णन किया गया है। यह मार्मिकता के लिए पढ़ने लायक है।क्षेत्रीय खंड में हम एक उर्दू गज़ल लेकर आए हैं, जो कफील अहमद ने ओंटारियो (कनाडा) से पोस्ट किया है। उसका एक शेर है-  "इक फ़ायदा तो देखिए ऐसा भी है हुआ / सबको लगा गई है वबा इक क़तार में" (वबा = महामारी ) ।
लॉकडाउन  के उठने से भ्रमित न हों। यह सिर्फ आर्थिक गतिविधियों को जीवित रखकर भूख से होने वाली संभावित मौतों से बचाने के लिए है। कोविड-19 अभी भी बढ़ ही रहा है और यह महामारी शायद जुलाई 20 में एक चरम तक पहुंचने वाली है। इसलिए कृपया अपना ख्याल रखें, दोस्तों!

EDITORIAL (11.6.2020): It was a year something around 1989 or so. I had just cleared my Inter and was roaming around with my friend Mr. Indu Bhushan Indu (now a reputed journalist in Ranchi) and absolutely out of curiosity asked him- "What is gazal?" He replied, " Well I explain it. Suppose someone has speared you into your heart with a dagger and then the words uttered by you in the extreme groan is "aah!. This 'aah' is gazal. The matter entered deep into my head effortlessly. In brief I just wanted to make it to you what is the essence of poetry. Until and unless it is expressing the deep feelings most often of sorrow or pain it is not poem. Now we see in modern time the poetry is shifting from feelings to ideas and pro-public stance is touted as not just prominent but an essential feature of it. Well, we have given two links today on it one of Mr. Anchit and another of Mr. Rakesh Ranjan. Both are renowned poet, writer and also have enough academic knowledge on it to speak over it.  
Mr. Asmurari Nandan Mishra, a talented young poet who was selected in a scheme by a reputed Foundation in Jaipur for publication of the poetry book authored by him,  has posted a beautiful poem on how the life is like if you are away with you little princess (daughter) for a long time. The poem is so lively that you would feel like living your own fatherhood. The esteemed litterateur in Hindi and Bhojpuri Mr. Jitendra Kumar has posted a Bhojpuri gazal replete of his sharp two-liners (shers). We have also included two videos one of story and another of melodious gazals. We hope you would enjoy all of them.
संपादकीय (11.6.2020) का हिंदी अनुवादयह 1989 या उसके आसपास का कोई  साल था। मैंने इंटर पास कर लिया था और अपने दोस्त श्री इंदु भूषण इंदु (अब रांची के एक प्रतिष्ठित पत्रकार) के साथ घूम रहा था और विशुद्ध उत्सुकतावश उनसे पूछा- "गज़ल क्या है?" उन्होंने उत्तर दिया, "मैं इसे समझाता हूं। मान लीजिए कि किसी ने आपने आपके सीने में खंजर घोंप दिया है और आप दर्द से कराहते  हुए कह उठते हैं - आह! यही  ग़ज़ल  है। उनकी बात एक ही बार में मेरे दिमाग के अन्दर घुस गई। संक्षेप में मैं सिर्फ यह बताना चाहता था कि कविता का सार क्या है। जब तक यह गहरी भावनाओं या पीड़ाओं को व्यक्त नहीं करता है, तब तक यह कविता नहीं है। अब हम देखते हैं कि आधुनिक समय में कविता भावनाओं की बजाय विचारों की प्रमुखता और उन्मुख हो रही है और उसमें भी जन-पक्षधारिता को एक प्रमुख ही  नहीं बल्कि अनिवार्य गुण के रूप में देखा जाने लगा है । चलिए, हमने आज इस विषय पर दो लिंक दिए हैं एक श्री अंचित का और दूसरा श्री राकेश रंजन का। दोनों युवा किन्तु प्रसिद्ध कवि, लेखक हैं और इस पर बोलने के लिए इस पर पर्याप्त शैक्षिक ज्ञान भी रखते हैं।
श्री असमुरारी नंदन मिश्र, एक प्रतिभाशाली युवा कवि, जिन्हें उनके द्वारा लिखी गई काव्य पुस्तक के प्रकाशन के लिए जयपुर में एक प्रतिष्ठित फाउंडेशन द्वारा एक योजना में चुना गया था, ने एक सुंदर कविता पोस्ट की है कि जीवन कैसा होता है यदि आप लंबे समय के लिए अपनी राजकुमारी (बेटी) से दूर रहते हैं। कविता इतनी जीवंत है कि आपको लगता है कि आप स्वयं के पैत्रिक अनुभव  को जी रहे हैं। हिंदी और भोजपुरी के प्रतिष्ठित साहित्यकार  श्री जितेन्द्र कुमार ने अपने धारदार शेरों से परिपूर्ण  एक भोजपुरी गज़ल को पोस्ट किया है। हमने दो वीडियो को भी शामिल किया है - एक  कहानी का और एक मधुर गजलों के सस्वर पाठ का। हमें उम्मीद है कि आप इन सभी का आनंद लेंगे।


EDITORIAL (10.6.2020): Though the wife loves the good face of her husband she actually admires the physique of the husband's friend. What ensues is a fierce fight between the two men and both murder each other. Now the wife is in deep agony as what to do now. A goddesses appears and asks the lady to just join the heads of the respective torsos of both dead men and both would come to life. Here the clever lady (wife) plays a trick she joins the head of her husband to the torso of his friend so that she should get the best face and the best physique in the persona of her husband. The story moves ahead very interestingly and takes you deep into a mirage of completeness and shows you the ghastly effect of it's pursuit. Our  Drama Review of the play 'Haybadan'  on Bihari Dhamaka in 2014 can be viewed. This was written by the iconic playwright, director and actor Girish Karnand whose death anniversary falls today. Rang march has posted a beautiful article compiling his contribution to the Indian theatre and Cinema in a nutshell.
Mr. Sagar Anand is not only a prolific shaayar (poet)  but also an avid traveler of the realms of soul. Each of his gazals will make you more sensitive towards the human life. In the enlisted gazal one of the sher is - "Mai zara aansuon ka aashik hoon / Tum meri aankh me galo saathi" (I am a little bit lover of the tears and my companion you please turn yourself into my tears please!), Ms. Neha Narayan Singh is very young poet and we are happy that we could also cite her poem today in an attempt to join freshers too. She has upheld the self-ability of the womankind forcefully in protecting themselves. In the regional section we have given you the link of a veteran litterateur Mr. Jitendra Kumar's Bhojpuri poem that gives you a  kaleidoscopic view of the machiavellian tactics prevalent in today's society. We have also presented the links of two videos which are worthy to watch.
संपादकीय (10.6.2020) का हिंदी अनुवादहालाँकि पत्नी अपने पति के सुन्दर चेहरे से प्यार करती है लेकिन वह वास्तव में पति के दोस्त के शरीर-सौष्ठव को भी पसंद करती है।आगे वही होता है जो होना चाहिए। दोनों  दोस्तों  में भयंकर लड़ाई होती है और दोनों एक दूसरे की हत्या करते हैं। अब पत्नी गहरी तड़प में है कि अब क्या किया जाए। एक देवी प्रकट होती है और महिला से सिर्फ दोनों मृत पुरुषों के सिरों को उनके धडों से जोड़ने के लिए कहती है कि इससे  दोनों को जीवनदान मिलेगा। यहाँ यह चालाक औरत (पत्नी) एक चाल चलती है, वह अपने पति के सिर को उसके दोस्त के धड़ से जोड़ती है ताकि उसे अपने पति के व्यक्तित्व में सबसे सुन्दर चेहरा और बलशाली काया दोनों मिल जाए। कहानी बहुत दिलचस्प तरीके से आगे बढ़ती है और आपको गहराई में एक मृगतृष्णा की ओर ले जाती है और आपको इसके पीछा करने के भयानक प्रभाव को दिखाती है। 2014 में बिहारी धमाका पर नाटक 'हयबदन' की हमारी नाटक-समीक्षा (अंग्रेजी में) देखी जा सकती है। यह प्रतिष्ठित नाटककार, निर्देशक और अभिनेता गिरीश कर्णांड द्वारा लिखा गया था, जिनकी पुण्यतिथि आज है। रंग मार्च ने भारतीय रंगमंच और सिनेमा में उनके योगदान को संकलित करते हुए एक सुंदर लेख पोस्ट किया है।
श्री सागर आनंद न केवल विपुल शायर हैं, बल्कि आत्मा के लोक में विचरण करने में रुचि रखनेवाले भी हैं। उनकी प्रत्येक गज़ल आपको मानव जीवन के प्रति अधिक संवेदनशील बना देगी। सूचीबद्ध गज़ल में एक शे'र है - "मैं  ज़रा आसुओं का आशिक हूं / तुम मेरी आंख में गलो साथी". सुश्री नेहा नारायण सिंह बहुत युवा कवयित्री हैं और हमें खुशी है कि हम आज उनकी कविता को नए रचनाकारों को जोड़ने की कोशिश में  उद्धृत कर रहे हैं। उन्होंने  खुद को बचाने के लिए महिला की आत्म-क्षमता का बलपूर्वक समर्थन किया है। क्षेत्रीय खंड में हमने आपको वरिष्ठ साहित्यकार श्री जितेंद्र कुमार की भोजपुरी कविता का लिंक दिया है, जो आपको आज के समाज में प्रचलित प्रपंचापूर्ण रणनीति का एक बहुरूपदर्शक दृष्टिकोण प्रदान करता है।हमने दो वीडयो के लिंक भी दिए हैं जो देखनेलायक हैं।

EDITORIAL (09.6.2020): "Ek din saari rulaiyon ko /Aansu mil jayenge /Aur saare paudhon ko unke patte" (Some day, one would be able to express all of his grieves through tears / And the plant will get all of it's fallen leaves" This is a historic creation by Mr. Bodhi Sattwa, a renowned contemporary poet of India who needs no introduction. At the outset of it you feel like entering into a wonder park. Each line presents an unbelievable charm that introduces you to the '"adbhut ras" (a feeling of weirdness) propounded by Bharat Muni. But you erring. The element of weirdness or fantasy is nothing but a manner of expression of the griefs haunting his mind. And these griefs is not his personal ones but they represent the griefs of people, the griefs of humankind where a poor old woman's sky of dreams is limited merely to collecting a little mahua leaves. A marvelous poem that establishes the unique need of (mukatchhanda) freestyle poem in this topsy-turvy world. No gazal,  song or rhymed poem can be as effective while expressing the utterly deranged feelings and thoughts of today.
Mr. Dhruv Gupt is a retired IG (Police) and is a celebrated writer and poet of national reckoning since last many decades. His poem "Mai bhi hoon" talks about the supremacy of existence of a lively creature in his own stead. Mr. Aks Samastipuri is also picked up by us frequently because of his intensity of feelings in his gazals which is matchless. He is a fantastic love gazalgo (poet) and a true lover never ever blame his partner and take all blames on himself - Tere saaye ki kamatari hai gawaah / Mujhse ab raushni nahi hoti" (You are now shirking from coming near me but it is not your fault. I myself am not capable to attract you.) In regional section we have enlisted two gazals by Mr. Ashish Anchinhar who is a doyen in contemporary Maithili gazal. The first one is primarily of love journey whereas the next one is about the deranged values in nowadays life. 
संपादकीय (09.6.2020) का हिंदी अनुवाद"एक दिन सारी रुलाइयों को / आंसू  मिल जायेंगे / और सारे पौधों को अनके पत्ते" "यह एक ऐतिहासिक महत्व की रचना है भारत के एक प्रसिद्ध समकालीन कवि श्री बोधिसत्व द्वारा रचित जिन्हें किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है। इसके शुरू होने पर आपको एक जादूनगरी में प्रवेश करने जैसा लगता है। प्रत्येक पंक्ति एक अविश्वसनीय द्रश्य प्रस्तुत करती है, जो आपका भरत मुनि द्वारा प्रतिपादित  ''अद्भुत रस'' से परिचित कराती है।  लेकिन यहाँ आप ग़लती कर रहे हैं। विचित्रता या फंतासी का तत्व कुछ और नहीं है, बल्कि दुखों की अभिव्यक्ति का एक तरीका है जो कवि के मन को परेशान कर रहा है। और ये दुख उनके निजी नहीं हैं बल्कि वे लोगों के दु:खों का प्रतिनिधित्व करते हैं। मानव जाति का वह दु:ख जहाँ एक गरीब बूढ़ी औरत के सपनों का आकाश केवल महुआ के पत्तों को इकट्ठा करने तक सीमित होता है। एक अद्भुत कविता जो इस अस्त-व्यस्त दुनिया में मुक्तछंद  कविता की विशिष्ट आवश्यकता को स्थापित करती है। कोई भी गजल, गीत या छंदबद्ध कविता आज की बिखरावपूर्ण जीवन की बेतरतीब भावनाओं और विचारों को पूरी तरह से व्यक्त करने में इतनी प्रभावी नहीं हो सकती ।
श्री ध्रुव गुप्त एक सेवानिवृत्त महानिरीक्षक (पुलिस) हैं, लेकिन पिछले कई दशकों से एक प्रतिष्ठित लेखक और राष्ट्रीय स्तर के कवि हैं। उनकी कविता "मैं भी हूं" अपने आप में एक जीवित प्राणी के अस्तित्व की सर्वोच्चता को  स्थापित करती है। श्री अक्स समस्तीपुरी को भी हमारे द्वारा अक्सर सूचीबद्ध किया जाता है क्योंकि उनकी गजलों में भावनाओं की जो तीव्रता है जो अतुलनीय है। वह एक कल्पनाशील इश्किया शायर है और सच्चा प्रेमी कभी भी अपने साथी को दोष नहीं देता है बल्कि सभी दोषों को खुद पर ले लेता है - तेरे साए की कमतरी है गवाह / मुझसे अब रौशनी नहीं होती"। "क्षेत्रीय' खंड" में हमने श्री आशीष अनचिन्हार जो समकालीन मैथिली गजल में एक प्रसिद्ध हस्ती हैं, की दो गजलों को शामिल किया है,  । पहली मुख्य रूप से प्रेम की यात्रा पर है, जबकि दूसरी आजकल के जीवन में मूल्यह्रास पर है । 


EDITORIAL (08.6.2020): Charandas Chor easily accepts all the four commandments of his guru but the denies straightforward on the point of doing away with his pious profession of theft. Seeing his disciple adamant the Guru changes his words and says "Well you keep on stealing articles but never speak lie and Charandas happily agrees. The whole play and also the film made on it by Shyam Benegal is the tale of his tragedies he passes through because of his ethics. The screenplay of this story taken from folklore was written by Habib. Today is the death anniversary of the legendary Drama director, script writer and actor Habib Tanweer. We have presented the link of Rang March who have prepared a beautiful sketch of his cultural journey. 
In his poem by Mr. Shahanshah Alam is says that the life of a common man is like a 'madaari' (a juggler or presenter of street shows of acts of monkey) on several counts. Mr. Ravindra K Das has posted a gazal on his wall which even though looking simple is full of messages. One of the sher is - "Kahin tizarat kahin siyasat / Koi na jaane duniya faani" (Someone is indulged in profit-making and other is in politics both suggestively in some unethical manner. He is lamenting that nobody is concentrating on the fact that the life is mortal so why should one indulge in such unscrupulous jobs rather than doing something that gives you spriritual bliss). We have enlisted a very small poem by Mr. Rohit Thakur in which he is glorifying the spiritual connotations in which own manner that is unique to him. Mr. Sanjay Singh has posted a gazal in which he exposes the machinations and subterfuge of today's men. One of the sher is - "Jawab jiska maaloom hi nahi / Anaginat aise sawasl rakkhe hai" (For saving his own faults one is putting beforehand so many such intriguing questions that cannot be answered by anyone. Actually his aim is to divert the attention of people from the true problems. We hope you shall enjoye reading all of these literary pieces. Take care!
संपादकीय (08.6.2020) का हिंदी अनुवादचरणदास चोर अपने गुरु के सभी चार उपदेशों को आसानी से स्वीकार कर लेता है लेकिन चोरी के अपने पवित्र पेशे से दूर होने के बिंदु पर सीधे इनकार करता है। अपने शिष्य को देखकर गुरु ने अपने शब्दों में परिवर्तन किया और कहा "ठीक है चोरी करना जारी रखो लेकिन कभी झूठ मत बोलना  और चरणदास खुशी से सहमत होता है। पूरा नाटक और श्याम बेनेगल द्वारा इस पर बनाई गई फिल्म भी उसकी त्रासदियों की कहानी है क्योंकि जिससे वह गुजरता है । लोककथा से ली गई इस कहानी की पटकथा हबीब ने लिखी थी। आज महान नाटक निर्देशक, पटकथा लेखक और अभिनेता हबीब तनवीर की पुण्यतिथि है। हमने रंग मार्च की कड़ी प्रस्तुत की है, जिन्होंने उसकी सांस्कृतिक यात्रा का  एक सुंदर विवरण पेश किया  है। 
श्री शहंशाह आलम द्वारा अपनी कविता में कहा गया है कि एक आम आदमी का जीवन कई मायने में एक मदारी सा होता है। श्री रवींद्र के दास ने अपने पटल पर एक गज़ल पोस्ट की है जो सरल दिखने के बावजूद संदेशों से भरी है। एक शे'र है - "कहीं तिजारत कहीं सियासत / कोइ न जाने दुनिया फानी" (कोई व्यक्ति लाभ कमाने में लिप्त है और अन्य दोनों राजनीति में कुछ अनैतिक तरीके से हैं। कवि विलाप कर रहां है कि कोई भी इस तथ्य पर ध्यान केंद्रित नहीं कर रहा है कि जीवन नश्वर है, इसलिए किसी को भद्दे कामों को करने की बजाय इस ऐसा काम में लगना चाहिए, जो आपकी आत्मा को आनंदित करता है)। हमने श्री रोहित ठाकुर की एक बहुत छोटी कविता को शामिल किया है जिसमें वे आत्मिक संचरण के महत्व को उजागर कर रहे हैं जिस कार्य में  उनका खुद का तरीका अद्वितीय है। श्री संजय सिंह ने एक गज़ल पोस्ट की है जिसमें वह आज के आदमियों की चालबाज़ियों और चल  को उजागर करते हैं। एक शे'र  है - "जवाब जिसका मालूम ही नहीं / अनगिनत ऐस सवाल रक्खे है" (अपने खुद के दोषों को बचाने के लिए पहले से कई ऐसे पेचीदा सवाल रख देते हैं, जिनका जवाब किसी के पास नहीं हो सकता। वास्तव में उनका उद्देश्य लोगों का सच्ची समस्याओं से ध्यान भटकाना है । हमें उम्मीद है कि आप इन सभी रचनाओं को पढ़ने में आनंद का अनुभव करेंगे ।
... .......


EDITORIAL (07.6.2020):  Mr. Jitendra Kumar is a senior litterateur not only concerned with the contemporary issues in the surroundings but is also a lover of traditional culture and therefore he writes both in Hindi and Bhojpuri. He has a good knowledge of history as well and you cannot take him for a ride on these serious matters. He has gone through the latest issue of the reputed literary magazine 'Doaba' edited by veteran writer Md. Zabir Hussain and has presented a graphical analysis of each and every item contained therein. Mr. Aks Samastipuri is a young poet (gazalgo) but possesses a depth that is rarely found in seniors of even super-seniors. His romantic gazals are par excellence you would cherish in the core of hearts. Read his gazal to assess the veracity of my statement. Mr. Pratyush Chandra Mishra is also a young poet of serious genre whose book has been chosen and published by a reputed publisher in Jaipur through a special scheme launched for young talented poets. In the cited poem he talks about the most absent thing in your life that. Guess what it is and then read his poem. Mr. Satyendra Prasad Srivastava is a well-known writer whose stories and poems can be seen every now and then some in top-ranking Hindi periodicals of India. His collection of poems "Andhere Apne Apne" has been reviewed by a discerning reviewer Mr. Shio Dayal. In line with our commitment of taking a 360 degree approach to Indian culture and helping it to spread on the global fora we have also enlisted a link each of videos on Indian ballet expert's talk with an Israeli one and recitation of Gujarati poems.
….....
संपादकीय (07.6.2020) का हिंदी अनुवादश्री जितेंद्र कुमार एक वरिष्ठ साहित्यकार हैं जो न केवल अपने परिवेश के  समकालीन मुद्दों से जुड़े हुए हैं बल्कि पारंपरिक संस्कृति में भी रुचि रखते हैं और इसलिए वे हिंदी और भोजपुरी दोनों में लिखते हैं। उन्हें इतिहास का भी अच्छा ज्ञान है और आप उन्हें इन गंभीर मामलों पर बरगला नहीं सकते। उन्होंने मो. जाबिर हुसैन द्वारा संपादित  प्रतिष्ठित साहित्यिक पत्रिका 'दोआबा' ’के नवीनतम अंक का गौर से अध्ययन किया है और इसमें निहित प्रत्येक सामग्री का सटीक विश्लेषण प्रस्तुत किया है। श्री अक्स समस्तीपुरी एक युवा गजलगो है लेकिन उनमें वह गहराई है जो वरिष्ठों और बुजुर्गों में भी मुश्किल से पाई जाती है। उनकी रूमानी ग़ज़लें बेहतरीन हैं जिन्हें आप दिल के कोने में संजोएंगे। मेरे बयान की सत्यता का आकलन करने के लिए उनकी गज़ल पढ़ें। श्री प्रत्यूष चन्द्र मिश्र भी गंभीर शैली के युवा कवि हैं जिनकी पुस्तक को जयपुर के एक प्रतिष्ठित प्रकाशक ने युवा प्रतिभाशाली कवियों के लिए शुरू की गई एक विशेष योजना के माध्यम से चुना और प्रकाशित किया है। उद्धृत कविता में वह आपके जीवन की सबसे अनुपस्थित चीज के बारे में बात करते हैं। सोचें   कि यह क्या है और तब उनकी कविता पढ़ें। श्री सत्येन्द्र प्रसाद श्रीवास्तव एक प्रसिद्ध लेखक हैं जिनकी कहानियों और कवितायें भारत के शीर्ष स्तरीय हिंदी पत्रिकाओं में अक्सर देखी जा सकती हैं। उनकी कविताओं का संग्रह "अँधेरे अपने अपने" की समीक्षा एक सूक्ष्मदर्शी समीक्षक श्री शिवदयाल ने की है। भारतीय संस्कृति के लिए एक 360 डिग्री दृष्टिकोण रखने और वैश्विक मंचों पर इसे फैलाने में मदद करने की हमारी प्रतिबद्धता के अनुरूप, हमने एक इजरायल के बैले विशेषग के साथ भारतीय बैले विशेषज्ञ की बातचीत और गुजराती कविताओं के पाठ के वीडियो के  लिंक भी दिए हैं।


EDITORIAL (06.6.2020): A reputed contemporary poet Mr. Rajyabardhan talks about the philanthropic aspect of trees vis-a-vis crooked mind of human beings. Another esteemed poet Mr. Swapnil Srivastava has expressed in his own style that the life of a common public is disturbed to such an extent that he is not able to play his natural roles like a lover or just a layman living a normal life and strangely this is the only way one can live in the modern age. Mr. Hemant Das 'Him' in his comical poem draws a picture as how a duel can be performed in Corona period. Mr. Ashish Anchinhar is known for formulating and systematizing Mathili gazal as a literary form in modern time. His gazals are mostly of small meter but most poignant and effective ones. We have presented three of them at one place. The video of Mr. Shahanshah Alam, a renowned poet is of a reading of his poem about view of the moon which is nothing but a symbol of happiness and well-being.
….....
संपादकीय (06.6.2020) का हिंदी अनुवाद:एक प्रसिद्ध कवि श्री शहंशाह आलम का वीडियो,  चाँद के बारे में उनकी कविता का पाठ है जो वास्तव में खुशी और भलाई के प्रतीक के अलावा और कुछ नहीं है।


EDITORIAL (05.6.2020): All the items enlisted today are in poetry. Md. Nasim Akhtar is basically a poet (gazalgo) but here he has used his freestyle skill in poetry which talks about the emotional bond of a man to the tree rather than describing the prosaic pros and cons chanting of felling down a giant tree. Mr. Sanjay Verma has presented an important item in which he has described all the bollywood celebrities who left us for ever in this very year 2020. And he has also mentioned the masterpieces of their works. To find all of them at one place is really a prize for a reader though in a tragic background. Mr. Prabhat Sarsij, a contemporary of the stalwarts like Mr. Alok Dhanwa, is a veteran poet of revolutionary genre. This piece showing his rage in somewhat lower pitch could be catched up by us for this page. Dr. Ravindra K Das is another esteemed writer who can always be seen angry on somebody. But he is so moderate in expression that never mentions his target pointedly.. And so nobody is annoyed rather they love his candid catharsis approach. He is  undoubtedly a wonderful gazalgo (rhyme poet) and writes both isqia (love) and issues-based gazals in noticeably effective manner and we enlist a serious gazal from one of them. Mr. Bhagwat Animesh is a prolific poet who writes in all classical and modern styles of poetry except gazals. He is an avid lover of the nature and many of his poetry often talks about the deprived class of people. In the enlisted poem he is depicting the condition of a neglected old man and it is so realistic! An audio by Mr. Arvind Paswan is also included in which he has tried successfully to show the true importance of Kabira (the saint poet in Hindi) in present time.
….....
संपादकीय (05.6.2020) का हिंदी अनुवाद आज जिन सभी रचनाओं को सूचीबद्ध किया गया है, वे पद्य में हैं। मो. नसीम अख्तर मूल रूप से एक कवि (गजलगो) हैं, लेकिन यहां उन्होंने कविता में अपने मुक्तछंद कौशल का इस्तेमाल किया है जो एक व्यक्ति  के विशाल पेड़ के साथ भावनात्मक बंधन के बारे में बात करता है बजाय कि उसके काट कर गिराने से होनेवाले नफा-नुकसान के बारे में । श्री संजय वर्मा ने एक महत्वपूर्ण रचना प्रस्तुत की है जिसमें उन्होंने बॉलीवुड की उन सभी हस्तियों का वर्णन किया है जिन्होंने इस वर्ष 2020 में हमें हमेशा के लिए छोड़ दिया। और उन्होंने उनके कामों की उत्कृष्ट कृतियों का भी उल्लेख किया है। एक जगह पर उन सभी को पा लेना वास्तव में एक दुखद पृष्ठभूमि  के बावजूद एक पाठक के लिए एक पुरस्कार सा है। श्री आलोक धन्वा जैसे दिग्गजों के समकालीन श्री प्रभात सरसिज क्रांतिकारी शैली के  कवि हैं। यह कविता कुछ कम तीखेन में अपना रोष दिखाते हुए इस पेज के लिए हमारे द्वारा संग्रहीत किया गया है। डॉ. रवींद्र के दास एक और सम्मानित लेखक हैं जिन्हें हमेशा किसी पर आक्रोश करते देखा जा सकता है। लेकिन वह अभिव्यक्ति में इतना संयत हैं कि कभी भी अपने लक्ष्य का उल्लेख नहीं करते हैं और इसलिए कोई भी इनसे नाराज़ नहीं होता है, बल्कि  sabhi उनकी क्रोध विमोचन की इस शैली को पसंद करते हैं । वह निस्संदेह एक अद्भुत गज़लगो  है और इश्किया  और मुद्दों पर आधारित गज़लों को  प्रभावी तरीके से कहते हैं  और हम उनमें से एक गंभीर गज़ल की सूची में उल्लेख करते हैं। श्री भागवत अनिमेष एक विपुल कवि हैं, जो गजलों को छोड़कर कविता के सभी शास्त्रीय और आधुनिक शैलियों में लिखते हैं। वह प्रकृति के एक उत्साही प्रेमी हैं और उनकी कई कविताएं अक्सर वंचित वर्ग के लोगों के बारे में बात करती हैं। वर्तमान कविता में वह एक उपेक्षित वृद्ध व्यक्ति की स्थिति को दर्शा रहे हैं और यह बहुत यथार्थवादी है! श्री अरविंद पासवान का एक ऑडियो भी शामिल है जिसमें उन्होंने वर्तमान समय में कबीर (हिंदी में संत कवि) के वास्तविक महत्व को दिखाने का सफल प्रयास किया है।
... .......


EDITORIAL (04.6.2020): Basu Chatterji was a standard bearer of Hindi cinema. A marvelous director and screen-play writer his films stood midway with fully commercial and absolutely art film genres at two ends.. He kept the saga of love with a tinge of civilised comical romance in a  middle class urban family setup  confronting several barriers including a host of social limits. The article on departed soul Basu by Mr. Dhruv Gupt (Retired IPS and an unparalleled litterateur of India.s informative and worthy to read. Though Basu was a big celebrity of our time but his demise should not overshadow the belated death anniversary of the pioneer of Marathi theater Late Anna saheb Kirlowskar. And Rang March is there to present the riveting biography of Mr Annasaheb Kirloskar. Annasaheb died at 42 only but did so much work that people christened him with the epithet like "Pioneer of Marathi theatre". A sensitive poet Mr. Prashant Viplavi has talked abut the life-circle of an old bicycle.  Bicycle is just the axis of the poem in which the poet describe the greed and apathy towards brides. The editor of 'Desaj' Mr. Arun Sheetansh has poeted the pomes of Ms. Mridula Singh. Her poems are on love and the various kinds of challenges faced by the fair sex. We hope you would like them.
….....
संपादकीय (04.6.2020) का हिंदी अनुवाद : बासु चटर्जी हिंदी सिनेमा की श्रेष्ठता के प्रतिमान थे। एक अद्भुत निर्देशक और पटकथा लेखक, वाणिज्यिक और विशुद्ध कला फिल्म शैलियों के बीच की शैली वाले. उन्होंने मध्यम वर्ग के शहरी परिवार के परिवेश में एक सभ्य हास्य रोमांस की साथ प्यार की गाथा रखी, जिसमें कई सामाजिक अड़चनें से सामना भी शामिल था।  श्री ध्रुव गुप्त (सेवानिवृत्त आईपीएस और भारत के एक अप्रतिम साहित्यकार)  का दिवंगत फिल्मकार बासु पर आधारित लेख जानकारीपूर्ण और पढ़ने के योग्य हैं। हालाँकि बासु हमारे समय की एक बड़ी हस्ती थे लेकिन उनके निधन की स्थिति में हम मराठी रंगमंच के अग्रदूत दिवंगत अन्ना साहेब किर्लोस्कर को नजरअंदाज नहीं कर सकते। रंगमार्च हाज़िर है अन्नासाहेब  किर्लोस्कर की जीवनी को प्रस्तुत करने के लिए । अन्नासहब  की मृत्यु केवल 42 वर्ष की आयु में ही हो गई, लेकिन उन्होंने  इतना काम किया कि लोगों ने उन्हें "मराठी रंगमंच का प्रणेता" जैसी उपाधियों से विभूषित किया । एक संवेदनशील कवि श्री प्रशांत विप्लवी ने एक पुरानी साइकिल के जीवन-वृत्त पर चर्चा  की है। साइकिल सिर्फ उस कविता की धुरी है जिसमें कवि ने दुल्हनों के प्रति लालच और उदासीनता की मनोवृति का वर्णन किया है। 'देशज' के संपादक श्री अरुण शीतांश ने  मृदुला सिंह की कविताएँ का वर्णन किया है।  उनकी कविताएँ प्रेम और नारी जीवन से जुड़ी विभिन्न प्रकार की चुनौतियों पर हैं। हमें उम्मीद है कि आप उन्हें पसंद करेंगे।

EDITORIAL (03.6.2020) : .If you are daring to express your views about contemporary poetry even in a capacity of a layman without holding a bulky bunch of post-doctoral degrees alongwith some huge-size badges of super-elite literary associations , you are putting yourself under heavy firing zone of man-of-letters' artillery. Even knowing this I am uttering my statement that contemporary Hindi poetry minus gazals is dipping into greater challenges day-by-day and it is almost ridiculous that it is feeling proud of losing connections from all except the writer's few close-circle friends. Now I pray that all of the narrative placed above is nothing more than an absolute fallacy. Mr. Anchint has posted a wonderful collection of the extremely valuable notes for the literature's students from the live video program of  veteran poet Mr. Krishna kalpit. Mr. Kalpit has talked about the literature 's present journey in post-modern era. Though he has cited many global experts like Lewis, Mathew Arnold Eliot, John Donn etc, his talk basically deliberates Hindi literature in particular. The renowned poet gazal by Mr. Prem Kiran  is again classy in two of the shers (two-liners)  he urges the fighting people to drop their ego and initiate in talk if you really want the problem is resolved. Usually Mr. Sanjay Kumar Kundan writes his gazals with nuanced words chosen from his vast Urdu vocabulary but in the present gazal he has assiduously made the language simple and fluid. He is not less a great poet than Mr. Prem Kiran and each of his gazal is worthy to read especially when you know that it will help you increase your Urdu knowledge as he provided meaning of Urdu words also.. The senior poet Mr. Swapnil Srivastav has also talked about global litterateurs and has mentioned the names of Cumus and Morris. The song by young Kundan Anand is a beatutiful love trail very much needed in crisis time of pandemic. We have listed two videos - Mr. Gaurav Abhyankar's vocal classical is a mellifluous one and Mr. poems recitations by Mr. Rohit Thakur is full of messages and yet in very simple. His poems are successful in making inroads to not only your minds but also to your spirit.
….....
संपादकीय (03.6.2020) का हिंदी अनुवाद : यदि आप समकालीन कविता के बारे में अपने विचारों को व्यक्त करने की हिम्मत कर रहे हैं, यहां तक ​​कि एक आम पाठक के रूप में भी और आपके पास भारी भरकम डिग्रियों के अलावे उच्च अभिजात्य किस्म की कुछ साहित्यिक संस्थाओं के द्वारा प्रदत्त बहुत बड़े आकार का बिल्ला नहीं है तो आप स्वयं को ऐसे महान साहित्यकारों के तोपखाने की ज़द में डाल रहे हैं। यह जानते हुए भी कि मैं अपना कथन दे रहा हूँ कि समकालीन हिंदी कविता (माइनस गज़ल) दिन-ब-दिन अधिक से अधिक चुनौतियों में डूबी जा रही है और यह लगभग हास्यास्पद है कि यह लेखक के कुछ करीबी दोस्तों को छोड़कर सभी से संपर्क खोने पर गर्व महसूस कर रही है। अब मैं प्रार्थना करता हूं कि ऊपर दिए गए सभी कथन एक विशुद्ध भ्रान्ति से अधिक कुछ नहीं हो।  ☘️श्री अंचित ने साहित्य के छात्रों के लिए दिग्गज कवि श्री कृष्ण कल्पित के लाइव वीडियो प्रोग्राम से बेहद मूल्यवान नोट्स का एक अद्भुत संग्रह पोस्ट किया है। श्री कल्पित ने उत्तर-आधुनिक युग में साहित्य की वर्तमान यात्रा के बारे में बात की है। उन्होंने लुईस, मैथ्यू अर्नोल्ड एलियट, जॉन डोन आदि जैसे कई वैश्विक विशेषज्ञों का हवाला दिया है, उनकी बात मुख्यतः हिंदी साहित्य के परिप्रेक्ष्य में बताया है। प्रसिद्ध गज़लगो श्री प्रेम किरण द्वारा ग़ज़ल पेश की गई है जिसमें दो हर ये भी हैं। वह लड़ रहे लोगों से आग्रह करते हैं कि वे अपने अहंकार को छोड़ें और संवाद को शुरू करें यदि आप वास्तव में समस्या का समाधान हो। आमतौर पर श्री संजय कुमार कुंदन अपने विशाल उर्दू शब्दावली से चुने गए शब्दों के साथ अपनी गजलों को लिखते हैं, लेकिन वर्तमान गजल में उन्होंने भाषा को सरल और तरल बनाया है। वह एक अति उच्च श्रेणी केस शायर हैं और उनकी हर गज़ल विशेष रूप से इस लिए भी पढ़ने के योग्य होता है जब आप जानते हैं कि यह आपके उर्दू ज्ञान को बढ़ाने में मदद करेगा क्योंकि वे उर्दू शब्दों के अर्थ भी देते हैं । वरिष्ठ कवि श्री स्वप्निल श्रीवास्तव ने वैश्विक साहित्यकारों के बारे में भी बात की है और कम्यून्स और मॉरिस के नामों का उल्लेख किया है। युवा श्री कुंदन आनंद का गीत एक मनमोहक प्रेम पथ है जो महामारी के इस संकट काल में आपके लिए बहुत आवश्यक है। हमने दो वीडियो सूचीबद्ध किए हैं - श्री गौरव अभ्यंकर की गायकी शास्त्रीय रूप से मेल-मिलाप वाली है और श्री रोहित ठाकुर द्वारा की गई कविताएँ संदेशों से भरी हुई हैं और सुगम भी हैं।.वे न केवल आपके मन को बल्कि आपकी आत्मा का भी अनुरंजन करने में सफल होती हैं।.
... .......


EDITORIAL (02.6.2020) : The first phase of the lockdown period was insipid and almost till the end of one month there were very little cultural activities. Actually people were puzzled how we can stage or preform a cultural activity which any way will require a gathering of fifty or hundreds of people. But sooner than later they got accustomed to this cultural predicament and developed an antibody to combat it. This antibody is called zoom, google meet or such digital platform including equal participation of youtube and facebook videos. And again we witnessed a spurt of cultural activities to such a high level that it was really difficult for the journalists to cover all of them.This is a welcome improvisation and must be supported vigorously. A highly popular poet on national level Mr. Samir Parimal has said, "Tufaan se ghabarana kya / Tufaan se takarana seekh". The link of full gazal is given goday.
Dr. Vinay Kumar is a psychiatrist by profession and is a versatile veteran poet of India. He is a reputed poet in free style poetry but his gazals are also very very intense in feeling and content. Moreover he enjoys an excellent command over Urdu usage. But today we have enlisted his freestyle poem which is unique in it's structure as if it were a Vedic hymn written in Hindi. The senior poet Mr. Harinarayan Singh 'Hari' has talked about his own collection of poems "Aaj ka Yaksha prashn". Though I have not seen the content of this book but am hopeful that it must be full of such songs and rhymes that confronts all the social anomalies and contemporary issues in an straight manner for which he is known. I am thankful to him that in his post he has acknowledged the literary work of this blog. And then there is a gazal by another prolific poet Mr. Kailash Jha Kinkar whose one sher is "Nahi mallah koi hai yahan par / Bina nauka nadi mai tap raha hoon" means - no boatman is being seen here and so I am trying to cross the river without a boat. In this difficult time we have to make our own effort to come over it and not to look at others too much. 
Two audio/ videos are also enlisted today- one is by a veteran artist Mrs. Vibha Rani who has read her story which depicts the journey of a conjugal relationship that passes through different phases of psychological bond. The video by Mr. Madhuresh Narayan is a Coorona song the tune of which is fitted along a very popular movie song. I hope you would enjoy all of them.
….......
संपादकीय (02.6.2020): हिंदी अनुवाद : लॉकडाउन अवधि का पहला चरण फीका सा था और लगभग एक महीने के अंत तक बहुत कम सांस्कृतिक गतिविधियां रहीं । वास्तव में लोग परेशान थे कि हम किसी  सांस्कृतिक गतिविधि को कैसे मंचित या संचालित  कर सकते हैं जिसके लिए किसी भी तरह से पचास या सैकड़ों लोगों की भीड़ की आवश्यकता होगी। लेकिन जल्द ही उन्होंने  इस सांस्कृतिक संकट का मुकाबला करने के लिए एक एंटीबॉडी विकसित की। इस एंटीबॉडी को ज़ूम, गूगल मीट या ऐसे डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म कहा जाता है जिसमें यूट्यूब और फेसबुक वीडियो की बराबर भागीदारी शामिल है। और फिर हमने सांस्कृतिक गतिविधियों का इतना सघन स्तर देखा कि पत्रकारों के लिए उन सभी को कवर करना वास्तव में कठिन था। यह एक स्वागत योग्य बात  है और इसका पुरजोर समर्थन किया जाना चाहिए। राष्ट्रीय स्तर पर एक बेहद लोकप्रिय कवि श्री समीर परिमल ने कहा है, "तूफां से घबराना क्या / तूफां से टकराना सीख"।   पूरी गज़ल का लिंक दिया गया है।
डॉ. विनय कुमार पेशे से एक मनोचिकित्सक हैं और भारत के एक बहुमुखी अनुभवी कवि हैं। वह मुक्त शैली की कविता में एक प्रतिष्ठित कवि हैं लेकिन उनकी गज़लें भी बहुत ही गहन और भावपूर्ण हैं। इसके अलावा वह उर्दू के उपयोग पर भी उन्हें महारत हासिल है। लेकिन आज हमने उनकी मुक्तछंद कविता को शामिल किया है जो कि इस लिहाज़ से अपनी संरचना में अद्वितीय है जैसे कि यह वैदिक ऋचा हो जिसे हिंदी में लिखा गया है। वरिष्ठ कवि श्री हरिनारायण सिंह 'हरि' ने अपने स्वयं रचित कविता संग्रह "आज का यक्ष प्रश्न" के बारे में बात की है। हालाँकि मैंने इस पुस्तक की सामग्री को नहीं देखा है लेकिन मुझे उम्मीद है कि यह ऐसे गीतों और छंदों से परिपूर्ण  होगी जो सभी सामाजिक विसंगतियों और समसामयिक मुद्दों का सीधे तौर पर सामना करती है जिसके लिए वे  जाने जाते हैं। मैं उनका शुक्रगुजार हूं कि उन्होंने अपने लेख में इस ब्लॉग के साहित्यिक कार्य को स्वीकार किया है। और फिर एक और क्षमतावान कवि श्री कैलाश झा किंकर की एक ग़ज़ल है, जिसका एक शेर है "नहीं मल्लाह कोई है यहाँ पर / बिना नौका नदी मैं टप रहा हूँ " (टपना = पार करना)  । इस कठिन समय में हमें स्वयं कठिनाइयों को पार करने के  लिए अपना प्रयास करना होगा और दूसरों की ओर अधिक नहीं देखना होगा।
दो ऑडियो / वीडियो भी आज सूचीबद्ध किए गए हैं- एक हैं अनुभवी कलाकार श्रीमती विभा रानी जिन्होंने उनकी कहानी पढ़ी है, जो एक दाम्पत्य संबंध की यात्रा को दर्शाती है जो मनोवैज्ञानिक बंधन के विभिन्न चरणों से गुजरती है। बहुआयामी कलाकार और साहित्यकार श्री मधुरेश नारायण का वीडियो एक कोरोना गीत है जिसकी धुन एक बहुत लोकप्रिय फिल्म गीत पर बनाई गई है। मुझे उम्मीद है कि आप इन सभी का आनंद लेंगे।

EDITORIAL (01.6.2020) : The musician duo of Sajid-Wazid who gave a number of hit filmy songs and bagged many filmfair awards is broken with one of the two leaving the mortal world. He  was very young and  everyone in Mumbai and whole India is feeling bereaved of an artist who was still rising.Though all of the websites and reputed newspapers/ TV channels are announcing that he was 42 including one of the website who is the only one who mentioned his year of birth. And it is mentioned as 1967 so there is a bit of confusion about his age. Nevertheless he was still very young  and we mourn his death from inner core of our hearts. Rang March has presented a brief but valuable account of the contribution of departed Wazid Ali.
Oh God! What monster you have sent to this earth who has eaten 3.74 human lives just in a matter of two and half months and still is in full rage. Though the recovery rate has improved significantly and there is also a doubtless fall in the death-rate it is expected to take still a huge toll before it diminishes. The Union government as well as the State governments are hard-pressed to lift the lockdown to give an new life to the dead economic activities in the Covid conditions and let them rejuvenate. 
Mr. Ravindra K Das (Delhi), an adept serious poet and an unpredictably romantic poet as well while delivering his gazals (poems) with the softer notes of his heart. I can't resist myself from citing one of his shers - "Wah jo bhi tha so behatar tha / Kaise tilism yah toot gaya" (Howsoever he was, he was good for me in my imagination, Oh how painful is it to say as now I don't have such illusion about him.) His gazal is bond to touch your sentimental chords. The young man but the most watchful man on the progress of contemporary Hindi literature and an exceptionally avid reader of such high-class materials is Mr. Narendra Kumar (Patna) who has posted a poem. He has exposed the hypocrisy of politicians and very meticulously shown that you can't take the name of holy almighty for your unscrupulous activities of criminal nature, let that holy name be uttered by purest of souls who still put belief in the almighty even while living in deplorable condition. Mrs. Sanju Das (Delhi) is a talented artist with her own style of presenting themes that carries some features from Mithila painating but is different from that. She has presented a number of Maithili poems by other poets written on her painting work. Mr. Adarsh Vaibhav is showing some true examples of Likhiya drawing most popular in North Bihar. Dr. Shefalika Verma has posted her video of song in the mellifluous voice of exceptionally talented singer Mrs. Rajani Pallavi (Bangalore).
….......
संपादकीय (01.6.2020): संपादकीय (01.6.2020): साजिद-वाजिद की संगीतकार जोड़ी जिसने कई हिट फिल्मी गाने दिए और कई फिल्मफेयर अवॉर्ड हासिल किए, जिसमें से एक ने नश्वर दुनिया छोड़ दिया। वह बहुत कम उर्म्र के थे और मुंबई ही नहीं  देश भर में हर कोई एक ऐसे कलाकार की कमी महसूस कर रहा है, जो अभी भी उभर रहा था। सभी वेबसाइटों और प्रतिष्ठित समाचार पत्रों / टीवी चैनलों की घोषणा है कि वह 42 साल के थे , जिसमें से एक वेबसाइट भी शामिल है, जो एकमात्र हमारी जानकारी में है जिसने अपने जन्म के वर्ष का उल्लेख किया है। और यह 1967 के रूप में उल्लेख किया गया है इसलिए उनकी उम्र के बारे में थोड़ा भ्रम है। फिर भी वह अभी भी बहुत युवा थे  और हम उनकी मृत्यु का शोक हमें दिल से है। रंग मार्च ने दिवंगत वाजिद अली के योगदान का एक संक्षिप्त लेकिन मूल्यवान विवरण प्रस्तुत किया है।
 हे भगवान! आपने इस धरती पर किस राक्षस को भेजा है जिसने 3.74 मानव जीवन सिर्फ दो और आधे महीने में खाया है और अभी भी पूरे गुस्से में है। हालांकि, बीमारी से ठीक होने की  दर में काफी सुधार हुआ है और मृत्यु दर में भी नि:संदेह कमी हुई है, यह थमने  से पहले अभी भी इसकी बहुत तबाही मचाने की आशंका है। केंद्र सरकार के साथ-साथ राज्य सरकारें कोविड-19 की स्थिति के कारण मृत आर्थिक गतिविधियों को नया जीवन देने के लिए लॉकडाउन को उठाने के लिए कठोर दबाव में हैं। और  उन्हें फिर से जीवंत होने देना चाहिए। 
**श्री रवींद्र के दास (दिल्ली), एक गंभीर गंभीर कवि के साथ साथ उस समय एक अप्रत्याशित रूप से एक बेहद रोमांटिक कवि भी होते  हैं जब अपने दिल के नाज़ुक अहसास के साथ अपनी गजलों को कहते हैं। मैं उनकी एक झलक पेश करने से खुद को रोक नहीं सकता - "वह जो भी था सो बेहतर था / कैसे तिलिस्म वो  टूट  गया"। उनकी गज़ल आपको भावुक कर देगी यह तय है। समकालीन हिंदी साहित्य की प्रगति और इस तरह के उच्च श्रेणी के सामग्रियों के असाधारण रूप से पाठक के रूप में युवा, लेकिन सबसे अधिक जागरूक व्यक्ति श्री नरेंद्र कुमार (पटना) हैं जिन्होंने एक कविता पोस्ट की है। उन्होंने राजनेताओं के पाखंड का पर्दाफाश किया है और बहुत ही सावधानी से दिखाया है कि आप आपराधिक प्रकृति की आपकी कुत्सित गतिविधियों के लिए ईश्वर का नाम नहीं ले सकते हैं, उस पवित्र नाम को आत्मा की पवित्रता से उन लोगों द्वारा बोला जाना चाहिए जो  विकट स्थिति में जीवित रहते हुए भी सर्वशक्तिमान में विश्वास करते हैं। । श्रीमती संजू दास (दिल्ली) एक प्रतिभाशाली कलाकार हैं और विचारों को पेश करने की उनकी अपनी शैली है, हालांकि मिथिला की चित्रकला शैली से कुछ बातें मिलती हैं पर फिर भी वे इससे अलग हैं। उन्होंने कई अन्य कवयित्रियों की  मैथिली कविताओं को एकत्रित रूप से पोस्ट किया है जिन्होंने उनकी  पेंटिंग से प्रेरित होकर लिखा है। श्री आदर्श वैभव, उत्तर बिहार में  लोकप्रिय लिखिया चित्रकला के कुछ सच्चे उदाहरण दिखा रहे हैं। डॉ। शेफालिका वर्मा ने असाधारण प्रतिभाशाली गायिका श्रीमती रजनी पल्लवी (बंगलौर) की मधुर आवाज़ में अपने गीत का अपना वीडियो पोस्ट किया है।
... .......

EDITORIAL (31.5.2020)  Friends, good or bad can never be symbolised by particular persons. We are not dipping into even a deeper discussion whether good or bad are themselves defined or not. Even if we assume they are they can never by epitomised in a single person. Either he may be Mahatma Gandhi or Adolf Hitler, both of them possessed some good things and some bad traits. Though or course a person is and should be characterised as an adorable or a despicable one depending upon the number of actions they took and the good or bad effects they cast over the world. And this is why Mahatma Gandhi is an adorable saint and Adolf Hitler is a symbol of 'Saitan. Still, we should rest assured that even Mahatma must have done some wrongs might be very insignificant ones and Hitler would also have done some good might be matching insignificant ones. So, while discussing on the policies implemented in of any country we must think the actions and not the man behind it. A man can be overall good or bad one but some of his actions may show exception in your expected set of opinions. And we should never declare a good action as a bad one just because we might not like a person and vice-versa.
Rang March has accounted the contribution of Rituparno Ghosh, the celebrated Bangla filmy director who gathered 12 National Film Awards to his credit. His vocal 'queer' status is also talked about. The gazals by a poet of national reckoning Mr. Sanjay Kumar Kundan are all valuable in terms of their depth of outlook and the beauty of Urdu 'terms' used in them. Mr. J. P. Saharanpuri is a young poet but his piece of gazal is mature must be fit on meter considerations I am sure. Another veteran writer of national fame in this list is Mr. Shahanshah Alam who has posted his views on the poetry of celebrated Hindi poet Mr. Naresh Agrawal. A link of the capsule talk between father and son by Hemant Das 'Him' is also given which represent the views given in the first para above.
We have listed 3 videos which have been uploaded by Mr. Dhruv Gupt, Mr. Ghanashyam and Mr. Narendra Pundarik. Mr Gupt is a litterateur of iconic stature in India and each of his poems are just the extreme of poignancy. Mr. Ghanshyam is a senior poet who is very respected in Bihar for his simple gazal style that are always face-to-face with contemporary issues except those that are purely in romantic context. The poem by Mr. Narendra Pundrik is an honest commentary on today's mothers and yes it is a moving poem.
….......
संपादकीय (31.5.2020): मित्रों, अच्छे या बुरे के लिए विशेष व्यक्तियों को कभी भी प्रतीक नहीं बनाया जा सकता। हम इस बात पर भी गहराई से चर्चा नहीं करेंगे कि अच्छा या बुरा स्वयं ही परिभाषित किये जा सकने योग्य हैं या नहीं। यहां हम मान रहे हैं कि वे परिभाषित हैं तो भी वे एक व्यक्ति द्वारा प्रतिचित्रित नहीं कर सकते हैं। यहाँ तक कि महात्मा गांधी हो या एडोल्फ हिटलर, दोनों के पास कुछ अच्छी चीजें और कुछ बुरे लक्षण थे। हालांकि बेशक एक व्यक्ति, एक आराध्य या नीच के रूप में चित्रित किया जाना चाहिए जो उनके द्वारा किए गए कार्यों की संख्या और दुनिया पर उनके द्वारा डाले गए अच्छे या बुरे प्रभावों के आधार पर होता है। और यही कारण है कि महात्मा गांधी एक आराध्य संत हैं और एडॉल्फ हिटलर 'शैतान' की छवि है। लेकिन फिर भी हमें निश्चिंत रहना चाहिए कि महात्मा ने भी कुछ गलतियाँ की होंगी, जो बहुत ही नगण्य हो सकती हैं और हिटलर ने भी कुछ अच्छा किया होगा जो कि वैसे ही नहीं के बराबर रहे होंगे। इसलिए, किसी देश में लागू की गई नीतियों पर चर्चा करते समय हमें कार्यों के बारे में सोचना चाहिए, न कि इसके पीछे के आदमी के बारे में। एक आदमी समग्र रूप से अच्छा या बुरा हो सकता है लेकिन उसके कुछ कार्य आपके अपेक्षित विचारों में अपवाद दिखा सकते हैं। और हमें कभी भी एक अच्छी कार्रवाई को एक बुरे के रूप में घोषित नहीं करना चाहिए इस आधार पर कि हम एक व्यक्ति को पसंद नहीं कर सकते हैं और इसके विपरीत भी।
रंग मार्च ने प्रसिद्ध बांग्ला फिल्म निर्देशक रितुपर्णो घोष के योगदान का लेखा-जोखा रखा है, जिन्होंने अपनी झोली में 12 राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार एकत्र किए। उनके द्वारा मुखर रूप  से स्वीकार की गई उनकी 'क्वीयर' (असामान्य लैंगिक रुझान वाले व्यक्ति) प्रवृति के बारे में भी चर्चा है। राष्ट्रीय स्तर के प्रतिष्ठित ग़ज़लगो श्री संजय कुमार कुंदन की सभी गज़लें उनके दृष्टिकोण की गहराई और उनमें प्रयुक्त उर्दू 'शब्दों' की सुंदरता के मामले में  मूल्यवान हैं। श्री जे. पी. सहारनपुरी एक युवा कवि हैं लेकिन उनकी गज़ल का का यह नमूना परिपक्व है, 
और मैं समझता हूँ कि ग़ज़ल कि वज़्न, मीटर और अन्य पैमानों पर ये उपयुक्त होंगे। इस सूची में राष्ट्रीय ख्याति के एक अन्य दिग्गज लेखक श्री शहंशाह आलम हैं जिन्होंने हिंदी कवि श्री नरेश अग्रवाल की कविता पर अपनी विवेचना लगाई है। हेमंत दास 'हिम' द्वारा पिता और पुत्र के बीच कैप्सूल आकार की बातचीत का लिंक भी दिया गया है, जो ऊपर दिए गए पहले पैरा में दिए गए विचारों का प्रतिनिधित्व करता है।
हमने 3 वीडियो सूचीबद्ध किए हैं जो श्री ध्रुव गुप्त, श्री घनश्याम और श्री नरेंद्र पुंडरिक द्वारा अपलोड किए गए हैं। श्री गुप्त भारत के बहुत ऊंचे कद के साहित्यकार हैं और उनकी हर कविता अनिवार्यत: मार्मिकता का चरम है। श्री घनश्याम एक वरिष्ठ कवि हैं जो बिहार में अपनी सरल गज़ल शैली के लिए बहुत सम्मानित हैं जो हमेशा समकालीन मुद्दों के साथ आमने-सामने होते हैं सिवाय उन शे'रों के जो रोमांटिक संदर्भ में हैं। श्री नरेन्द्र पुंड्रिक की कविता आज की माताओं पर एक ईमानदार टिप्पणी है और उनके शब्द हिला देनेवाले हैं।


EDITORIAL (30.5.2020) The man who wrote the masterpieces like "Kahin dur jab din dhal jaye, Zindgi kaisi hai paheli and Rimjhim gire savan" is not more now. He preferred to the eternal abode on 29th of this month.Such lyricists do not merely write songs they fill the lives of their crores of fraternity with pristine love forever absolutely aloof from malice and safe from corrosion over time. Hindi might be a bone of contention in non-Hindi belt but Hindi filmy songs have never been because of their unparalleled musicians, singers and lyricist. Though that golden era has become past as the new generation of age 25 or less do not understand what is the real taste of Indian melody as no such magical combination existed after 90s or so. Our India is 'bejod' (unmatched) in the world because of its own essence of art and the songs of Yogesh used a language that was dominated by sanskrit-origin words but never felt shy of using Arabic-Persian words most in vougue among the vast populace of India. We salute this departed holy soul who has bestowed us with priceless asset that will never let us feel down even in the midst of the fieriest outbreak of global demon like Corona. A renowned litterateur Mr. Sadre Alam Gauher used to meet Yogesh very now and often. His link contains his memoir with Yogesh and a memorable photograph with him. 
Mr. Pankhuri Sinha has posted translation of a poem of Israeli poet Tali Weiss who presents some beautiful vignettes of feminine romanticism. A senior poet Mr. Swapnil Srivastava is trying to invent beauty out of the wrath prevailing all around. And his quest is so intense that "even if I am killed at your hands, people should remember this as a beautiful memory." Though the reader may confuse it to be a satire the poet makes it saintly clear that he is really discovering beauty in true sense and not aiming on someone. If pity arises in someone's heart then it is well and good but that is not the  essential aim of the poet. Mr. Harinarayan Singh 'Hari' has assiduously made an attempt to present a pleasant ambiance even in face of global pandemic. And when all are down then someone must come to lift them to a desirable normal and so it is commendable. Again the beauty of Sagar Anand's gazal is even though keeping itself like a simplest conversation you can imagine, it raises several contemporary issues successfully and yet soothes you with romantic flavour in many of it's sher. I am presenting one of them that suits the case of Covid scenario -   "Dard ka dard bas yahi itna/ Dard bhi dard ki dawa chaahe" It means the the pain of this pain (Corona) is such that even it is searching for an ointment for itself. 
Take care all of our loving friends!
संपादकीय (30.5.2020):) जिस  व्यक्ति ने "कहीं दूर जब दिन ढल जाए", "जिंदगी कैसी है पहेली" और "रिमझिम गीर सावन" जैसे गीतों को लिखा है, वह अब नहीं है। उन्होंने इस महीने की 29 तारीख को शाश्वत निवास को चुन लिया। ऐसे गीतकार सिर्फ गीत नहीं लिखते बल्कि अपने करोड़ों  देशवासियों  के जीवन को समयानुकूल क्षय से पूरी तरह सुरक्षित रखते हुए विशुद्ध प्रेम से भरते हैं। हिंदी, गैर-हिंदी राज्यों में विवादका कारण हो सकती है, लेकिन हिंदी फिल्मी गीत कभी भी अद्वितीय संगीतकारों, गायकों और गीतकारों के कारण विवाद में कभी नहीं रही। हालांकि, वह स्वर्ण युग 25 वर्ष की उम्र तक की नई पीढ़ी के लिए अतीत बन गया है। उन्हें समझ में नहीं आता है कि भारतीय संगीत का असली आनंद क्या है क्योंकि 1990 के दशक या उसके बाद ऐसा कोई अद्भुत लयपूर्ण संगीत वाला वह संयोग मौजूद नहीं रहा। हमारा भारत 'बेजोड' है वैश्विक कला के अपने सत्व के कारण और योगेश के गीतों में एक ऐसी भाषा का इस्तेमाल किया गया था जिस पर संस्कृत-मूल शब्दों का प्रभाव था, लेकिन अरबी-फारसी शब्दों का उपयोग करने से कभी भी हिचके नहीं, जो भारत की विशाल आबादी में सबसे लोकप्रिय है।  इसने हमें बेशकीमती संपत्ति दी है जो हमें कोरोना जैसे वैश्विक दानव के सबसे भयंकर प्रकोप में भी कभी निराश नहीं होने देगा। एक प्रसिद्ध साहित्यकार श्री सदरे आलम गौहर,  अक्सर योगेश से मिलते थे। उनके लिंक में योगेश के साथ उनका संस्मरण और उनके साथ एक यादगार तस्वीर है।
श्री पंखुरी सिन्हा ने इज़राइली कवि ताली वीस की एक कविता का अनुवाद पोस्ट किया है जो स्त्रैण प्रेम के कुछ सुंदर शब्दचित्रों को प्रस्तुत करता है। एक वरिष्ठ कवि श्री स्वप्निल श्रीवास्तव चारों ओर पसरी हुई आपदाओं में सौंदर्य का आविष्कार करने की कोशिश कर रहे हैं। और अन्वेषण इतना गहन है कि "भले ही मैं आपके हाथों मारा जाऊँ, लोगों को इसे एक सुंदर स्मृति के रूप में याद रखना चाहिए।" यद्यपि पाठक इसे व्यंग्य होने जैसा भ्रम हो  सकता है, कवि इसे अंत में स्पष्ट करता है कि सचमुच पवित्र अर्थों में सौंदर्य की ही खोज कर रहा है और किसी पर लक्ष्य नहीं कर रहा है। अगर किसी के दिल में करुणा पैदा होती है तो यह  और अच्छा है लेकिन यह कवि का आवश्यक उद्देश्य नहीं है। श्री हरिनारायण सिंह 'हरि' ने वैश्विक महामारी की परिथिति में भी सुखद माहौल प्रस्तुत करने का प्रयास किया है। लोग जब निराश  होते हैं, तो उन्हें किसी वांछित सामान्य तक उठाने के लिए किसी को आना चाहिए और इसलिए यह सराहनीय है। फिर से सागर आनंद की गज़ल की खूबसूरती अपने आप में एक सरलतम वार्तालाप की तरह है जिसकी आप कल्पना कर सकते हैं पर यह कई समसामयिक मुद्दों को सफलतापूर्वक उठाता है और साथ ही आपको इसमें से कई में रूमानी पहलुओं से रूबरू भी कराता है। मैं उनमें से एक कोविड परिदृश्य के मामले में उपयुक्त को प्रस्तुत कर रहा हूं - "दर्द का दर्द बस यही इतना / दर्द भी दर्द की  दवा चाहे"।
हमारे सभी प्यारे दोस्त! अपना  ख्याल रखिए!

EDITORIAL (29.5.2020) : A few days back one of my poet friend who is not only a poet of national stature but has also made a record of sort by clearing BPSC exam final after a preparation spanning in 26 years, said that he is feeling an impression like the Titanic of the whole world is sinking. He uttered this in the backdrop of Corona crisis. He might be true at least partially as yet there is no solution of it specially in the case of old and people with co-morbid conditions. But friends, I tell you that time can be the biggest 'be-wafaa' (untrustful) in your life but you can never. You have to love yourself till your last breath otherwise your whole life turns into a frightening nightmare. It is only when we keep ourselves well-humoured, energized and active that we can keep ourselves safe while taking utmost care to elderly people. When old people need your help you should never do anything that makes your self a helpless one. Be cognizant of the seriousness of the pandemic and yet look like a normal and nonchalant one. One advice I wanted to give you that this disease is the most fatal for people of more than 60 years of age or those who are suffering from chronic diseases. So let all of such relatives untouched by other members in the family till a vaccine really is in the offing. 
Each 'sher' (two-liner) in the gazal (poem) of Mr. Prem Kiran introduces you to a philosophical proposition vital for the life. The gazal of Mrs. Zeenat Sheikh presents some beautiful perspectives in romanticism. Mr. Shahanshah Alam is a representative poet in contemporary Hindi literature. His poem makes an effort to safeguard the citizens from beguiling tactic of those you put trust upon and thus make the land safe for everyone. While the well-known poet Mr. Bhagwat Animesh's poem is calling his loved one with a heart brimming with soft feelings the poem by Mr. Hemant Das Him' is also poignant written in the context of the most disgusting and unfortunate separation from his only issue  (little daughter). 
संपादकीय (29.5.2020): कुछ दिन पहले मेरे एक कवि मित्र, जो न केवल राष्ट्रीय कद के कवि हैं, बल्कि 26 वर्षों तक प्रयासरत रहने के बाद बि.लो.से.आ. की परीक्षा पास करने का एक रिकॉर्ड बनाया है, ने कहा कि वह महसूस कर रहे हैं पूरी दुनिया एक टाइटैनिक जहाज जैसे डूब रहा है। उन्होंने कोरोना संकट की पृष्ठभूमि में यह कहा। वह कम से कम बहुत आंशिक रूप से सही हो सकता है क्योंकि अभी तक इसका कोई समाधान नहीं है विशेष रूप से पुराने और सह-रुग्ण परिस्थितियों वाले लोगों के मामले में। लेकिन दोस्तों, मैं आपको बताता हूं कि समय आपके जीवन में सबसे बड़ा 'बेवफ़ा' हो सकता है लेकिन आप नहीं। आपको अपनी आखिरी सांस तक खुद से प्यार करना होगा अन्यथा आपका पूरा जीवन एक भयावह दुःस्वप्न में बदल जाएगा। खुद को  सुव्यवस्थित, उर्जावान और सक्रिय रखते हुए ही आप बुजूर्ग लोगों की अत्यंत सावधानी पूर्वक देखभाल कर पाएंगे । जब बूढ़े लोगों को आपकी सहायता की आवश्यकता होती है, तो आपको कभी भी ऐसा कुछ नहीं करना चाहिए जो स्वयं आपको असहाय बना दे। महामारी की गंभीरता के प्रति सजग रहें और साथ ही सामान्य और चिंतामुक्त दिखें। एक सलाह जो मैं आपको देना चाहता हूं कि यह बीमारी 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों या पुरानी बीमारियों से पीड़ित लोगों के लिए सबसे घातक है। तो ऐसे सभी रिश्तेदारों को परिवार के अन्य सदस्यों द्वारा अछूता रहने दें, जब तक कि टीका वास्तव में उपलब्ध न हो जाए।
श्री प्रेम किरण की गज़ल में प्रत्येक 'शेर' जीवन के एक दार्शनिक पहलू के साथ परिचय करता है। श्रीमती ज़ीनत शेख की गज़ल रूमानियत भरे कुछ सुंदर ख्यालात पेश करती है। श्री शहंशाह आलम समकालीन हिंदी साहित्य के प्रतिनिधि कवि हैं। उनकी कविता नागरिकों को उन लोगों की भ्रामक रणनीति से बचाने का प्रयास करती है जिन पर आप भरोसा करते हैं और वो इस  से तरह से पूरे क्षेत्र को सभी के लिए सुरक्षित बनाते हैं। जबकि जाने-माने कवि श्री भागवत अनिमेष की कविता अपने प्रियतम को कोमल भावनाओं से ओत-प्रोत ह्रदय के साथ बुला रहे  है वहीं श्री हेमंत दास 'हिम' की उनकी एकमात्र संतान (छोटी बेटी) से सबसे अनचाहे और दुर्भाग्यपूर्ण अलगाव के संदर्भ में लिखी गई मार्मिक है।

EDITORIAL (28.5.2020): Corona pandemic is the biggest crisis in the recent human history. At least I do not remember such a large number of deaths in such a little time-span for a single reason since last 45 years. We have put the links of Covid+19 cases on our Corona Links page and we see that 3.56 lakh people have died worldwide within a span of just less than five months out of this. Our PM took a welcome decision to announce Lockdown very early and this is a reason that we have still only 4531 cases of death in India from Covid. But the story does not end here. In fact the tale of sufferings of the people at lowest strata of our country begins here. Tens of lakhs of people were snatched sways of their jobs of daily wages abruptly and their employers mostly civil contractor's agent type people did not care even to pay their final salary which have become due. The landlords ordered them to vacate their houses for want of payment of rent and these helpless lot who were of mammoth size like dozens of lakh were compelled to walk on foot hundred-thousand kms or to take some do-somehow vehicle like auto-ricksaw, truck or tractor. Many of them died in this unbearable sort of home journey not because of Covid but out of hunger, thirst and tiredness. We do not think it proper to put blame on somebody but it must be mulled over by the Central govt, State govt, employers other stakeholders and common citizens as what went wrong and whether they took everything into their account that were desirable. The poems of Mr. Rohit Thakur, Mr. Mircea Dan Duta (a Czech poet translated by Ms. Pankhuri Sinha) and Dr. Manohar Abhay are hardly poems. Their are real-life commentary which are so tragic that hardly can be believed if the reader is someone else than a person of this time.All of them are moving ones and provoke you to do something for theses truly destitute, The Union as well as the State governments are doing their most but the sheer mind-boggling size of these people can not be managed so easily without help of the whole population of the country.
The childhood memoir of Mr. Swapnil Srivastava with another renowned poet and also dramatist Mr. Ravindra Bharti is interesting and will help you cool down in this tragic time. The love poem of Mr. Prakash Ranjan 'Shail' , a young writer will also suit your fancy. And there is even more, that is a video by Kavya-Katha in which Mr. Manoj Manave has presented a poem and a real story created by other talented people. These creations re-defines the conjugal relationship which are fragile and yet never ending.
सम्पादकीय (अनुवाद) 28.5.2020: कोरोना महामारी हाल के मानव इतिहास में सबसे बड़ा संकट है। कम से कम मुझे याद नहीं है कि पिछले 45 सालों से एक ही कारण से इतनी छोटी अवधि में इतनी मौतें हुई हों। हमने अपने कोरोना लिंक्स पेज पर कोविड-19 मामलों के आंकड़ों  के लिंक डाल दिए हैं और हम देखते हैं कि दुनिया भर में 3.56 लाख लोग इस महामारी से पांच महीने से भी कम समय में ही मर चुके हैं। हमारे प्रधानमंत्री  ने लॉकडाउन की शीघ्र घोषणा करने का बहुत स्वागतयोग्य कार्य किया और यह एक कारण है कि हमारे पास अभी भी भारत में कोविड से मौत के केवल 4531 मामले हैं। लेकिन कहानी यहीं खत्म नहीं होती है। वास्तव में हमारे देश के सबसे निचले तबके के लोगों की पीड़ा की कहानी यहीं से शुरू होती है। लाखों लोगों को दैनिक मजदूरी का अपना रोजगार  अचानक छीन लिया गया था और उनके नियोक्ता ज्यादातर सिविल ठेकेदार के एजेंट प्रकार के लोगों ने उन्हें  अंतिम वेतन का भुगतान करने की भी परवाह नहीं की जो उन्हें देय हो गए थे। मकानमालिकों  ने उन्हें किराए के भुगतान न कर पाने पर घर खाली करने का आदेश दे दिया और ये असहाय लोग जो लाखों में एक  विशाल आकार के थे, सैकड़ों या हजार से ज्यादा किमी भी पैदल चलने या ऑटो-रिक्शा, ट्रक या ट्रैक्टर जैसे कुछ जुगाड़ वाले वाहन लेने के लिए मजबूर हुए। उनमें से कई कोविड की वजह से नहीं बल्कि भूख, प्यास और थकान के कारण घर जाने की इस असहनीय तरह की यात्रा में मारे गए। हम किसी पर दोष लगाना उचित नहीं समझते हैं, लेकिन इस पर केंद्र सरकार, राज्य सरकार, नियोक्ताओं, अन्य हितधारकों और आम नागरिकों द्वारा विचार करना चाहिए कि क्या गलती हुई और क्या उन्होंने वो सारे कार्य किये जो वांछनीय थे। श्री रोहित ठाकुर, श्री मिरका दान दूता (पंखुरी सिन्हा द्वारा अनुवादित एक चेक कविता) और डॉ. मनोहर अभय की कविताएँ शायद ही कविताएँ हैं, ये तो  उनका आँखों देखा हाल है जो इतनी दुखद है कि शायद ही विश्वास किया जा सकेगा यदि पाठक इस समय का व्यक्ति  के अलावा कोई और है। उनमें से सभी हिला देनेवाली हैं और आपको प्रेरित करती है कि वे वास्तव में निराश्रित, बेरोजगार और अब एक तरह से सामाजिक अनाथ  जनसंख्या के लिए कुछ करें। केंद्र और राज्य सरकारें भी अपना पूरा प्रयास कर रही हैं, लेकिन इन लोगों के विशालकाय आकार को देश की पूरी आबादी की मदद के बिना इतनी आसानी से सम्भाला नहीं जा सकता है।वरीय कवि श्री स्वप्निल श्रीवास्तव का बचपन का संस्मरण एक अन्य प्रसिद्ध कवि और नाटककार श्री रवींद्र भारती के साथ दिलचस्प है और यह दुखद समय में आपको शांत  करने में मदद करेगा। एक युवा लेखक श्री प्रकाश रंजन 'शैल ’ की प्रेम कविता भी आपको रूचिकर लगेगी। और तो और, यहां तक ​​कि काव्य-कथा का एक वीडियो भी है जिसमें श्री मनोज मानव ने अन्य प्रतिभाशाली लोगों द्वारा रचित एक कविता और एक सत्यकथा  प्रस्तुत की है। ये रचनाएँ दाम्पत्य संबंधों को फिर से परिभाषित करती हैं जो नाजुक तो होते हैं और फिर भी कभी समाप्त नहीं होते हैं।

EDITORIAL (27.5.2020): We are living in a transitory world. The relationship, trust and even the values are ephemeral. This has been so since time immemorial the only undesirable and somewhat obnoxious change we have witnessed in post-independence India is that we have lost our basic ideals. The objective of freeing our country went after the withdrawal of British Rule and it took away all of our morals and values. In absence of towering leaders like Mahatma Gandhi, Subhash Chandra Bose, we are lately a confused lot and do not understand what is good and what is bad. This is the biggest ideological crisis  humanity can face. The poem of Mr. H. D. 'Him' expresses it with a comical tinge. 
The article by Rang March has jotted down the creative life of Late  Ram Nivas Sharma, a prolific poet in Hindi and Magahi in recent past. Mr. Sagar Anand is a wonderful poet (gazalgo) whose style is suave and still purposeful. He talks about conjugal love and still cling to contemporary issues though in a suggestive manner. Mrs Sanju Das has been successful in carving out a niche for herself in terms of style of painting. Her painting is a beautiful synthesis of traditional Mithila Painting and modern style. 
The videos of Ms. Savita Garg ' Savi' and Mr. Ishwar Karun are melodious and soothing. While Savi has given some messages also in her poetry , Mr. Karun has succeeded in presenting the true disposition of a common person in the present lockdown period. 
हिंदी अनुवाद - संपादकीय (27.5.2020)  हम एक परिवर्तनशील दुनिया में रह रहे हैं। संबंध, विश्वास और यहां तक ​​कि मूल्य अल्पकालिक हो  गए  हैं। यद्यपि यह अवांछनीय और कुछ हद तक अप्रिय बात अनादिकाल से चली आ रही है पर हमने आजादी के बाद के भारत में देखा है कि हमने अपने मूल आदर्शों को खो दिया है। हमारे देश को मुक्त करने का उद्देश्य ब्रिटिश शासन की वापसी के बाद चला गया और इसने हमारे सभी नैतिक और जीवन सम्बन्धी मूल्यों को छीन लिया। महात्मा गांधी, सुभाष चंद्र बोस जैसे नेताओं की अनुपस्थिति में, हम वर्तमान में एक उलझन में हैं और समझ में नहीं आता है कि क्या अच्छा है और क्या बुरा है। यह सबसे बड़ा वैचारिक संकट है जिसका मानवता सामना कर सकती है। श्री हे. दास 'हिम' की कविता इसे एक हास्यपूर्ण रंग में व्यक्त करती है।
रंग मार्च के लेख ने हाल के दिनों में हिंदी और मगही के प्रख्यात कवि स्वर्गीय राम निवास शर्मा के रचनात्मक जीवन को रखा है। श्री सागर आनंद एक अद्भुत कवि (गज़लगो) हैं, जिनकी शैली सहज है और फिर भी उद्देश्यपूर्ण है, श्रृगार- प्रेम के बारे में बात करती है और फिर भी एक समसामयिक तरीके से समकालीन मुद्दों से जुड़ी हुई है। श्रीमती संजू दास चित्रकला की शैली के मामले में अपने लिए एक जगह बनाने में सफल रही हैं। उनकी पेंटिंग पारंपरिक मिथिला पेंटिंग और आधुनिक शैली की सुंदर रचना है।
सुश्री सविता गर्ग 'सावी' और श्री ईश्वर करुण के वीडियो मधुर और आनंददायक हैं। जहां  सावी ने अपनी कविता में कुछ संदेश भी दिए हैं, श्री करुण ने एक आम व्यक्ति के सच्चे मिजाज़ को लॉकडाउन अवधि में प्रस्तुत करने में सफलता प्राप्त की है।

EDITORIAL  (26.5.2020): Literary pursuit is not an end in itself neither it absolves a citizen from all of its responsibilities. It is merely one of the instruments that bring positive changes to the society. If you find the people in society are facing injustice or sufferings then writing merely will not suffice. You should think to take concrete action like taking legal or other actions as allowable under the laws of the land. You need to give bread to your neighbour if they are hungry and not just write poem and feel free. Read the poem by Mr. Mohan Kumar Nagar who is an anesthetist in MP. 
Mr. Prem Kiran is a veteran poet (gazalgo) who has posted his signature poem (gazal) and writes that the heart of a sensitive person is like a pin-cushion who has to bear innumerable bruises made by near and dear ones. In another sher (two-liner) he exposes the hypocritical nature of sympathetic stances of people at large. Mr. Rohit Thakur is a young poet who is a maestro in innovative poetry. He merely defines a word and you are surprised what an unforeseen way of looking at the matter! But he knows well that containing a 'Wow' factor merely is rubbish until it takes you in a pensive mood. In the present instance he has defined the term 'aag' in different contexts that ultimately takes you to marketeering vx humanitarian debate. Mr. Harinarayan 'Hari' is a senior poet who basically writes in rhymes. In the present song, he has dealt with the issue of typical agency problem in political representatives with a particular context of the oppressed class. The video of gazal by Mr. Avanish Dixit 'Divya' is a simplistic and yet apt in the prevailing conditions in view of keeping up the morale of populace facing frightening Covid19 conditions.
I wish you will like all of them. Take care.
हिंदी अनुवाद - संपादकीय (26.5.2020):साहित्यिक कर्म अपने आप में कोई अंतिम लक्ष्य नहीं है और न ही वह एक नागरिक को उसकी सभी जिम्मेदारियों से मुक्त करता है। यह केवल उन उपकरणों में से एक है जो समाज में सकारात्मक बदलाव लाते हैं। यदि आप पाते हैं कि समाज में लोग अन्याय या कष्टों का सामना कर रहे हैं, तो केवल लिखना पर्याप्त नहीं होगा। आपको देश के कानूनों के तहत कानूनी या अन्य  ठोस कार्रवाई करने के लिए सोचना चाहिए। आपको अपने पड़ोसी को रोटी देने की ज़रूरत है यदि वे भूखे हैं नकि सिर्फ कविता लिखकर आप अपने दायित्व से मुक्त हो जाए हैं।श्री मोहन कुमार नागर की कविता पढ़ें जो मप्र में एक चिकित्सक है।
श्री प्रेम किरण एक अनुभवी कवि (गजलगो) हैं जिन्होंने अपनी हस्ताक्षर कविता (गज़ल) पोस्ट की है और लिखते हैं कि एक संवेदनशील व्यक्ति का दिल एक पिन-कुशन की तरह होता है जिसे अपने प्रिय और नजदीकी लोगों  द्वारा दी गई असंख्य चोटों को सहन करना पड़ता है। एक अन्य शेर में  वह बड़े पैमाने पर लोगों के पाखंडी स्वभाव सहानुभूतिपूर्ण रुख को उजागर करते हैं। श्री रोहित ठाकुर एक युवा कवि हैं जो अपनी अभिनव कविता के स्वामी  हैं। वे केवल एक शब्द को परिभाषित करते हैं और आपको आश्चर्य होता है कि किसी मामले को देखने का अप्रत्याशित क्या तरीका है! लेकिन यह कवि अच्छी तरह से जानता है कि केवल चकाचौंध उत्पन्न करना तब तक व्यर्थ है जब तक कि यह आपको एक संवेदनशील स्थिति में नहीं ले जाता। वर्तमान उदाहरण में उन्होंने विभिन्न संदर्भों में एक शब्द 'आग' को परिभाषित किया है जो अंततः मानवीयता बनाम विपणन वाले मुद्दे पर विचार करने के लिए आपको ले जाता है। श्री हरिनारायण 'हरि' एक वरिष्ठ कवि हैं जो मूल रूप से छंद में लिखते हैं। वर्तमान गीत में, उन्होंने उत्पीड़ित वर्ग के एक विशेष संदर्भ के साथ प्रतिनिधियों की स्वार्थ की समस्या के मुद्दे को अभिव्यक्त किया है। श्री अवनीश दीक्षित 'दिव्य ’द्वारा गजल का वीडियो भयावह कोविड- 19 की परिस्थितियों का  सामना कर रहे जन-आबादी के मनोबल को बनाए रखने के लिहाज से एक सरल लेकिन उपयुक्त रचना है।
मैं समझता हूँ कि आप उन सभी को पसंद करेंगे। कृपया अपना ख्याल रखिए।

EDITORIAL (25.5.2020): Friends! A very very happy Eid to you! 
This Eid is different perhaps in human history as this time people are not allowed to congregate in mosques for offering prayers in view of the spread of Corona. This is pleasant to witness that all the people are cooperating with the government on containment measures of the pandemic.
** Mr. Kailash Jha Kinkar is an authority in the field of rhymes and has beautifully attempted to strengthen the ethos of harmony through his poem (gazal). Mr. Swapnil Srivastava (UP) is renowned figure in contemporary Hindi poetry and so is Mr. Sheo Dayal. Whereas Mr Srivastava tries to sketch the literary image of another doyen Late Bhagwat Rawat in Hindi poetry while presenting one of his signature poem, Mr. Dayal (Bihar) has shown his prowess in presenting a single word 'baat' (issue of talk) in staggering dozens of different contexts. Poet Rishi Kumar is comparatively very young but not his poetry. He delineates the pains of returning migrant labourers without blaming anyone. The poem is very dense while giving a vent to the pains of the helpless people who are in fact the real makers of India even though demands merely their livelihood and not the  credit of their actual contribution. Kala Jagaran has posted a video of full play performance 'Kankaal". The play is written by legendary writer Ravindra Nath Tagore.
We hope you will enjoy all of them.
हिंदी अनुवाद - संपादकीय (25.5.2020): दोस्तों! आपको ईद की बहुत बहुत शुभकामनाएं!
यह ईद मानव इतिहास में शायद अलग है क्योंकि इस बार लोगों को कोरोना के प्रसार को देखते हुए नमाज अदा करने के लिए मस्जिदों में एकत्र होने की अनुमति नहीं है। यह देखना सुखद है कि सभी लोग महामारी के रोकथाम के उपायों पर सरकार के साथ सहयोग कर रहे हैं।
** श्री कैलाश झा किंकर छंद काव्य के क्षेत्र में एक अधिकारी हैं और उन्होंने अपनी गज़ल के माध्यम से सौहार्दपूर्ण लोकाचार को मजबूत करने का सुंदर प्रयास किया है। श्री स्वप्निल श्रीवास्तव (यूपी) समकालीन हिंदी कविता में प्रसिद्ध व्यक्ति हैं और वैसे ही श्री शिव दयाल भी हैं। जहाँ श्री श्रीवास्तव ने हिंदी कविता के एक और महारथी स्व. भगवत रावत की साहित्यिक छवि को चित्रित करने की कोशिश की है उनकी एक प्रतिनिधि कविता के साथ वहीं श्री दयाल (बिहार) ने एकल शब्द 'बात' को दर्जनों भिन्न संदर्भ में प्रस्तुत करने का चौंका देनेवाला प्रदर्शन किया है । कवि ऋषि कुमार तुलनात्मक रूप से बहुत युवा हैं लेकिन उनकी कविता नहीं। वह प्रवासी मजदूरों के लौटने के दर्द को बिना किसी को दोषी ठहराए चित्रित करते हैं। यह सघन कविता उन असहाय लोगों के दर्द को बाहर निकालता है जो वास्तव में भारत के असली निर्माता हैं और केवल अपनी आजीविका की मांग करते हैं न कि अपने वास्तविक योगदान का श्रेय चाहते हैं। कला जागरण ने पूर्ण नाटक प्रदर्शन 'कंकाल' का एक वीडियो पोस्ट किया है। इस नाटक को महान लेखक रवींद्र नाथ टैगोर ने लिखा है।
हमें उम्मीद है कि आप इन सभी का आनंद लेंगे।


No comments:

Post a comment

Now, anyone can comment here having google account. // Please enter your profile name on blogger.com so that your name can be shown automatically with your comment. Otherwise you should write email ID also with your comment for identification.